Doctrines of jainism | मूल जैन सिद्धांत

जैन धर्म की उत्पत्ति के साथ ही भारतीय धर्म दर्शन में शरीर एवं आत्मा के एक दुसरे से पूर्णता अलग होने के सिद्धांत की अवधारणा का जन्म हुआ।  जैन धर्म (Doctrines of jainism) मुख्यतः आपको अपनी सांसारिक एवं…

Continue ReadingDoctrines of jainism | मूल जैन सिद्धांत

24 Teerthankar | चौबीस तीर्थंकर

प्रत्येक उत्सर्पिणी और अवसर्पिणी काल में 24-24 तीर्थंकर (24 Teerthankar) होते हैं। भरत क्षेत्र में प्रत्येक अवसर्पिणी और उत्तसर्पिणी के कर्म-काल में 24-24 तीर्थकर होते हैं। वैसे तो अभी तक अनन्त काल (अवसर्पिणी व उत्सर्पिणी) बीत चुके हैं…

Continue Reading24 Teerthankar | चौबीस तीर्थंकर

Philosophy behind Teerthankar | तीर्थंकर

आध्यात्मिक साधना कर जीवन को परम पवित्र और मुक्त बनाया जा सकता है। सारांश यह है कि तीर्थकरत्व के गौरव से युक्त वे महापुरूष होते हैं, जो समस्त विकारों पर विजय पाकर जिनत्व को प्राप्त कर लेते हैं।…

Continue ReadingPhilosophy behind Teerthankar | तीर्थंकर

24 Teerthankar Introduction

जैन धर्म के अनुसार प्रत्येक काल चक्र में अवसर्पिणी के सुषमा-दुषमा नामक तीसरे काल के अन्त में और उत्सर्पिणी के दुषमा-सुषमा नामक चौथे काल के प्रारंभ में जब यह सृष्टि भोगयुग से कर्मयुग में प्रविष्ट होती है, तब…

Continue Reading24 Teerthankar Introduction

Lord Vardhman Mahavir Biography part 2

पछले भाग में हमने महावीर स्वामी के जन्म से लेकर सन्यास और उनके कठोर तप के बारे में जाना। यह भी जाना इस बीच उन्होंने जीव दया के व्रत का सम्पूर्ण आत्मा से पालन किया। यहाँ हम वर्धमान…

Continue ReadingLord Vardhman Mahavir Biography part 2

Lord Vardhman Mahavir Biography

भगवान महावीर (Vardhman Mahavir) जैन धर्म के24वें और अंतिम सुधारक या तीर्थंकर थे। इनका जन्म 599 ई.पू. में चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को हुआ था। उनका जन्मस्थान भारत के वर्तमान राज्य बिहार में आधुनिक…

Continue ReadingLord Vardhman Mahavir Biography

Teerthankar Mahaveer Swami | महावीर

पार्श्वनाथ और महावीर एक ही सांस्कृतिक परम्परा के प्रचारक-उपदेशक थे, यह वात आज निर्विवाद रूप से सिद्ध हो छुकी है । इस बात को प्रमाण मान लेने पर यह स्वतः सिद्ध हो जाता है कि जैन-परम्परा के प्रवर्तक…

Continue ReadingTeerthankar Mahaveer Swami | महावीर

Know about Jainism | जैन धर्म

भारतवर्ष की संस्कृति एवं विरासत की नींव के मुख्य आधार यहाँ के अलग-अलग धर्म एवं जातियां हैं। जिस प्रकार से भारत में आपको सभी धर्म आपस में घुले-मिले मिलेंगे वैसा संसार में कहीं नहीं है। भारत के प्रमुख…

Continue ReadingKnow about Jainism | जैन धर्म

Tulsi Vivah | तुलसी एवं शालिग्राम विवाह

वैसे तो संसार की सभी सभ्यताओं में प्रकृति को पूजनीय माना जाता है, किंतु भारत में विशेष रूप से हिंदू धर्म में पौधों एवं पेड़ों को पवित्र देवी देवता का दर्जा दिया जाता है।  इन्हीं में से एक…

Continue ReadingTulsi Vivah | तुलसी एवं शालिग्राम विवाह

Famous Kali Pooja of Kolkata | काली पूजा

भारत भूमि को सम्पूर्ण संसार में सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। इसके लिए यहाँ के संस्कृति, धर्म एवं परम्पराओ का समान रूप से योगदान है। यहाँ निवास करने वाले लोग जिन धर्मों संस्कृतियों या परम्पराओं में…

Continue ReadingFamous Kali Pooja of Kolkata | काली पूजा