Asana Bandhas and Mudra | आसन बन्ध मुद्रा

योग के आठों अंगों का अपना विशिष्ट महत्त्व है, और वे साधक को अपने से अगले अंग के सुयोग्य बनाते हैं। यम और नियम तो भूमिकात्मक अंग हैं, किन्तु शेष छ: अंग तो योग से प्रत्यक्ष और अविभिन्‍न…

Continue ReadingAsana Bandhas and Mudra | आसन बन्ध मुद्रा

Dharna Dhyana Samadhi | धारणा ध्यान समाधि

आसनों से रोग नष्ट होते हैं, तथा शारीरिक सामर्थ्य उत्पन्न होती है। प्राणायाम से समस्त पाप नष्ट होते हैं। शरीर का शोधन होता है। प्रत्याहार से मन के विकार नष्ट होते एवं पात्रता उत्पन्न होती है। धारणा (dharna)…

Continue ReadingDharna Dhyana Samadhi | धारणा ध्यान समाधि

Pranayama complete steps | प्राणायाम

योग में सभी के लिए प्राणायाम ( Pranayama ) ही सबसे अधिक कौतुहल का विषय होता है, और हो भी क्यों न सभी योगिक क्रियाओ में इसका एक विशेष स्थान है। प्राणायाम के नित्य अभ्यास को पाप रूपी…

Continue ReadingPranayama complete steps | प्राणायाम

Yoga complete 101 | योग संपूर्ण विवरण

योग ( yoga ) क्‍या है ? मन की वृत्तियों पर काबू पाना ही योग है। योग केवल आसन ही नहीं, आहार, व्यव्हार, अचार विचार के तालमेल से जीवन को सुन्दर बनाने का नाम ही योग है। वर्तमान…

Continue ReadingYoga complete 101 | योग संपूर्ण विवरण