सरस्वती यंत्र ( Saraswati Yantra ) देवी सरस्वती का यंत्र है। जो ज्ञान और बुद्धि की देवी है, और पूरे ब्रह्मांड में प्रचलित सभी ज्ञान का एकमात्र उद्भव केंद्र है।

यह सभी ज्ञान, बुद्धि  के अलावा सीखने और शिक्षा के मार्ग को मजबूत करने के अलावा भूमि पर सम्मान और सफलता की  ऊंचाइयों  की ओर ले जाता है।

जो लोग प्रतिकूल ग्रहों की स्थिति के कारण अपने शैक्षिक मार्ग में समस्याओं का सामना कर रहे हैं, या समझने और सीखने के लिए कमजोर दिमाग वाले हैं।

उन्हें सच्चे मन से सरस्वती यंत्र की पूजा करनी चाहिए। ताकि उनको जीवन में शिक्षा प्राप्ति के मार्ग प्रशस्त हो सकें।

सरस्वती बुद्धि और विवेक का दिव्य प्रदाता होती है। इसके अलावा यह व्यक्ति को सीखने और शिक्षा की ओर झुकाता है, और उसे सर्वोच्च ज्ञान प्राप्त करने की ओर ले जाता है। 

इसके साथ ही यह मन की स्थिति को मजबूत करने के अलावा याददाश्त और एकाग्रता की शक्ति को भी बढ़ाता है।

यह पागलपन सहित सभी मानसिक विकारों को कम करता है। साथ ही व्यक्ति को बुद्धिमान व्यक्तित्व के स्वामी रूप में प्रकट करता है।

सरस्वती यंत्र को स्थापित करने और उसकी पूजा करने से व्यक्ति को जीवन में बहुत ही सराहनीय और स्वीकार्य उपलब्धियाँ प्राप्त होंगी।

जो उसके व्यापारिक और रोज़गार के मार्ग में प्रसिद्धि और संपन्नता के साथ एक उच्च स्थान प्रदान करता है। 

दूसरी ओर यह यंत्र व्यक्ति को सही दिशा दिखाएगा और उसे सभी सही कदम उठाने की दिशा में ले जाएगा।

जो विधार्थी परीक्षा से डरते है। ऐसे सभी विद्यार्थियों को इसकी पूजा करनी चाहिए।

Saraswati Yantra Symbol and Origin | सरस्वती यंत्र का स्वरूप और उत्त्पति

इस यंत्र की उत्पत्ति के विषय में सामान्य रूप से प्रचलित कथा के अनुसार सतयुग में कुछ साधु ब्रह्मदेव की पूजा करने लगे।

saraswati-yantra-symbol

उस समय उन्हें एक देवी के दर्शन हुए। एक आकाशवाणी (दिव्य संदेश) भी हुई  कि ‘वह श्री सरस्वती देवी हैं’। कुछ द्रष्टा इसे पहले से ही समझ चुके थे। इससे श्री सरस्वती देवी प्रसन्न हुईं और उन्होंने उन्हें ‘सरस्वती यंत्र’ दिया। 

इस यंत्र से भक्त के भावानुसार श्री सरस्वती देवी के हाथों से सगुण और निर्गुण तत्त्व प्रकट होकर अल्पकाल में ही रूप धारण कर भक्त के लिए कार्य करता है। 

Round Lines | गोलाकार  रेखाएं

यंत्र के बीच में बनी गोल रेखाओं वाली आकृति श्री सरस्वती देवी के हाथ में रखी वीणा का प्रतीक है जो उनकी क्रियाशक्ति का प्रतिनिधित्व करती है।

round-lines-saraswati-yantra

1 , 2 , 3 , 4  – चार वेद (निर्गुण स्तर)

5, 6, 7 – संख्या 3 (तीन ऊर्जाओं का प्रतिनिधित्व करती है: इच्छा, क्रिया  और ज्ञान 

8, 9 – संख्या 2 द्वैत में कार्य का स्तर 

10  एकता अद्वैत कार्य की समाप्ति

 शक्ति का उत्सर्जन और अवशोषण

क्रियाशक्ति (ऊर्जा का प्रवाह)

स्थूलता को दर्शाने वाला एक चक्र (इच्छाशक्ति)

नंबर या संख्या – यह वेद के रूप में ज्ञान शक्ति और उनके हाथों में जपमाला का प्रतीक है।

पंक्तियों या रेखाओं के मध्य वृत्त – यह देवी सरस्वती के वाहन मोर का प्रतीक है, और इच्छाशक्ति से संबंधित है।

इस प्रकार उनके सगुण रूप का वास्तविक प्रतिनिधित्व है, और वास्तविक मूर्ति की तुलना में सूक्ष्म स्तर पर काम करता है।

पहली चार संख्याओं का स्तर चारों वेदों की निर्गुण ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है। तत्पश्चात् तीन संख्याओं के माध्यम से इच्छा, क्रिया और ज्ञान शक्ति के आधार पर सगुण स्तर पर वह शक्ति प्रकट होती है।

फिर, दो संख्याओं के स्तर पर, सरस्वती यंत्र एक द्वैत रूप धारण और कार्य करता है।

एक अंक के स्तर पर कार्य करने के बाद वह एकत्व को प्राप्त हो जाता है अर्थात् अद्वैत में विलीन हो जाता है। इसलिए, यंत्र से ऊर्जा का प्रवाह ऊपर से शुरू होता है।

अर्थात निर्गुण स्तर, गति और दिशा को इकट्ठा करता है, और फिर कार्य पूरा करने के बाद एकाकार में लौट आता है। इस प्रकार अद्वैत प्राप्त करने में मदद करता है।

यंत्र की ज्ञानशक्ति, क्रियाशक्ति और इच्छाशक्ति के बीच संबंध

श्री सरस्वती देवी के तीन स्तरों पर किए गए कार्यों को अंक यंत्र के रूप में स्पष्ट रूप से समझा जाता है। संख्या यंत्र में संख्या ब्रह्म ज्ञान शक्ति है।

संख्याओं को मिलाने वाली और मध्य स्तर पर ऊर्जाओं की गति की दिशा को स्पष्ट रूप से दर्शाने वाली गोल रेखाएँ क्रियाशक्ति हैं। 

वृत्ताकार और गोल रेखाएं शक्ति की एकाग्रता का प्रतिनिधित्व करती हैं, जो स्थूलता का प्रतीक है, और इस प्रकार वास्तविक इच्छाशक्ति से संबंधित है।’

इसका मुख्य कार्य एक विशेष देवता के सिद्धांत को आकर्षित करना और फिर तारक और मारक शक्ति का उत्सर्जन करना है, जो कि देवता की पूजा में भक्त के लिए आवश्यक हैं।

Elements for Sarswati Yantra | यंत्र के प्रभावी संचालन के लिए आवश्यक तत्व

यंत्र के प्रभावी होने के लिए और कलियुग के अंत तक प्रभाव के लिए, यह आवश्यक है, कि इस यंत्र के निर्माता यंत्र के प्रभावी उद्देश्य के बारे में एक व्यक्त या अव्यक्त संकल्प करें। 

यंत्र की शुद्धता यंत्र के निर्माता के आध्यात्मिक स्तर और भाव पर निर्भर करती है, और यंत्र की प्रभावशीलता निर्माता की संकल्प शक्ति पर निर्भर करती है।

धन प्राप्ति सम्बंधित जानकारी के लिये कुबेर यंत्र भी पढ़े जिसके लिये Kuber Yantra पर क्लिक करे।

Importance and Benefits of Saraswati Yantra | सरस्वती यंत्र का महत्व और लाभ

श्री सरस्वती देवी की 60% तारक और 40% मारक शक्ति यंत्र द्वारा उत्सर्जित होती है। इससे उपासक का आध्यात्मिक स्तर भले ही 30 – 40 % से कम हो, फिर भी उसे श्री सरस्वती देवी की शक्ति प्राप्त होती है।

importance-benefits-sSaraswati-yantra
Credit : Pham Trung Kien

वह आसानी से सरस्वती तत्व से लाभान्वित हो सकता है। यह यंत्र केवल शक्ति के स्तर पर ही काम नहीं करता। यह आनंद और शांति के स्तरों पर भी काम करता है।

यह उपासक के लिए लाभकारी होता है। इसमें श्री सरस्वती देवी के तारक और मारक सिद्धांतों के साथ-साथ महासरस्वती देवी के कुछ विशेष गुण भी शामिल होते हैं।

जब साधक का आध्यात्मिक स्तर 60 % से अधिक होता है, तो वह यंत्र से आनंद और शांति का आध्यात्मिक अनुभव प्राप्त कर सकता है ।

यह यंत्र उपासक के मन के चारों ओर एक काला घेरा बनने से रोकता है। इसकी साधना से साधक की बुद्धि और वाणी शुद्ध होती है और यंत्र को देखते हुए मंत्र जाप आदि साधना करने से सात्विक हो जाते हैं।

जो व्यक्ति नियमित रूप से इसकी पूजा करता है, उस पर श्री सरस्वती देवी प्रसन्न होती हैं और उन पर कृपा करती हैं। वह बहुत ही कम समय में कठिन विषयों को समझ लेता है।

गुढीपाडवा पर श्री सरस्वती देवी की तारक तत्व की तरंगें ब्रह्मांड में सक्रिय हो जाती हैं, जबकि दशहरे पर महासरस्वती देवी की मारक तत्व की तरंगें ब्रह्मांड में सक्रिय रहती हैं।

गुढीपाडवा पर, श्री सरस्वती देवी के तारक रूप और दशहरे पर महासरस्वती देवी के मारक स्वरूप की पूजा करनी चाहिए।

लग्न, वर्षफल, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे। 

अब आप हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने।