Doctrines of jainism | मूल जैन सिद्धांत

जैन धर्म की उत्पत्ति के साथ ही भारतीय धर्म दर्शन में शरीर एवं आत्मा के एक दुसरे से पूर्णता अलग होने के सिद्धांत की अवधारणा का जन्म हुआ।  जैन धर्म (Doctrines of jainism) मुख्यतः आपको अपनी सांसारिक एवं…

Continue ReadingDoctrines of jainism | मूल जैन सिद्धांत

Philosophy behind Teerthankar | तीर्थंकर

आध्यात्मिक साधना कर जीवन को परम पवित्र और मुक्त बनाया जा सकता है। सारांश यह है कि तीर्थकरत्व के गौरव से युक्त वे महापुरूष होते हैं, जो समस्त विकारों पर विजय पाकर जिनत्व को प्राप्त कर लेते हैं।…

Continue ReadingPhilosophy behind Teerthankar | तीर्थंकर

24 Teerthankar Introduction

जैन धर्म के अनुसार प्रत्येक काल चक्र में अवसर्पिणी के सुषमा-दुषमा नामक तीसरे काल के अन्त में और उत्सर्पिणी के दुषमा-सुषमा नामक चौथे काल के प्रारंभ में जब यह सृष्टि भोगयुग से कर्मयुग में प्रविष्ट होती है, तब…

Continue Reading24 Teerthankar Introduction

Lord Vardhman Mahavir Biography part 2

पछले भाग में हमने महावीर स्वामी के जन्म से लेकर सन्यास और उनके कठोर तप के बारे में जाना। यह भी जाना इस बीच उन्होंने जीव दया के व्रत का सम्पूर्ण आत्मा से पालन किया। यहाँ हम वर्धमान…

Continue ReadingLord Vardhman Mahavir Biography part 2

Lord Vardhman Mahavir Biography

भगवान महावीर (Vardhman Mahavir) जैन धर्म के24वें और अंतिम सुधारक या तीर्थंकर थे। इनका जन्म 599 ई.पू. में चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को हुआ था। उनका जन्मस्थान भारत के वर्तमान राज्य बिहार में आधुनिक…

Continue ReadingLord Vardhman Mahavir Biography

Teerthankar Mahaveer Swami | महावीर

पार्श्वनाथ और महावीर एक ही सांस्कृतिक परम्परा के प्रचारक-उपदेशक थे, यह वात आज निर्विवाद रूप से सिद्ध हो छुकी है । इस बात को प्रमाण मान लेने पर यह स्वतः सिद्ध हो जाता है कि जैन-परम्परा के प्रवर्तक…

Continue ReadingTeerthankar Mahaveer Swami | महावीर

Pranayama complete steps | प्राणायाम

योग में सभी के लिए प्राणायाम ( Pranayama ) ही सबसे अधिक कौतुहल का विषय होता है, और हो भी क्यों न सभी योगिक क्रियाओ में इसका एक विशेष स्थान है। प्राणायाम के नित्य अभ्यास को पाप रूपी…

Continue ReadingPranayama complete steps | प्राणायाम

Shukra Yantra Benifits | शुक्र यंत्र के लाभ

शुक्र यंत्र ( Shukra Yantra ) ज्योतिषीय क्षेत्र में सबसे महत्वपूर्ण यंत्रों में से एक है, क्योंकि यह शुक्र ग्रह को प्रसन्न करने के लिए  यंत्र होता है। जो मानव जीवन में प्रमुख भूमिका निभाता है। कुंडली में…

Continue ReadingShukra Yantra Benifits | शुक्र यंत्र के लाभ

kundalini door to unlock body secrets

यदि मूल रूप में देखा जाये तो कुण्डलिनी (kundalini ) ही समस्त अध्यात्म, तंत्र, मंत्र, यंत्र, योग और धर्म का केंद्र बिंदु है। हमारे शरीर का वह द्वार है, जहा से प्रवेश करने के उपरांत ही हमारे आध्यात्मिक…

Continue Readingkundalini door to unlock body secrets

Saraswati Yantra | सरस्वती यंत्र

सरस्वती यंत्र ( Saraswati Yantra ) देवी सरस्वती का यंत्र है। जो ज्ञान और बुद्धि की देवी है, और पूरे ब्रह्मांड में प्रचलित सभी ज्ञान का एकमात्र उद्भव केंद्र है। यह सभी ज्ञान, बुद्धि  के अलावा सीखने और…

Continue ReadingSaraswati Yantra | सरस्वती यंत्र