महा मेरु श्री यंत्र ( Maha Meru Shri Yantra ) समस्त यंत्रों में गहन गहराई लिए हुए है, और प्राचीन काल से इसका मानव इतिहास से गहरा संबंध है।  

इसके अलावा यंत्रों के क्षेत्र में इसकी सबसे मजबूत जड़ें हैं, और इसी तरह इसे सबसे मूल्यवान और सबसे महत्वपूर्ण यंत्र भी माना जाता है। 

इसे श्री यंत्र की नकल और उससे प्रेरित भी कहा जाता है और इसे “कूर्म पृथ्वी मेरु श्री यंत्र” भी कहा जाता है। जिसका अर्थ है, कि श्री यंत्र की पीठ पर कछुआ  चढ़ा हुआ है।

इसको महान चक्र यंत्र का त्रिविमीय प्रक्षेपण कहा जाता  है। इसे मंदिरों, पूजा कक्षों और व्यावसायिक स्थानों में रखने पर बहुत शुभ माना जाता है।

यह भी कहा जाता है, कि महा मेरु श्री यंत्र अन्य सभी यंत्रों और सभी परंपराओं की ऊर्जाओं को अपने अंदर समाहित करता है।

यंत्र को कछुआ की पीठ पर आठ पंखुड़ियों के साथ बनाया जाता है। जैसे हर यंत्र में कमल का फूल होता है।

क्योंकि यह सबसे पवित्र फूल होता है, और एक भगवान विष्णु की नाभि और भगवान ब्रह्मा के बैठने की जगह से उत्पन्न होता है। 

वैदिक काल से अच्छे और सकारात्मक आशीर्वाद के लिए इसकी पूजा की जाती रही है, और इसका महत्व श्री यंत्र के समान ही माना गया है।

यह उपासक को सभी दिव्य आशीर्वाद प्रदान करता है और जीवन से सभी नकारात्मक प्रभावों को दूर करता है। श्री यंत्र की तरह यह भी मानव जीवन की सभी बाधाओं  को मिटा देता है।

इस यंत्र की पूजा-अर्चना करने से व्यक्ति में सभी प्रकार की अच्छाई आती है, और इसके लिए सातवीं या आठवीं शताब्दी से कई संतों और ऋषियों द्वारा इसकी पूजा की जाती रही है।

इसके अलावा, वास्तु कला में भी इसका अधिक महत्व है। यही कारण है, कि इसे घर और मंदिर के केंद्र या शीर्ष पर रखा जाता है।

ताकि आसपास के वातावरण को स्वस्थ, धनी और बुद्धिमान बनाया जा सके। यह बहुत शक्तिशाली होने और जल और भूमि दोनों पर रहने के लिए मानव जीवन का दिव्य रक्षक है।

Benefits of Maha Meru Shri Yantra | महा मेरु श्री यंत्र के लाभ

benefits-maha-meru-shri-yantra
Credit : Emi Lija

1 आपके लिए भाग्य के द्वार खोलता है।

2 आपके घर और कार्यालय के वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा लाता है।

3 वास्तु और ग्रह दोषों को दूर करता है।

4 आपको नाम और प्रसिद्धि देता है।

5 अपने व्यवसाय में सफलता लेन के लिए इसकी स्थापना की जाती है।  

6 इसकी स्थापना से धन और समृद्धि में सुधार अत है। 

7 आपके ग्रह के नकारात्मक प्रभाव को दूर करता है।  

8 आपको अपने शत्रुओं पर प्रभुत्व और शक्ति प्रदान करता है।

Structure of Maha Meru Shri Yantra | महा मेरु श्री यंत्र की ज्यामिति संरचना

यह एक त्रि-आयामी यंत्र है। जिसे आठ पंखुड़ियों वाले कछुए की पीठ पर बनाया गया है।

structure-maha-meru-shri-yantra

यह श्री लक्ष्मी और त्रिपुरा सुंदरी की शक्तियों से प्रभावित होने के लिए भी जाना जाता है।   

जो क्रमशः बहुतायत और सुंदरता के अवतार के रूप में जानी जाती हैं। यंत्र को शिव और शक्ति, लक्ष्मी और नारायण, पुरुष और प्रकृति जैसी मर्दाना और स्त्री शक्तियों के अलौकिक संयोजन के लिए भी जाना जाता है।

बिंदु – बिंदु

त्रिकोणा – ट्रिंगल

अष्टकोना, समघर चक्र – विनाशक चक्र

स्थिर चक्र – पहिया का संरक्षण

तुर्दाहकोना, अष्टदल कमल – आठ कमल का समूह

षोडश दल कमल – १६ कमल का समूह

तीन व्रत – तीन चक्र

भूपुर – पहला चौक

संपूर्ण सृष्टि चक्र – ब्रह्मांड की पूरी प्रणाली और चारों ओर से

ऋद्धि-सिद्धि के चार द्वार – समृद्धि और प्रसिद्धि

धन प्राप्ति सम्बंधित जानकारी के लिये कुबेर यंत्र भी पढ़े जिसके लिये Kuber Yantra पर क्लिक करे।

Maha Meru Shri Yantra Sthapna | महा मेरु श्री यंत्र को स्थापित करने का स्थान

यंत्र को आमतौर पर किसी घर या निर्माण भवन की नींव के नीचे दबा दिया जाता है।

धन और समृद्धि के प्रवाह को बढ़ाने के लिए इसे लॉकर रूम और कैश बॉक्स में भी रखा जाता है। अधिकतम लाभ उठाने के लिए, यंत्र को उचित रूप से रखने से पहले उसे सक्रिय करना महत्वपूर्ण है।

यंत्र पूजा के लिए आवश्यक सामग्री मेरु यंत्र, धूप, दूध, केसर, पानी, चंदन का पेस्ट, सिंदूर, मूंगा की माला, कपड़ा, लाल कपड़ा, पुष्प, फल इत्यादि है।

Maha Meru Shri Yantra Pooja | महा मेरु श्री यंत्र पूजा और उपाय प्रक्रिया

1 सबसे पहले महा मेरु श्री यंत्र को पूर्व दिशा की ओर मुख करके पूजा कक्ष में रखें।

maha-meru-shri-yantra-pooja
Credit : Alexander

2 फिर उसे शुद्ध पानी से धो लें।

3 दूध में केसर मिलाएं और इस मिश्रण से यंत्र को धो लें।

4 दोबारा एक बार फिर से पानी से धो लें।

5 एक साफ कपड़े से यंत्र को पोंछकर सुखा लें।

6 सिंदूर और चंदन के लेप से पूजा करें।

7 यंत्र पर फूल और फल चढ़ाएं।

8 हल्की धूप या अगरबत्ती की सुगंध यंत्र को दिखाएँ।

9 मूंगे की माला से मेरु यंत्र मंत्र का 108 बार जाप करें।

मंत्र इस प्रकार है-  “ओम, आईंग, ह्रीं, क्लिंग, श्रृंग, महालक्ष्मी नमः”

विद्वान ब्राह्मणों और संतों ने भक्तों को प्रतिदिन महा मेरु पूजा करने की सलाह दी है। बेहतर प्रभाव के लिए यंत्र को पानी में डुबोया जा सकता है। 

कलश के सामने या उसके ऊपर एक नारियल रखना चाहिए और इस मंत्र का नौ बार जाप करते हुए कुमकुम (सिंदूर) लगाना चाहिए।

” नित्य कलिन थिरुपुरसुंदरि विद्मही नित्य मंत्रे धिमहे थन्नो नित्य प्रचोदयात योनी मुद्रा प्रणमेत नमः” यह पूजा आप विशेष रूप से शुक्रवार के दिन कर सकते हैं।

इसको अपने घर और कार्यालय के पूजा स्थान पर रखना सबसे अच्छा है। एक नया घर बनाते समय, स्तंभों के नीचे चारों कोनों में महा मेरु को दफनाने की सिफारिश की जाती है।

यंत्रो के प्रयोग के आरंभ के पीछे जुड़े कारणों और लाभ के विषय में जानने के लिये yantra अवश्य पढ़े।

तीनो लोक में यन्त्र और तंत्र के तारतम्य के आरंभ को समझने के लिये चक्रो को जानना और समझना आवश्यक है। अतः Chakras पर क्लिक कर चक्रो से सम्बंधित अपनी जिज्ञासा शांत करे।

लग्न, वर्षफल, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

अब आप हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने।