जैन धर्म की उत्पत्ति के साथ ही भारतीय धर्म दर्शन में शरीर एवं आत्मा के एक दुसरे से पूर्णता अलग होने के सिद्धांत की अवधारणा का जन्म हुआ। 

जैन धर्म (Doctrines of jainism) मुख्यतः आपको अपनी सांसारिक एवं शारीरिक इच्छाओं पर पूरी तरह विजय प्राप्त करके मोक्ष प्राप्ति का मार्ग सुनिश्चित करना है। 

‘जैन’ शब्द ‘जिन’ शब्द से बना है जिसका अर्थ है विजेता। अर्थात काम, क्रोध, अहंकार एवं लोभ जैसी वासनाओं पर विजय प्राप्त करना हैं। यह वह रजोगुण हैं, जिन्हें आत्मा का शत्रु माना जाता है। 

Doctrines of jainism | जैन दर्शन विषयवस्तु 

जैन धर्म में लोग पूर्णता विश्वास करते हैं की कोई भी जीव मोक्ष की प्राप्ति कर सकता है,यदि वह सही प्रकार से सही दिशा में प्रयास करें। 

किंतु मानव जीवन की की असली व्यथा यह है,कि मनुष्य इस धरती पर पूरी तरह से सांसारिक बातों में स्वयं को संलग्न रखता है, जो उसकी आत्मा की मुक्ति में सबसे बड़ी बाधा के रूप में उसके पैरों की बेड़ी बन जाती है। 

जैन धर्म मानव जीवन के लिए उसी मार्ग को प्रशस्त करने का प्रयास करता है,जिसके द्वारा आत्मा किसी भी प्रकार के बंधन से मुक्त होकर मोक्ष अवस्था को प्राप्त कर सके। 

इसके अनुसार सम्पूर्ण ब्रह्मांड दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है, जैसे, जीव, यानी आत्मा तथा  अजिव, यानी बिना आत्मा के।  

ये दोनों – जीव एवं अजिव की अवस्था उन सभी जीवों में स्थित है, जो ब्रह्मांड में मौजूद हैं तथा जैन दर्शन इन दो तत्वों की प्रकृति और परस्पर क्रिया पर आधारित है।

संक्षिप्त रूप से कहा जा सकता है, कि सजीव एवं  निर्जीव अवस्था एक दूसरे के संपर्क में आकर कुछ ऐसी ऊर्जाएँ बनाते हैं, जो जन्म, मृत्यु एवं  जीवन के विभिन्न अनुभवों को जन्म देती हैं। 

जैन धर्म का मूल सिद्धांत आपको उसी ओर ले जाता है, जहाँ मानव जीवन सजीव एवं निर्जीव की उस चक्र प्रक्रिया से बहुत  ऊपर उठकर मोक्ष की अवस्था में पहुँच जाता है। 

Basic Principals | जैन दर्शन के मूल सिद्धांत 

जैन धर्म किसी भी प्रकार के साकार या निराकार ब्रह्म या ईश्वर के सिद्धांत में विश्वास नहीं करता है, इसी कारण कुछ लोग इसे नास्तिकों का धर्म भी कहते हैं। 

जैन धर्म के अनुसार नैतिकता के साथ जीवन जीना तथा अपनी समस्त इच्छाओं को अपने बस में करने की कला ही आपको सम्पूर्णता, सम्पूर्ण ज्ञान एवं मोक्ष प्राप्ति हो सकती है। 

इसके बारे में अधिक जानने के लिये जैन धर्म (About Jainism) पर जाये।

Metaphysics | तत्त्वमीमांसा

जैन दर्शन के अनुसार, वास्तविकता के मूल घटक आत्मा या जीव, पदार्थ, गति या धर्म, विश्राम, अंतरिक्ष या ब्रह्मांड एवं समय या काल हैं। 

Metaphysics is embedded in the doctrines of Jainism 

जैन धर्म में अंतरिक्ष या ब्रह्माण्ड को सभी दिशाओं में अनंत माना जाता है, लेकिन सभी जीव अंतरिक्ष में रहने योग्य नहीं होते हैं। 

तत्व मीमांसा के अनुसार ब्रह्माण्ड या अंतरिक्ष का एक बहुत ही सीमित क्षेत्र है, जिसमे कुछ भी हो सकता है या समां सकता है। 

ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह अंतरिक्ष का एकमात्र क्षेत्र है, जो धर्म के साथ व्याप्त होता  है। गति का सिद्धांत कहता है, कि धर्म केवल धर्म की अनुपस्थिति नहीं है, बल्कि एक सिद्धांत है जो वस्तुओं को गतिमान करना बंद कर देता है।

हमारा भौतिक जगत ब्रह्माण्ड के बहुत ही छोटे एवं संकरे भाग में पनपता है तथा ब्रह्माण्ड के विस्तृत भाग में ईश्वरीय शक्तियां एवं आत्मायें निवास करती हैं। 

जैन धर्म द्वैतवादी सिद्धांत में विश्वास करता है अर्थात पदार्थ एवं आत्मा को पूरी तरह से अलग प्रकार के तत्व माना जाता है। 

जैन दर्शन में किसी भी सर्वोच्च शक्ति अथवा ईश्वर के अस्तित्व को पूरी तरह से नाकारा गया है, उसके बजाये जैन धर्म में शाश्वत ब्रह्माण्ड में तत्व एवं ऊर्जा यथार्थ आत्मा दोनों के समान रूप से निवास करने पर ज़ोर दिया जाता है। 

जैन सिद्धांत के अनुसार देवता या अन्य अतिमानव सभी मनुष्यों की तरह ही कर्म एवं पुनर्जन्म के अधीन आते हैं। कोई भी काल चक्र से अछूता नहीं है। 

अपने कर्मों से आत्मा अपनी गति संचित करती है, जिसे एक प्रकार का पदार्थ समझा जाता है और वह संचय उन्हें मृत्यु के बाद भी शरीर में वापस खींच लेता है।

इसी कारण मनुष्य को अपने कर्मों के आधार पर लगातार जन्म एवं पुनर्जन्म के चक्र से गुज़रते रहना होगा। जब तक कि वह अपने कर्मों एवं इच्छाओं को काबू न कर पाए। 

प्रत्येक जीवित वस्तु के भीतर  एक आत्मा या ऊर्जा निवास करती है, इसलिए प्रत्येक जीवित वस्तु को नुकसान पहुँचाया जा सकता है या उसकी मदद की जा सकती है। 

कार्यों के मूल्य का आकलन करने के उद्देश्य से जीवित चीजों को उनकी इंद्रियों के प्रकार के अनुसार एक पदानुक्रम में वर्गीकृत किया जाता है। 

एक प्राणी के पास जितनी अधिक इंद्रियां होती हैं, उतने ही अधिक तरीके से उसे नुकसान पहुँचाया जा सकता है या उसकी मदद की जा सकती है।।

पौधे, विभिन्न एक-कोशिका वाले जानवर, एवं  ‘तत्व’ (चार तत्वों-पृथ्वी, वायु, अग्नि या जल में से एक से बने प्राणी) में केवल एक ही इंद्रिय है, स्पर्श की भावना।

कीड़े मकोड़ों में स्पर्श एवं  स्वाद की इंद्रियां होती हैं। चींटियों तथा जूँ जैसे अन्य कीड़ों में वे दो इंद्रियां होती हैं तथा गंध महसूस करने की शक्ति भी होती है।

मक्खियों एवं मधुमक्खियों के साथ-साथ अन्य बड़े  कीड़ों की भी देखने की इंद्री भी होती है। मनुष्य, पक्षियों, मछलियों एवं  अधिकांश स्थलीय जानवरों में  सभी पांच इंद्रियां होती हैं। 

पांच इंद्रियों के साथ मनुष्य को सभी प्रकार के ज्ञान प्राप्त करने की शक्ति मिली होती है, जिसमें मानव स्थिति का ज्ञान एवं पुनर्जन्म से मुक्ति की आवश्यकता शामिल है।

तीर्थंकर किसे कहते है? यह अवतार से कैसे भिन्न होते है? इत्यादि प्रश्नो के उत्तर जानने के लिये Philosophy behind Teerthankar पर जाये।

Epistemology and logic | ज्ञानमीमांसा एवं तर्क

अंतर्निहित जैन ज्ञानमीमांसा वह  विचार है जो  वास्तविकता का बहुआयामी रूप है। अनेकंता, या गैर-एकतरफा ऐसा कोई भी दृश्य इसे पूरी तरह से पकड़ नहीं सकता है। 

epistemology-doctrines-of-jainism

अर्थात् कोई भी एकल कथन या कथनों का समूह उनके द्वारा वर्णित वस्तुओं के बारे में पूर्ण सत्य को नहीं दर्शा सकता है।

एक हाथी का वर्णन करने की कोशिश कर रहे नेत्रहीनों की प्रसिद्ध कहानी द्वारा सचित्र यह अंतर्दृष्टि, ज्ञानमीमांसा में एक प्रकार के पतन वाद एवं तर्क में कथनों के सात गुना वर्गीकरण दोनों को आधार दर्शाती  है।

चूंकि वास्तविकता बहुआयामी होती है, इसमें कोई भी प्रमाण पूर्ण या पूर्ण ज्ञान नहीं देता है (केवला को छोड़कर, जिसका आनंद केवल पूर्ण आत्मा ही लेती है,तथा  भाषा में व्यक्त नहीं किया जा सकता है। )

नतीजतन, प्राप्त ज्ञान की कोई भी वस्तु केवल अस्थायी एवं  अनंतिम है। यह जैन दर्शन में नया, या आंशिक भविष्यवाणी अथवा दृष्टिकोण का सिद्धांत कहा जाता है। 

इस सिद्धांत के अनुसार, कोई भी निर्णय न्यायाधीश के दृष्टिकोण से ही सही होता है, और इसे इस तरह व्यक्त किया जाना चाहिए।  

वास्तविकता की बहुमुखी प्रकृति को देखते हुए, अन्य सभी निर्णयों को छोड़कर, किसी को भी मामले के बारे में अपने निर्णय को अंतिम सत्य के रूप में नहीं लेना चाहिए। 

यह अंतर्दृष्टि भविष्यवाणियों का सात गुना वर्गीकरण उत्पन्न करती है। दावे की सात श्रेणियों को निम्नानुसार योजनाबद्ध किया जा सकता है। 

इस सिद्धांत के अनुसार  जहां ‘एक पक्ष’ किसी भी मनमाने ढंग से चयनित वस्तु का प्रतिनिधित्व करता है, और ‘अन्य पक्ष’ इसके बारे में कुछ विधेय का प्रतिनिधित्व करता है। 

प्रत्येक भविष्यवाणी अनिश्चितता के अंक गणक से पहले हो सकती है, जिसे  ‘शायद’ के रूप में प्रस्तुत किया जा सकता है। कुछ इसे ‘एक परिप्रेक्ष्य से’ या ‘किसी तरह’ के रूप में प्रस्तुत करते हैं। 

हालांकि सिद्धांत का अनुवाद किया जाता है, कि इसका उद्देश्य सम्मान को चिह्नित करना है वास्तविकता की बहुमुखी प्रकृति निर्णायक निश्चितता की कमी दिखा कर।

प्रारंभिक जैन दार्शनिक कार्य (विशेषकर तत्वार्थ सूत्र) इंगित करते हैं कि किसी भी वस्तु तथा  किसी भी विधेय के लिए, ये सभी सात भविष्यवाणियां सत्य होती हैं।

कहने का तात्पर्य यह है कि प्रत्येक वस्तु का एक पक्ष तथा  प्रत्येक विधेय अन्य पक्ष के लिए, कुछ ऐसी परिस्थितियां होती हैं जिनमें या दृष्टिकोण से इनमें से प्रत्येक रूप का दावा करना सही होता है।

भविष्यवाणी की इन सात श्रेणियों को सात सत्य-मूल्यों के रूप में नहीं समझा जाना चाहिए, क्योंकि ये सभी सात सत्य माने जाते हैं। 

ऐतिहासिक रूप से, इस दृष्टिकोण की (शंकर द्वारा, दूसरों के बीच में) असंगतता के स्पष्ट आधार पर आलोचना की गई है। 

जबकि एक प्रस्ताव तथा इसकी अस्वीकृति दोनों ही मुखर हो सकते हैं, ऐसा लगता है कि संयोजन, एक विरोधाभास होने के कारण, कभी भी मुखर नहीं हो सकता है, कभी भी सच नहीं होता है। 

इसलिए भविष्यवाणी के तीसरे एवं  सातवें रूप कभी भी संभव नहीं हैं कि यह ठीक उसी तरह का विचार हो  जो कुछ टिप्पणीकारों को स्यादवाद के ”एक दृष्टिकोण से’ समझने के लिए प्रेरित करता है। 

चूंकि यह अच्छी तरह से हो सकता है कि एक दृष्टिकोण से, बहु पक्ष, एक पक्ष है, और दूसरे से, एक पक्ष नहीं-बहु पक्ष है, तब एक और एक ही व्यक्ति उन तथ्यों की सराहना कर सकता है और उन दोनों पर एक साथ जोर दे सकता है। 

वास्तविक की बहुमुखी प्रकृति को देखते हुए, प्रत्येक वस्तु एक तरह से बहु पक्ष है, और दूसरे तरीके से बहु पक्ष नहीं है। वास्तविक की जटिलता की सराहना भी व्यक्ति को यह देखने के लिए प्रेरित कर सकती है। 

शायद इस सिद्धांत के साथ सबसे गहरी समस्या यह  है जो सभी प्रकार के संशयवाद एवं  पतनवाद से किसी न किसी हद तक आपको परेशान करती है। ऐसा लगता है कि यह आत्म-पराजय का सिद्धांत है।

आखिरकार, यदि वास्तविकता बहुआयामी है, तथा  जो हमें पूर्ण निर्णय लेने से रोकती है (क्योंकि मेरा निर्णय और इसका निषेध दोनों समान रूप से सत्य होंगे), जैन ज्ञानमीमांसा के सिद्धांत स्वयं समान रूप से अस्थायी हैं।

यहाँ वर्तमानकालीन चौबीस तीर्थकरों का संक्षिप्त परिचय प्राप्त करने हेतु (24 Teerthankar Introduction) पर जाये।

नीति का सिद्धांत 

जैन दर्शन के लिए उचित लक्ष्य मृत्यु एवं पुनर्जन्म से पूरी तरह मुक्ति का मार्ग ही महत्वपूर्ण है, तथा पुनर्जन्म कर्म के संचय के कारण होता है। 

इसलिए ही  सभी जैन शिक्षाए नैतिकता का उद्देश्य संचित किए गए कर्म को शुद्ध करना तथा  नए कर्मों को जमा करना बंद करना सिखाती  है।

बौद्ध एवं  हिंदु मान्यता की तरह ही जैन धर्म  का मानना भी ​​है, कि आपके अच्छे कर्म अगले जन्म में आपको बेहतर परिस्थितियों की ओर ले जाते हैं, तथा  बुरे कर्म से आपके आने वाल कई  जन्म ख़राब हो जाते हैं।

जैन धर्म का मानना है कि हमारे कर्म भी भौतिक पदार्थ या तत्व का ही एक रूप होते हैं, यही कारण है की हमारे कर्मों की श्रृंखला ही हमारे पुनर्जन्म के चक्र को जारी रखते हैं। 

इसीलिए जैन धर्म कहता है कि कोई भी कर्म किसी व्यक्ति को पुनर्जन्म से मुक्ति दिलाने में मदद नहीं कर सकता है। कर्म विभिन्न प्रकार के होते हैं, जिस प्रकार के कार्यों और इरादों के अनुसार उसे आकर्षित करते हैं।

 विशेष रूप से, यह चार मूल स्रोतों से आता है-  सांसारिक चीजों से लगाव, जुनून, जैसे क्रोध, लोभ, भय, अभिमान, आदि,  कामुक आनंद, अज्ञानता, या झूठा विश्वास। 

केवल पहले तीन का सीधा नैतिक या अनैतिक परिणाम होता है, क्योंकि अज्ञान ज्ञान से ठीक होता है, नैतिक क्रिया से नहीं।

नैतिक जीवन की बात करें तो, आंशिक रूप से दुनिया के प्रति हमारा लगाव ही हमें संसार के प्रति मोह की ओर आकर्षित करता है इसके अंतर्गत कामुक आनंद की प्राप्ति का लोभ भी शामिल होता है। 

इसलिए, जैन धर्म में नैतिक आदर्श एक तपस्वी का आदर्श बनता है। भिक्षुओं को जो बौद्ध धर्म में आम लोगों की तुलना में सख्त नियमों द्वारा जीते हैं पांच मुख्य नियमों, “पांच प्रतिज्ञाओं” का पालन आवश्यक होता है। 

अहिंसा के रूप में किसी को किसी भी प्रकार से शारीरिक या आत्मिक नुक्सान न पहुँचाने के नियम पर ज़ोर दिलाता है।

सत्य का पालन के रूप में केवल झूठ न बोलना ही नहीं आता बल्कि किसी भी गलत बात में अपना पक्ष देना भी शामिल होता है। इसके आलावा ब्रह्मचर्य, शुद्धता अपरिग्रह, एवं वैराग्य का पालन भी शामिल हैं। 

पूर्व, वर्तमान एवं भविष्य के तीर्थंकरो को जानने के लिये चौबीस तीर्थंकर (24 Teerthankar) पर जाये।

निष्कर्ष 

उपरोक्त बातें ही जैन दर्शन का मूल सिद्धांत निर्धारित करती है, क्योंकि मानव शरीर को ही पांचों इंद्रियों का ज्ञान होता है, इसलिए मानव जीवन के लिए ही सभी बातों का पालन आवश्यक है। 

यहाँ वर्तमानकालीन चौबीस तीर्थकरों का संक्षिप्त परिचय प्राप्त करने हेतु (24 Teerthankar Introduction) पर जाये।

महावीर स्वामी के विस्तृत जीवन परिचय के लिये निम्नलिखित लिंको पर जाये।

महावीर स्वामी की शिक्षाओं और समाज तथा विभिन्न क्षेत्रो में शिक्षाओं से होने वाले प्रभाव को जानने के लिए Teerthankar Mahaveer Swami अवश्य पढ़े।

फैशन, संस्कृति, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने। टेलीग्राम पर जुड़ने हेतु हिन्दीराशिफ़ल पर क्लिक करे।

Leave a Reply