भगवान महावीर (Vardhman Mahavir) जैन धर्म के24वें और अंतिम सुधारक या तीर्थंकर थे। इनका जन्म 599 ई.पू. में चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को हुआ था।

उनका जन्मस्थान भारत के वर्तमान राज्य बिहार में आधुनिक शहर पटना के पास माना जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार भगवान महावीर का जन्मदिन अप्रैल के महीने में आता है।

भगवान महावीर की माता का नाम रानी त्रिशला और उनके पिता का नाम सिद्धार्थ था। उनके माता-पिता दोनों 23 वें तीर्थंकर भगवान पार्श्वनाथ के अनुयायी थे, जो 877 से 777 ईसा पूर्व के समय हुये थे।

जब इनकी जीवात्मा रानी त्रिशला के गर्भ में आई, तो उसने चौदह महान स्वप्न देखे।

Vardhman Mahavir’s Early life | प्रारंभिक जीवन

भगवान महावीर एक राजकुमार थे और उनके माता-पिता ने उन्हें वर्धमान नाम दिया था। एक राजा का पुत्र होने के कारण, उसके पास कई सांसारिक सुख, आराम और सेवाएं थीं।

हालाँकि, उस बाल्य अवस्था में भी उन्होंने एक सदाचारी स्वभाव का प्रदर्शन किया। उन्होंने ध्यान और आत्म-चिंतन में खुद को समर्पित कर दिया।

वह जैन धर्म की मूल मान्यताओं में रुचि लेने के साथ ही खुद को सांसारिक विषयो से खुद को दूर करने लगे।

अपनी युवावस्था में उन्होंने दुनिया को त्यागने के बारे में सोचा, किन्तु उनके माता पिता ने स्नेह वश उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। वही राजकुमार वर्धमान अपने माता-पिता की भावनाओ को आहत नहीं करना चाहते थे।

जीवन की शुरुआत में ही उनका विवाह एक आकर्षक राजकुमारी यशोदा से हुआ था। यशोदा ने प्रियदर्शन नाम की एक कन्या को जन्म दिया।

यद्यपि वर्धमान को छोटी उम्र से ही सांसारिक जीवन में रूचि नहीं थी, लेकिन जब तक उनके माता-पिता जीवित थे, तब तक उन्होंने दुनिया का त्याग नहीं करने का फैसला किया था।

जब वर्धमान 28 वर्ष के थे, तब उनके माता-पिता का आमरण अनशन (संथारा) करने से निधन हो गया था।

अब महान त्याग का समय आ गया था। उन्होंने अपने बड़े भाई नंदीवर्धन से अनुमति लेने का फैसला किया। नंदीवर्धन ने उन्हें दो और वर्षों के लिए सांसारिक जीवन त्यागने से मना कर दिया।

क्योंकि उनके माता-पिता की अनुपस्थिति में वह अकेले राज काज की जिम्मेदारी संभालने में असमर्थ थे और अपने माता-पिता की मृत्यु के तुरंत पश्चात् भाई के जाने की पीड़ा से बचना चाहते थे।

वर्धमान महावीर दो साल और महल में रहे लेकिन उन्होंने उन वर्षों को ध्यान में बिताया और इस समय को एक साधु की तरह रहे। उन्होंने उपवास किया और त्याग के दिन तक ब्रह्मचर्य का अभ्यास किया।

जैन धर्म तीर्थंकर महावीर स्वामी के समय से भी पहले से चला आ रहा है। तथ्यों के आधार पर इसे सबसे प्राचीन धर्म भी माना जाता है। इसके बारे में अधिक जानने के लिये जैन धर्म (About Jainism) पर जाये।

Renunciation | महान त्याग

मार्गशीर्ष के दसवें दिन वर्धमान ने अपने सभी बंधनों को त्याग दिया। अपने सोने, चांदी के आभूषण और समस्त धन को छोड़ दिया। अपने धन को उपहार स्वरुप लोगो में बांट दिया और एक भिक्षु बन गए।

Renunciation-vardhman-mahavir-biography

उसने लंबे बालों को अपने हाथो से नोच कर अलग कर दिया। अपने सारे कपड़े उतार दिए और एक ही कपड़ा अपने कंधे पर रख लिया।

फिर उन्होंने “नमो सिद्धाणम ” (मैं सिद्ध आत्माओं को नमन करता हूं) का उच्चारण किया और जंगलों की ओर चलना शुरू कर दिया।

Spiritual pursuit | आध्यात्मिक खोज

वर्धमान ने 12.5 साल गहन ध्यान और आत्म-नियंत्रण में बिताए। इन बारह वर्षों के दौरान अपना अधिकांश समय ध्यान में बिताया।

उन्होंने मनुष्यों, जानवरों और पौधों सहित अन्य जीवित प्राणियों को सामान सम्मान दिया और उन्हें हानि पहुंचाने से बचते थे। उन्होंने अपने कपड़ों सहित सभी सांसारिक संपत्ति को त्याग दिया था, और एक तपस्वी की भाती जीवन व्यतीत किया था।

इन वर्षों के दौरान तपस्या करते हुए अपनी इंद्रियों पर अनुकरणीय नियंत्रण का प्रदर्शन किया। उनके साहस और बहादुरी के चलते उन्हें महावीर नाम दिया गया।

तपस्या के इस क्रम में निरंतर ध्यान, अखंड शुद्धता, और खाने-पीने से संबंधित नियमों का ईमानदारी से पालन किया। आचारंग सूत्र में दिए गए उनके आध्यात्मिक अभ्यासों का लेखा-जोखा सचमुच आत्म-उत्तेजक है।

उन्होंने दिन-रात सतत अविचलित हुए बिना ध्यान किया। गृहस्थों की संगति को छोड़कर, उन्होंने एकांत में वास किया। उन्हें जहाँ कहीं भी आश्रय उपलब्ध होता विश्राम कर लेते थे।

उन्होंने नींद की परवाह नहीं की, माना जाता है कि वे अपनी 12.5 साल की आध्यात्मिक खोज में केवल 3 घंटे सोए। सर्दियों में जब ठंडी हवाएँ चलती थीं, तो उन्होंने आश्रय स्थलों की तलाश, लकड़ी जलाने या कपड़ों से खुद को ढंकने की चेष्टा नहीं की।

ठंड के मौसम में उन्होंने छाया में ध्यान किया, गर्मियों में उन्होंने खुद को गर्मी से उजागर किया। वह बहुत कम बोलते थे और हमेशा शांत रहते थे।

उन्होंने सभी पांच तत्वों, बीजों और अंकुरों का सूक्ष्मता पूर्वक यह समझते हुए अध्ययन किया कि ये सभी जीवन से आच्छादित हैं।

उन्होंने सभी प्रकार के पापों से परहेज किया और समस्त पाप कर्मों से विरक्ति को प्राप्त किया। वह दूसरे के वस्त्र का प्रयोग नहीं करते थे और न ही वह दूसरे के पात्र में से कुछ खाते थे।

खाने-पीने की मात्रा जानने के बाद उन्हें न तो स्वादिष्ट भोजन की लालसा रही और न ही उसे खाने की लालसा। उसने पूरी तरह से मांस के भोग से परहेज किया; घायल या अस्वस्थ उन्होंने कोई चिकित्सा उपचार नहीं लिया।

वह मोटे भोजन-चावल, पीसा हुआ बेर और फलियों पर जीवित रहते थे। कभी-कभी वह बासी खाना भी खा लेते थे। उन्होंने नम या सूखा या ठंडा भोजन, पुरानी फलियाँ, पुराना पापड़, या खराब अनाज, जो कुछ भी उपलब्ध था, स्वीकार किया।

परन्तु यदि उनके मार्ग में भूखे पक्षी, पशु, या प्यासे प्राणी या भिखारी खड़े हों, तो वह बिना कुछ मांगे उस स्थान से चले जाते थे। वह कडे उपवास रखते; कभी-कभी वह केवल छठा भोजन ही करते।

आठवां, या दसवां, या बारहवां; कभी-कभी वह आधे महीने तक या एक महीने तक या दो महीने से ज्यादा या छह महीने तक भी भोजन नहीं मिलता था।

नियमों के अनुसार वह बरसात के चार महीनों ( चातुर्मास ) को छोड़कर, लगातार घूमते रहे। शेष वर्ष के दौरान, वह केवल एक रात गांवों में या कस्बों में केवल पांच रातों तक रहते थे।

उनका मन गंध और चंदन की मीठी गंध, पुआल और गहना, गंदगी और सोना, सुख और दर्द, इस दुनिया और इस दुनिया से परे, जीवन और मृत्यु के प्रति समान रूप से उदासीन था।

उनका मन मोह से पूर्णतः मुक्त था। उन्होंने अनेक स्थानों का भ्रमण किया, यहाँ उसकी परेशानी अंतहीन थी। वहां के असभ्य लोगों ने उस पर हमला कर दिया और कुत्तों को काटने के लिए खड़ा कर दिया।

उन्होंने देहाती लोगों की अपमानजनक भाषा को सहन किया और इच्छा से मुक्त होकर दर्द सहा। जब वह गाँव के पास पहुंचे तो वहाँ के निवासी उनसे बाहर मिले और यह कहते हुए हमला कर दिया कि ‘यहाँ से चले जाओ’।

उन्हें लाठी, मुट्ठी, भाले से मारा गया। एक बार जब वे ध्यान में बैठे, तो उनके शरीर का मांस काट दिया, उनके बालों को नोच कर धुल मिटटी से ढक दिया।

लेकिन एक नायक की तरह जो एक युद्ध में सबसे आगे था, सभी कठिनाइयों को सहन करते हुए वह पूरी तरह से बिना रुके अपने रास्ते पर बढ़ते रहे।

महावीर स्वामी की शिक्षाओं और समाज तथा विभिन्न क्षेत्रो में शिक्षाओं से होने वाले प्रभाव को जानने के लिए Teerthankar Mahaveer Swami अवश्य पढ़े।

About Spiritual Journey | महावीर का तपस्वी जीवन

महावीर के गृह त्याग के कुछ ही दिनों में वे कुम्मारा नामक गाँव में चले गए। वह वहीं खड़े होकर ध्यान करते। एक चरवाहे ने उसे चोर समझ लिया और उन्हें मारने की चेष्टा की, तब महावीर को वह गाँव छोड़ना पड़ा।

कुछ महीनों भटकने के बाद महावीर मोरागा के एक आश्रम में गए, जहाँ उन्हें चातुर्मास बिताने के लिए महंत द्वारा आमंत्रित किया गया। महावीर को फूस की छत वाली एक झोपड़ी रहने को दी गई।

पिछली गर्मियों में इतनी गर्मी थी कि जंगल में घास नष्ट हो गई थी, और मवेशी तपस्वियों की घास की झोपड़ियों को खाने के लिए दौड़ पड़े। अन्य तपस्वियों ने मवेशियों को पीटा, लेकिन महावीर ने मवेशियों को फूस की छत को खाने दिया।

तपस्वियों ने मठाधीश से शिकायत की, और इसलिए महावीर ने आश्रम छोड़ने का फैसला किया और अष्टिकाग्राम गांव में चातुर्मास बिताया।

इस अनुभव पर विचार करते हुए, महावीर ने एक अमित्र व्यक्ति के घर में कभी नहीं रहने के अनुशासन का पालन करने का संकल्प लिया।

आमतौर पर सीधे खड़े होकर (कायोत्सर्ग), शांत चित्त से हांथो को पात्र के रूप में प्रयोग कर आहार ग्रहण करते थे।

एक दिन भटकते हुए महावीर वेगवती नदी के किनारे एक छोटे से वीरान गाँव के पास पहुँचे। वहाँ उन्होंने गाँव के मुखिया से एक सुनसान मंदिर में रात भर के ध्यान के लिए रहने की अनुमति ली।

कथा के अनुसार, उन्हें एक यक्ष शुलपानी द्वारा प्रताड़ित किया, किन्तु फिर भी महावीर का ध्यान नहीं टूटा। जब यक्ष यातना देते देते थक गए तब उनके चरणों में गिर गए।

महावीर ने अपनी आँखें खोलीं और हाथ उठाकर कहा, “शुलपानी क्रोध क्रोध को पूरक करता है और प्रेम प्रेम को जन्म देता है। यदि तुम भय का कारण नहीं बनोगे, तो तुम सदा सभी भयों से मुक्त हो जाओगे। इसलिए क्रोध के ज़हर का नाश करो।”

दूसरे वर्ष के दौरान जब महावीर नदी पार कर रहे थे, उनका वस्त्र नदी के किनारे कांटों में फंस गया था। उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और न ही उसे अपने कंधों पर रखने की कोशिश की।

वह आगे चलते रहे और इस समय से वह जीवन पर्यन्त नग्न अवस्था में ही रहे।

Snake Bite | सर्प दंश

एक बार जब वह श्वेताम्बिका शहर जा रहे थे, तो उन्हें एक बंजर जंगल से गुजरना पड़ा, जो एक जहरीले सांपो का निवास स्थान था। उन्हें ग्रामीणों द्वारा उस मार्ग से बचने की चेतावनी दी गई थी, लेकिन महावीर ने कोई डर नहीं दिखाया।

snake-bite-vardhman-mahavir-biography

उन्होंने सांप के बाम्बी में पहुंचकर वहां ध्यान के लिए खड़े होने का फैसला किया। कथा के अनुसार उन्हें सांप ने काट लिया था जो कि उनके पिछले जन्मों में एक जैन साधु थे और क्रोध के कारण उन्हें सांप का जन्म लेना पड़ा था।

महावीर के पैर के अंगूठों पर जहां-जहां सांप ने डंक मारा है, वहां से खून के बजाय दूध को बाहर निकलते देख सांप चकित रह गया।

दूध हर जीवित प्राणी के लिए उनके मन में असीम करुणा का प्रतीक था। तब महावीर की करुणा से भरी आँखों में देखते हुए, साँप ने अपने पिछले जन्मों की यादें वापस पा लीं।

अपने पिछले जन्मों में किए गए पापों के लिए मानसिक रूप से पश्चाताप किया। तब सांप ने किसी भी जीवित प्राणी को नुकसान नहीं पहुंचाया और शांति से प्राण त्याग दिये।

Meeting with Goshala | गोशाला से परिचय

महावीर का दूसरा वर्षा काल राजगृह के उपनगर नालंदा में बीता। यहीं पर उनकी मुलाकात गोशाला मनखलीपुत्र से हुई। गोशाला तब लोगों को उनका चित्र दिखाकर उनका निवास स्थान पूछ रहा था।

वह महावीर के अपने असाधारण आत्म-संयम और दया की प्रभावशाली आदतों के कारण उनसे आकर्षित हुआ था।

इस तथ्य से कि राजगृह के एक अमीर गृहस्थ विजया ने सम्मान और आतिथ्य दिखाया। जैन पुस्तकों में उल्लेख किया गया है कि गोशाला ने महावीर से अनुरोध किया था कि उन्हें उनके शिष्य के रूप में स्वीकार करे।

लेकिन महावीर ने उनके अनुरोध को अस्वीकार कर दिया, शायद इसलिए कि उन्होंने तुरंत उनके स्वभाव के बीच महान अंतर को महसूस किया।

गोशाला के बाद के अनुरोध को दो अवसरों पर और प्रत्येक अवसर पर अधिक गंभीरता के साथ दोहराया गया, और अंततः महावीर द्वारा दीक्षा प्रदान की गई। यहाँ से उन्होंने छह साल तक एक साथ यात्रा की।

चोरगा गाँव में महावीर और गोशाला दोनों को जासूस समझ कर कैद कर लिया गया। उन्हें रस्सियों से बांधकर जमींदार कालाहस्ती ने उन्हें आग के हवाले कर दिया।

उनके बड़े भाई मेघ ने महावीर को राजा सिद्धार्थ के पुत्र वर्धमान के रूप में पहचाना। वह महावीर के चरणों में गिर पड़ा और उसकी आँखों में पश्चाताप के आँसू के साथ उसने क्षमा करने की भीख माँगी।

मुक्त होने पर महावीर ने अपनी यात्रा फिर से शुरू की।

गोशाला ने छह साल बाद महावीर स्वामी का साथ छोड़ अपना स्वयं का मत शुरू किया जिसे आजिविका के नाम से जाना जाता है, और खुद को ज्ञानी या सर्वज्ञ घोषित किया।

इसके विपरीत महावीर स्वामी ने परम सत्य की ओर अपनी यात्रा जारी रखी।

Torture by Divya Sangam | दिव्य संगम द्वारा प्रताड़ना

अपनी आध्यात्मिक यात्रा के ग्यारहवें वर्ष में, एक दिन भगवान महावीर पोलाश मंदिर में एक रात विशेष ध्यान कर रहे थे। इस अभ्यास में व्यक्ति अपने शरीर, मन, मानस और आत्मा को पूरी तरह से शांत और शांत बनाता है।

torture-by-divya-sangam-vardhman-mahavir-biography

ध्यान में उच्च स्तर की तल्लीनता को देखता है। कथा के अनुसार, उस रात उन्हें दिव्य संगम द्वारा प्रताड़ित किया गया था। जिन्होंने भगवान को बीस भयानक शारीरिक पीड़ा दी थी।

अंततः वह अपने आध्यात्मिक ध्यान से भगवान को विचलित नहीं कर सके। यह वह समय था। केवल इसी समय, भगवान महावीर की आंखों से आंसू छलक पड़े।

The vow of Mahavira and Princess Vasumati 

यह महावीर की साधना का 12वां वर्ष था। वैशाली में चातुर्मास में कौशाम्बी के एक बगीचे में रुके।

The vow of Mahavira and Princess Vasumati 

यह वह समय था जब शतानिक के चंपा पर हमले एवं उसके पतन, रानी धारिणी के बलिदान, राजकुमारी वसुमती की दासी के रूप में नीलामी आदि की घटनाएं हो रही थीं।

महावीर ने अपने गहन ज्ञान और बोध से इस सब की एक झलक पा ली थी। पौष मास के शुक्ल पक्ष के पहले दिन उन्होंने लगभग असंभव संकल्प किया।

“मैं केवल एक राजकुमारी से अपना उपवास तोड़ने के लिए भिक्षा स्वीकार करूंगा जो एक दासी बन गई है। और वह भी तभी जब उसका सिर मुंडा हो, उसके हाथ-पैर बंधे हों।

उसने तीन दिन से कुछ न खाया हो, वह घर की दहलीज पर बैठी हो, उसके पास एक टोकरी में दाल-रोटी पड़ी हो।
उसके चेहरे पर मुस्कान भी हो और आँखों में आँसू।

जब तक इन शर्तों को पूरा नहीं किया जाता है, मैं अपना उपवास जारी रखने का संकल्प लेता हूं।”

महावीर को कुछ भी खाए हुए पांच महीने पच्चीस दिन बीत चुके थे। छठे महीने का छब्बीसवाँ दिन निकला। दोपहर का समय था, जब महावीर भिक्षा के लिए भटकते हुए उस घर के पास पहुँचे जहाँ राजकुमारी वसुमती को दास के रूप में रखा गया था।

उसने किसी साधु की सेवा करने से पहले भोजन न करने का संकल्प लिया था। टोकरी में उसकी बासी दाल थी। भगवान को घर के पास आते देख वह खुश हो गई और भिक्षा अर्पित की। यहीं पर एक को छोड़कर भगवान महावीर की सभी शर्तें पूरी हुईं।

वसुमती की आंखों में आंसू नहीं थे। यह देखकर भगवान बिना भिक्षा लिए आगे बढ़ गए। वसुमती उदास हो गई और सोचा, “मैं कितना बदकिस्मत हूं कि श्रमण महावीर ने मेरे हाथ से भिक्षा स्वीकार नहीं की।” और फिर वह रोने लगी।

जब प्रभु ने पीछे मुड़कर देखा तो उनकी आंखों में आंसू थे और इस तरह उनकी सभी शर्तें पूरी हुईं। उन्होंने बासी दाल स्वीकार कर ली और अपना छह महीने का अनशन तोड़ दिया।

वसुमती को बाद में चंदन या चंदनबाला के रूप में जाना जाने लगा। आगे चलकर उन्होंने भगवान महावीर के हाथों दीक्षा ली और साध्वियों के संघ की प्रमुख बनी। अंततः सर्वज्ञता और निर्वाण प्राप्त किया।

When the shepherd pinches off the thorns in the ears

अपनी बारहवीं वर्षा ऋतु बिताने के बाद, भगवान महावीर ने चम्मनी गाँव की अपनी यात्रा शुरू की और जैसे ही रात हो रही थी, उन्होंने अंधेरा होने से पहले गाँव के बाहर एक पेड़ के नीचे कायोत्सर्ग ध्यान में खड़े होने का निर्णय किया।

shepherd-pinches-off-the-thorns-in-the- ears

एक गाय चराने वाले ने महावीर को देखा और उन्हें अपने बैलों का ध्यान रखने के लिए कहा, क्योंकि वह गांव वापस जाना चाहता था।
भगवान गहरे ध्यान में थे अतः उन्होंने उसे कोई उत्तर नहीं दिया। ग्वाला गाँव में गया और थोड़ी देर से लौटने पर अपने बैलों को न पाकर उसने पूछा, “तपस्वी, मेरे बैल कहाँ हैं?

चूंकि भगवान ध्यान में थे, उन्होंने कोई उत्तर नहीं दिया। चरवाहे ने फिर और एक बार पूछा, फिर भी उसे कोई जवाब नहीं मिला। वह चिढ़ गया और चिल्लाया, “अरे पाखंडी! क्या तुम बहरे हो, क्या तुम्हें कुछ सुनाई नहीं देता?”

फिर महावीर से कोई जवाब न मिलने पर, चरवाहे ने अपना आपा खो दिया और पास के कंस घास की झाड़ी से कांटों की तरह लंबी कील उठाई और कांटों को थपथपाकर महावीर के कानों को गहरा छेद दिया।

इतनी कष्टदायी पीड़ा पर भी महावीर का ध्यान नहीं टूटा, न ही उसके मन में क्रोध या द्वेष की भावना पैदा हुई।

अगले दोपहर खड़क नामक वैध ने कांटों को हटा दिया। खड़क ने कांटों को बाहर निकाला। इससे महावीर को इतनी असहनीय पीड़ा हुई, उसके कान से खून निकल आया।

फैशन, संस्कृति, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने। टेलीग्राम पर जुड़ने हेतु हिन्दीराशिफ़ल पर क्लिक करे।

Leave a Reply