शंगरीला (Shangri-La) रहस्यों से भरी एक ऐसी जगह है, जिसका वर्णन ब्रिटिश उपन्यासकार जेम्स हिल्टन के उपन्यास “लॉस्ट होराइजन” में मिलता है। 

अपने उपन्यास में हिल्टन एक ऐसी दुनिया के रूप में शंगरीला की कल्पना करते हैं, जहाँ लोग प्रकृति के साये में एक दुसरे के साथ पूर्ण सद्भाव से रहते हैं। 

घाटी में निवास करने वाले लोगों के सर्वोच्च धार्मिक गुरु को लामसेरी कहा जाता है, तथा वहां के लोगों के लिए उनका आदेश ईश्वर के आदेश के समान है। 

इस उपन्यास में  एक छुपी हुई घाटी की खोज की कहानी है, जहां लोग एक उदात्त स्वप्नलोक में रहते हैं।  इस उपन्यास की कहानी साहित्यिक दुनिया में एक किंवदंती बन गई है। 

 इस कहानी  पर कई फिल्में, रेडियो रूपांतरण और यहां तक ​​​​कि एक संगीत का निर्माण भी किया गया है। लोगों के मन में इस उपन्यास ने इस छिपी हुई दुनिया को लेकर उत्सुकता बढ़ा दी है। 

यह भी प्रचलित धारणा है, कि चीन ने भारत पर आक्रमण इस घाटी को ढूंढने और फिर उसपर अधिकार ज़माने के लिये किया था। परन्तु जब अंत में उसके हाथ कुछ भी नहीं लगा तो उसने युद्ध विराम की घोषणा कर दी।

Lost Horizon and the origin of Shangri-La story | शंगरीला की कहानी

कहानी में धरती पर एक ऐसी घाटी का वर्णन है, जो स्वर्ग के सामान है।

सुमेरियन महाकाव्य से लेकर सेल्टिक साहित्य में ‘आइलैंड्स ऑफ द ब्लेस्ट’ तक शांगरिला की कल्पना साहित्य के सभी निकायों एवं रचनाकारों के लिए सालों से एक आकर्षक विषय रहा है। 

इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि आधुनिक दुनिया में भी लोग एक खोए हुए स्वर्ग के सपने की ओर आकर्षित हुए हैं। जहां समय रुक जाता है, और साथ ही पृथ्वी पर स्थित विनाशी शक्तियों से अप्रभावित रहता है।

एक ऐसा स्थान जहां मनुष्य प्रकृति के साथ सद्भाव में रहते हैं, तथा इस ग्रह का ज्ञान भविष्य के लिए बचाया जाता है।

द्वितीय विश्व युद्ध से पहले के कठिन वर्षों में लिखी गयी यह पुस्तक इस दुनिया और समय से कटी हुई शांगरी-ला की खोई हुई तिब्बती घाटी में एक लामासरी (तिब्बती लामाओं के लिए एक मठ) में एक समुदाय के बारे में बताती है। 

कहानी के अनुसार मानव जाति का सारा ज्ञान इस स्थान में, संचित सांस्कृतिक खजाने में, और उन लोगों के दिमाग में निहित है, जो एक आसन्न आपदा के समय यहां एकत्र हुए हैं।

Shangri-La The fiction utopia | शंगरीला द फिक्शनल यूटोपिया 

इसके अनुसार  शांगरी-ला की खोज की कहानी 1930 के दशक की शुरुआत में स्थापित की गई थी। जब भारत में बसकुल के ब्रिटिश निवासियों को क्रांति के दौरान पेशावर ले जाया जा रहा था। 

shangri-la-the-fiction-utopia
Shangri-La The fiction utopia | शंगरीला द फिक्शनल यूटोपिया 

जब विमान “कुएन-लुन” पहाड़ों की ऊंचाई पर कहीं दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है, तो चार लोग लापता हो जाते है। 

उस दौरान चीनी पायलट ने उन्हें मरने से पहले विमान से नीचे गिरते समय एक लामसेरी में शरण लेने के लिए कहा।

लामासरी पहुँचने पर वे कई युवा पोस्टुलेंट या भिक्षुकों को देखते हैं, तथा वहां उच्च लामा से भी उनकी मुलाकात होती हैं। 

वहां उनको ज्ञात होता  है, कि 18वीं शताब्दी की शुरुआत में फ्रांस के एक कैथोलिक भिक्षु ने इस लामासरी का निर्माण किया था। 

उनको यह देखकर अत्यंत आश्चर्य होता है, कि  घाटी में निवास करने वाले लोगों की उम्र दुनिया के बाकी हिस्सों की तुलना में बहुत धीमी गति से बढ़ती है।

लेकिन यदि  कोई भी व्यक्ति लंबे समय तक वहां रहने के बाद घाटी छोड़ देता है, तो वह बूढ़ा हो जाएगा और बहुत जल्दी मर जाएगा। 

चारों लोगों का उद्देश्य सर्वोच्च लामा को ढूँढना है। जो वास्तव में फ्रांसीसी भिक्षु है, तथा अब 250 साल का मरणासन्न व्यक्ति है।

कहानी के अनुसार चार यात्री जब उस लामा को ढूंढ लेंगे, तो उनमे  से एक को सर्वोच्च लामा की मृत्यु पर लेमसारी का नेतृत्व करने के लिए चुना जायेगा।

जैसे-जैसे कहानी आगे बढ़ती है। पता चलता है, कि चारों में से एक को एक युवा लड़की से प्यार हो गया है। वह उसके साथ जाने का फैसला करता है, तथा दूसरों को भी साथ जाने के लिए मना लेता है।

कहानी के अनुसार चुंग-किआंग (संभवतः चोंगकिंग) के एक छोटे से अस्पताल में केवल एक को देखा जाता है। जिसे एक बहुत बूढ़ी महिला द्वारा लाया गया था। 

ये बूढ़ी महिला वही लड़की होती है, जिससे उस युवा को प्रेम हुआ था। क्योंकि लड़की घाटी छोड़ गयी थी। इसी कारण उसकी आयु समय के साथ बढ़ी और वह मृत्यु को प्राप्त हुई। 

एकमात्र जीवित लड़का अस्पताल में एक ब्रिटिश न्यूरोलॉजिस्ट को अपनी कहानी सुनाता है, फिर यहाँ से चला जाता है। 

वो  शांगरी-ला की पौराणिक घाटी में वापस जाने की तैयारी कर रहा था। उसके बाद उसे दोबारा कभी नहीं देखा गया। 

Sources of Shangri-La Mistry | शांगरीला की जानकारी के स्रोत

शांगरिला के अस्तित्व को लेकर  कई प्राचीन लिपियाँ मौजूद हैं, जिनमें से कई को हिल्टन ने उपन्यास लिखने से पहले अध्ययन किया था।

sources-of-shangri-la-mistry
Sources of Shangri-La Mistry | शांगरीला की जानकारी के स्रोत

उपन्यास में कई संदर्भ वनस्पतिशास्त्री, जोसेफ रॉक के नेशनल ज्योग्राफिक के लिये लिखे गये लेखों से प्रेरित थे। जिन्होंने दक्षिण पश्चिम चीन एवं  तिब्बती सीमावर्ती क्षेत्रों की खोज में कई साल बिताए।

उन्हें फ्रांसीसी पुजारियों, हक एवं  गैबेट द्वारा तिब्बत के शुरुआती अन्वेषणों के साथ-साथ लंदन में ब्रिटिश पुस्तकालय में उपलब्ध तिब्बती सामग्री के अध्ययन में भी काफी समय बिताया।

हिल्टन ने लॉस्ट होराइजन उपन्यास को प्रकाशित करने से कुछ साल पहले, खुद जाकर कश्मीर में हुंजा घाटी का दौरा किया था, जो चीनी सीमा के समीप स्थित है। 

घाटी हरे-भरे पेड़ों एवं पहाड़ों से घिरी हुई है, तथा अंदर या बाहर जाने के लिए केवल एक ही रास्ता है। ऐसा  माना जाता है, कि इसने शांगरी-ला की घाटी के भौतिक विवरण के लिए हिल्टन को प्रेरित किया था। 

तिब्बती बौद्ध धर्म में शम्भाला एक मूल अवधारणा है। जो एक ऐसे क्षेत्र का वर्णन करती है, जहां मनुष्य प्रकृति के साथ घुल मिलकर रहता है। जिसकी वजह से कालचक्र या “समय का पहिया” भी उसके अनुसार व्यवहार करता है। 

छठे पंचेन लामा द्वारा लिखे गए शंभला सूत्र में इस आदर्श भूमि का बहुत विस्तार से वर्णन किया गया है।  इस सूत्र के अनुसार शम्भाला के कुछ स्थान उत्तर पश्चिमी तिब्बत में नगारी प्रान्त में स्थित हैं।

इससे जुडी बहुत सारी लोककथाएँ भी सुनने को मिलती हैं, जो बताती हैं, कि अल्ताई पर्वत के क्षेत्र में स्थित हैं। जहाँ चीन, रूस, मंगोलिया एवं कजाकिस्तान की एक दूसरे से सीमा लगती हैं। 

ऐसी ही एक कथा के अनुसार बेलुखा पर्वत को शम्भाला का प्रवेश द्वार बताया गया है। कहा जाता है, यही से आप शम्भाला में प्रवेश कर सकते है। 

कुनलुन पर्वत जिनके विषय में नयी-नयी खोज हुई थी, एवं जिनको उपन्यास में कुएन-लुन पर्वत श्रृंखला के नाम से वर्णित किया गया है, शम्भाला या शंगरीला का स्रोत बने। 

तिब्बत का एक पुराना नक्शा पर्वत श्रृंखला को “कुएन-लुन” के रूप में लिखा गया है ( चीनी डाक पते में, इसे “क्वेनलुन पर्वत” के रूप में लिखा गया है।  

Where is Shangri-La city | शांगरिला कहाँ स्थित है 

शंगरीला के विषय में एक सबसे बड़ी बात यह है, कि वास्तव में कोई नहीं जानता कि ऐसी कोई जगह मौजूद है या नहीं। 

where-is-shangri-la-city
Where is Shangri-La city | शांगरिला कहाँ स्थित है 

बौद्ध ग्रंथों एवं  प्राचीन लोककथाओं में एक छिपे हुए स्वप्नलोक के कई उल्लेख होने के बावजूद, इस बात का कोई ठोस प्रमाण नहीं है, कि शांगरीला या इसी तरह की कोई अन्य जगह वास्तव में लोक कथाओं और धार्मिक सूत्रों के बाहर मौजूद या नहीं है। 

2001 में उत्तर-पश्चिम युन्नान प्रांत में काउंटी-स्तरीय शहर झोंगडीयन को आधिकारिक तौर पर इस क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए शांगरीला या चीनी में जियांगगेलिला नाम दिया गया। 

 हर साल कई तिब्बत टूर वहां संचालित होते हैं। युन्नान के तिब्बती क्षेत्र का एक खूबसूरत हिस्सा शहर के पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है, लेकिन “वास्तविक” यूटोपिया होने के किसी भी दावे का कोई प्रामाणिक सबूत नहीं है।

हिल्टन के उपन्यास में बताये गए स्थानों के कई संदर्भ ऐसे हैं, जो उत्तरी युन्नान प्रांत के अपने अन्वेषणों में जोसेफ रॉक द्वारा वर्णित स्थानों से मेल खाते हैं। 

विशेष रूप से युन्नान एवं सिचुआन प्रांतों के बीच की सीमा पर तलहटी में नक्सी लोगों के निवास वाला क्षेत्र हिल्टन की परिकल्पना से पूर्णता मेल खाता है। हिल्टन वास्तव में कभी भी चीन नहीं गए ।

उपन्यास के लिए दिए गए साक्षात्कारों में उनकी अपनी प्रतिक्रियाएं उनकी “कल्पना” को प्रेरित करने में रॉक के साहित्यिक कार्यों के साथ-साथ हक और गैबेट का भी हाथ है।

तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र के नगारी प्रान्त में त्सापरंग का परित्यक्त शहर पौराणिक शांगरीला का स्थान हो सकता है। हालांकि यह शहर प्राचीन गेज साम्राज्य का घर था। 

यह शहर दो महान मंदिरों की मेजबानी करता था। त्सपरांग के लोग बिना किसी निशान को छोड़े हुए सदियों पहले गायब हो गए थे।

साहित्य एवं धर्म में दुनिया भर में पाए जाने वाले कई पौराणिक स्थानों में से एक, जैसे कि एल डोरैडो, द फाउंटेन ऑफ यूथ, द होली ग्रेल, और तिर ना नोग, शांगरीला आजीवन खोज के लिए एक पर्याय बन गया है। 

क्या वाकई ऐसी जगह मौजूद है? और अगर ऐसा होता है, तो क्या कोई वाकई बाहर आकर दुनिया को बताना चाहेगा? शायद नहीं, क्योंकि यह अब वह नहीं होगा जो नाम से पता चलता है, एक आदर्श छिपा हुआ स्वप्नलोक। 

लेकिन फिर भी सिचुआन तिब्बत में युन्नान अपने प्राकृतिक सुंदर परिदृश्य के साथ शांगरीला का बेहतरीन उदाहरण है, जिसने पिछले कुछ दशकों में तिब्बत यात्रा के लिए लाखों पर्यटकों को आकर्षित किया है।

यह शम्बाला की भूमि एक घाटी में स्थित है। जहाँ  केवल कमल की पंखुड़ियों की तरह बर्फ की चोटियों की एक अंगूठी के माध्यम से पहुंचा जा सकता है। इसके केंद्र में एक नौ मंजिला क्रिस्टल पर्वत है, जो एक पवित्र झील पर खड़ा है। 

यहाँ लैपिस, मूंगा, रत्न और मोती से सजा हुआ महल है। शम्बाला एक ऐसा राज्य है, जहाँ मानवता की बुद्धि समय और इतिहास विनाश और भ्रष्टाचार से बची हुई है। जो दुनिया को उसकी जरूरत की घड़ी में बचाने के लिए प्रकट होगी।

Shangri-La and present world | वर्तमान में शंगरीला 

जैसा कि हमने देखा है, शांगरी-ला की कहानी एक आधुनिक कहानी है, जिसमें आज की दुनिया के लिए एक शक्तिशाली आकर्षण छिपा है। 

लेकिन इसकी जड़ें बहुत पुरानी एवं कालचक्र में गहरी छिपी हैं। हम एक ऐसे दौर में जी रहे हैं, जब वैश्विक समस्याएं हम पर हावी हो रही हैं और हमें भय से भर रही हैं। 

शम्बाला और शांगरी-ला की कहानी इस डर के साथ उनके संबंध में छिपी है, कि कैसे दोनों इस सार्वभौमिक अपील को पहचानते हैं, और इसे कम करते हैं। 

हमको सदैव ध्यान रखना चाहिए, कि कहानियाँ हमारी इच्छा को दर्शाती हैं, कि हमारी दुनिया का कुछ जीवित रहेगा, और हमारे अतीत के साथ हमारा संबंध पूरी तरह से मिटाया नहीं जाएगा। 

भले ही हम अनिश्चित भविष्य में तेजी से आगे बढ़ते हैं। ये ऐसे किस्से हैं, जिन पर हमें आज भी विश्वास करने की जरूरत है।

Prophecy of Shambhala | शम्भाला की भविष्यवाणी 

शम्बाला की भविष्यवाणी में कहा गया है, कि इसके 32 राजाओं में से प्रत्येक 100 वर्ष तक शासन करेगा। जैसे-जैसे उनका शासन बीतता जाएगा बाहरी दुनिया में हालात बिगड़ते जाएंगे। 

मनुष्य युद्ध के प्रति जुनूनी हो जाएगा। सत्ता पाने के लिये कुछ भी करेगा, तथा भौतिकवाद सभी प्रकार के आध्यात्मिक जीवन पर विजय प्राप्त करेगा।

अंतत: आतंक के निरंकुश शासन में पृथ्वी पर अत्याचार करने के लिए एक दुष्ट अत्याचारी उभरेगा। जो सब तरफ अपने आतंक से हाहाकार मचाएगा। 

लेकिन जब दुनिया पूरी तरह से पतन और विनाश के कगार पर लगती है, तो शंबाला के बर्फीले पहाड़ों से धुंद छटेगी और शांगरिला प्रकट होगा।

तब शम्बाला के 32 वें राजा रुद्र काक्रिन अत्याचारी और उसके समर्थकों के खिलाफ एक शक्तिशाली सेना का नेतृत्व करेंगे, और अंतिम महान युद्ध में उन्हें नष्ट कर दिया जाएगा और शांति बहाल कर दी जाएगी।

भारतीय समाज के इतिहास, विकास, भाषाओ, विविधताओं और उससे विभिन्न कलाओ पर पड़ने वाले प्रभाव को विस्तृत रूप से जानने के लिए भारतीय संस्कृति (Indian culture) पर जाये।

फैशन, संस्कृति, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

हिन्दीराशिफ़ल के पॉडकास्ट प्रसारण को सुनने के लिये Google PodcastSpotify,  Anchor में से अपनी सुविधानुसार किसी को भी चुने।

Leave a Reply