Saraswati Yantra | सरस्वती यंत्र

सरस्वती यंत्र ( Saraswati Yantra ) देवी सरस्वती का यंत्र है। जो ज्ञान और बुद्धि की देवी है, और पूरे ब्रह्मांड में प्रचलित सभी ज्ञान का एकमात्र उद्भव केंद्र है। यह सभी ज्ञान, बुद्धि  के अलावा सीखने और…

Continue ReadingSaraswati Yantra | सरस्वती यंत्र

Vyapar Vradhhi Yantra| व्यापार वृद्धि यंत्र

सम्पूर्ण व्यापार वृद्धि यंत्र ( Vyapar Vradhhi Yantra ) व्यावसायिक क्षेत्र में विशेष महत्व के साथ व्यावसायिक पथ और वित्तीय क्षेत्र में वृद्धि के लिए लाभदायक होता है। यह सुंदरा लहरी से प्रेरित यंत्र है। व्यापार वृद्धि यंत्र…

Continue ReadingVyapar Vradhhi Yantra| व्यापार वृद्धि यंत्र

Maha Meru Shri Yantra | महा मेरु श्री यंत्र

महा मेरु श्री यंत्र ( Maha Meru Shri Yantra ) समस्त यंत्रों में गहन गहराई लिए हुए है, और प्राचीन काल से इसका मानव इतिहास से गहरा संबंध है।   इसके अलावा यंत्रों के क्षेत्र में इसकी सबसे मजबूत जड़ें…

Continue ReadingMaha Meru Shri Yantra | महा मेरु श्री यंत्र

Shri Ganesh Yantra | श्री गणेश यंत्र

हिन्दू धर्म और संस्कृति में भगवान गणेश को समस्त शुभ फलों को प्रदान करने वाले देवता के रूप में मान्यता प्रदान की जाती है। गणेश जी को समस्त सुख सुविधाओं के प्रदाता का अधिकार प्राप्त है।  प्रत्येक शुभ…

Continue ReadingShri Ganesh Yantra | श्री गणेश यंत्र

Chamatkarik Shri Yantra | श्री यंत्र

श्री यंत्र ( Shri Yantra ) में सभी देवताओं की दिव्य अभिव्यक्ति और चमत्कारिक शक्ति समाहित होती है। इसे ब्रह्मांड के निर्माता भगवान ब्रह्मा द्वारा धरती पर लाया हुआ बताया जाता है। इसी तरह यह सभी देवी-देवताओं के दिव्य…

Continue ReadingChamatkarik Shri Yantra | श्री यंत्र

Magic of Yantra | यंत्र का जादू

जिस प्रकार कोई विधुत परिपथ का नक़्शा ( सर्किट ) उसके प्रमुख अवयव एवं उससे जुड़े अन्य अवयवों की स्थिति और संबंध दर्शाता है। उसी प्रकार यंत्र ( Yantra ) भी जिस शक्ति को आह्वाहन करना चाहते है,…

Continue ReadingMagic of Yantra | यंत्र का जादू

Anahata chakra Reveal | अनाहत चक्र का भेद

हमारे शरीर में अनाहत चक्र (Anahata chakra ) 7 चक्रों में से सबसे प्रभावशाली ऊर्जा केंद्र होता होता है। शुद्ध प्रेम के माध्यम से देवत्व की खोज इस चौथे चक्र को प्रेरित करती है। स्वतंत्र रूप से प्राप्त करने…

Continue ReadingAnahata chakra Reveal | अनाहत चक्र का भेद

Svadhisthana Chakra | स्वाधिष्ठान चक्र

दूसरा चक्र, जिसे स्वाधिष्ठान चक्र ( Svadhisthana Chakra) कहा जाता है, नारंगी रंग से जुड़ा हुआ है, और निचले पेट और आंतरिक श्रोणि में स्थित होता है। "स्वाधिष्ठान" शब्द अपने स्वयं के निवास का अनुवाद करता है।  प्राचीन…

Continue ReadingSvadhisthana Chakra | स्वाधिष्ठान चक्र

Vishuddha Chakra Reveal | विशुद्ध चक्र भेद

हमारे शरीर में पाँचवाँ चक्र विशुद्ध चक्र ( Vishuddha Chakra ) होता है। यह हमारे शरीर में गले के शीर्ष पर और हमारे स्वर यंत्र के केंद्र में स्थित होता है। इसी कारण इसको कंठ चक्र भी कहा…

Continue ReadingVishuddha Chakra Reveal | विशुद्ध चक्र भेद

Sahasrara chakra Reveal | सहस्रार चक्र भेद

क्राउन चक्र या सहस्रार चक्र ( Sahasrara chakra or crown chakra ) सातवां चक्र है, जो दिव्य ऊर्जा को शरीर में सक्रिय करता है। संस्कृत शब्द सहस्रार का अर्थ है 'हजार' या 'अनंत'। शरीर में 7 चक्र ऊर्जा…

Continue ReadingSahasrara chakra Reveal | सहस्रार चक्र भेद