हिन्दू धर्म और संस्कृति में भगवान गणेश को समस्त शुभ फलों को प्रदान करने वाले देवता के रूप में मान्यता प्रदान की जाती है। गणेश जी को समस्त सुख सुविधाओं के प्रदाता का अधिकार प्राप्त है। 

प्रत्येक शुभ काम की शुरुआत भगवान गणेश के पूजन से ही प्रारम्भ होती है। ऐसे में श्री गणेश यंत्र ( Shri Ganesh Yantra ) की महत्ता और भी अधिक हो जाती है। 

गणपति जी को सबसे दयालु और सिर्फ एक लड्डू या मोदक के भोग से खुश हो जाने वाला मन जाता है।  इनको रिद्धि सिद्धि प्रदाता भी कहा जाता है। 

यह यंत्र मानव जीवन  से सभी बाधाओं को दूर करने वाला और जीवन का दिव्य रक्षक होता है। 

इसके अलावा यह माना जाता है, कि किसी व्यक्ति की सभी इच्छाओं को पूरा करने के लिए यदि इस यंत्र को सच्चे मन से पूजा जाता है, और सभी अनुष्ठानों का निर्वहन किया जाता है।

तो जातक को समस्त सुखों का स्वामी बनने से कोई नहीं रोक सकता। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है, कि यह यंत्र ज्ञान और मन की शक्ति का दाता भी है।

जो एक समझदार दृष्टि के माध्यम से दुनिया पर विजय प्राप्त करने की शक्ति आपको प्रदान करता है।

जीवन में हर क्षेत्र  की शुरुआत में यंत्र को रखना और पूजा करना आपके आगे के रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए काफी है।

इसलिए इसे एक विशेष स्थान मिलता है, और यही बात इसको अत्यंत पूजनीय बनती है । 

कुल मिलाकर, यह स्वामी या उपासक को सभी भाग्य, सौभाग्य प्रदान करता है और जीवन पथ में विजय की ओर सफलता और सकारात्मक परिणामों के लिए कई दिशाएं खोलता है।

Shri Ganesh Yantra Structure | श्री गणेश यंत्र की ज्यामिति संरचना

यंत्र का निर्माण आमतौर पर तांबे से किया जाता हैं, और इसमें ज्यामितीय पैटर्न की एक श्रृंखला चिन्हित होती है।

shri-ganesh-yantra-structure

चेतना के उच्च स्तर को प्राप्त करने के लिए बिंदुओं के रूप में आंखें और मन यंत्र के केंद्र में केंद्रित होते हैं।

जो जातक को सीधे भगवन गणेश की शक्तिओं से जोड़ते हैं। गणेश यंत्र को भोजपत्र पर लाल चंदन से भी बनाया  जा सकता है।

साधारणतः  सोने, चांदी और तांबे से बने यंत्र ज्यादातर पूजा के लिए उपयोग किए जाते हैं, क्योंकि इन्हें पूजा कक्ष में दैनिक पूजा के लिए आसानी से रखा जा सकता है।

इसमें एक मुख्य बिंदू यानी यंत्र के केंद्र में बिंदु होता है, जो एक  शतकोनीय  बिंदु के साथ एक षट्कोणीय संकेंद्रित बिंदु होता है। 

अष्टदल यानी एक कमल का फूल जिसमें आठ पत्ते होते है। जिन पर षट्कोणीय बिंदु अंकित होते है। 

ये षट्कोणीय  बिंदु और कमल की चारों पत्तियां चार  दिशाओं में चार दरवाजों से घिरी होती हैं। इन बाहरी दरवाजों को यंत्र का भूपुर द्वार कहा जाता है।

Shri Ganesh Yantra Pujan Vidhi | श्री गणेश यंत्र पूजन विधि

इसकी पूजा के दौरान अवारना पूजा सबसे महत्वपूर्ण होती है। अवारना पूजा के दौरान कुल 42 मंत्रों के साथ गणेश यंत्र की पूजा की जाती है।

shri-ganesh-yantra-pujan-vidhi
Credit : Tanuj Handa

42 संख्याएँ यंत्र पर खींची गई आकृतियों से संबंधित होती है। पहली अवर्ण पूजा शतकोना (6 मंत्रों के साथ) गणपति जी  को समर्पित होती है. 

दूसरी अवर्ण पूजा आंतरिक अष्टदला (8 मंत्रों के साथ) को समर्पित होती है, तीसरी अवारना पूजा बाहरी अष्टदल (8 मंत्रों के साथ)  को समर्पित होती है।

चौथी अवर्ण पूजा 10 दिशाओं को समर्पित होती  है। पांचवीं अवारना पूजा 10 दिशाओं (10 मंत्रों के साथ) के रक्षक को समर्पित है।

अत: 6  + 8  + 8  + 10  +  से 42 बनता है, जो अवर्ण पूजा के दौरान जाप किए गए मंत्रों की कुल संख्या होती  है। कभी-कभी, पूजा को आसान बनाने के लिए यंत्र को 1 से 42 तक गिना जाता है। 

किसी भी यंत्र की पूजा शुरू करने से पहले उस यंत्र से जुड़े देवता से संबंधित मंत्रों का जाप करके देवता का आह्वान करना आवश्यक होता है।

वक्रतुंडाया श्री गणेश यंत्र की पूजा “ॐ वक्रतुंडाय नमः” मंत्र से की जाती है। चूंकि “ॐ वक्रतुण्डाय नमः” षडक्षर (षडक्षर) मंत्र है, इसे यंत्र पूजा शुरू करने से पहले छह लाख  बार जप करना चाहिए।

यदि प्रत्येक मंत्र के बाद आहुति देते समय हवन के साथ मंत्र जप किया जाए तो जप की प्रभावशीलता कई गुना बढ़ जाती है। 

सबसे पहले भगवान गणेश की मूर्ति को स्नान कराकर नए वस्त्रों से सजाकर यंत्र के बीच में रखना चाहिए। यंत्र अवरण पूजा शुरू करने से पहले, निम्नलिखित मंत्र का जाप करते हुए अनुमति लेनी चाहिए।

उसके लिए हाथ में फूल लेकर निम्न मंत्र का जाप करना चाहिए।

ॐ सच्चिन्मयः परो देवः परमृतरसप्रियः।

अनुज्ञां देहि गणप परिवार्चनाय में।।

पुष्पांजलिमादाय।

गणेश जी की मूर्ति के सामने गाय के घी में मिला हुआ गेहूं का आटा अग्नि में रखने से अपार धन और समृद्धि प्राप्त होती है।

यंत्र को स्थापित करने के बाद व्यक्ति को प्रतिदिन सुबह और शाम उचित विधि-विधान से इसकी पूजा करनी चाहिए। इसे घर के उत्तर-पूर्व कोने में पश्चिम की ओर मुख करके ही स्थापित करना चाहिए।

यंत्र पर प्रतिदिन ताजे फूल चढ़ाएं और अपने आस-पास के स्थानों को शुद्ध और स्वच्छ रखें। ऐसा माना जाता है कि “ॐ  गं गणपतये नमः” का प्रतिदिन जाप करने से जीवन की हर तरह की बाधा से राहत मिलती है। 

प्राचीन शास्त्रों में वर्णित सभी कर्मकांडों के साथ  सर्वोच्च रूप में यंत्र का पूजन करना चाहिए। विधि-विधान से यंत्र की पूजा करने से भक्त की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

धन प्राप्ति सम्बंधित जानकारी के लिये कुबेर यंत्र भी पढ़े जिसके लिये Kuber Yantra पर क्लिक करे।

Benifits of Shri Ganesh Yantra | श्री गणेश यंत्र के लाभ और महत्व

प्राचीन शास्त्रों में यंत्र की पूजा करने के अनुष्ठानों और नियमों का उल्लेख किया गया है। इस यंत्र की पूजा करने वाले व्यक्ति को एक साफ मंच पर बैठना चाहिए और यंत्र के सामने दीपक जलाना चाहिए। 

benifits-shri-ganesh-yantra
Credit : Terri Cnudde

जो व्यक्ति यंत्र का पाठ और पूजा करता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।  

शत्रुओं से सुरक्षा और बाधाओं से मुक्ति मिलती है। यह जीवन के हर पहलू में सफलता प्रदान करता है। 

श्री गणेश यंत्र हर प्रतियोगिता को जीतने के लिए ज्ञान, बुद्धि और क्षमता भी प्रदान करता है। 

जो व्यक्ति इस यंत्र की पूजा करता है उसे उसके रोग, दायित्व और दोषों से मुक्ति मिलती है।

व्यापार, नौकरी और परिवार का सुचारू संचालन।

महत्वपूर्ण कार्यों और समारोहों के संपन्न होने में होने वाली  बाधाओं को दूर करना।

जातक की बुध्दि और विवेक क्षमता में वृद्धि होती है। 

लग्न, वर्षफल, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

अब आप हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने।