हमारे शरीर में अनाहत चक्र (Anahata chakra ) 7 चक्रों में से सबसे प्रभावशाली ऊर्जा केंद्र होता होता है। शुद्ध प्रेम के माध्यम से देवत्व की खोज इस चौथे चक्र को प्रेरित करती है।

स्वतंत्र रूप से प्राप्त करने और देने के लिए हृदय प्रणाली को खोलना हमारे हृदय चक्र द्वारा नियंत्रित होता है।

संस्कृत भाषा में, अनाहत का अर्थ है “बिना मारा” या “नाबाद”। यह एक निष्पक्ष और अनंत प्रेम का प्रतीक है जो स्वयं और दूसरों की गहरी समझ की अनुमति देता है। 

यह हृदय के क्षेत्र में, छाती के केंद्र में स्थित होता है। यह एक व्यक्ति को खुले दिल से संबंधों के विभिन्न स्तरों के अनुभवों पर ध्यान करने के लिए आमंत्रित करता है।

इसके हरे रंग के साथ संबंधित तत्व वायु है, जो स्वतंत्रता और विस्तार का प्रतिनिधित्व करता है। यह चक्र एक ऐसी चेतना को बढ़ावा देता है।

जो  हमारे भीतर असीम करुणा की भावना विकसित करती है। अनाहत चक्र का मंत्र ‘यम’ है। इसका अर्थ है, जाने देना, मुक्त करना, देना।

Location of Anahata chakra | अनाहत चक्र की स्थिति 

हमारे शरीर में हृदय चक्र मेरुदंड के मध्य प्रणाली में हृदय के पास स्थित होता है। अनाहत को बारह पंखुड़ियों वाले कमल के फूल द्वारा दर्शाया गया है।

अंदर दो त्रिकोणों के चौराहे पर एक धुएँ के रंग का क्षेत्र है, जो एक षट्कोण बनाता है। षट्कोण हिंदू यंत्र में इस्तेमाल किया जाने वाला प्रतीक है, जो नर और मादा के मिलन का प्रतिनिधित्व करता है।

विशेष रूप से यह चिन्ह  पुरुष (परमात्मा) और प्रकृति (प्रकृति) का प्रतिनिधित्व करने के लिए है। इस क्षेत्र के देवता वायु हैं।

जो धुएँ के समान और चतुर्भुज हैं, एक कुश धारण करते हैं, और एक मृग (इस चक्र का जानवर) की सवारी करते हैं।

Significance of Anahata chakra | अनाहत चक्र की विशेषताएं 

heart-anahata-chakra-symbol

Air Element | वायु तत्व

हृदय या अनाहत चक्र का तत्व वायु या वायु है, वायु विस्तार और चौड़ाई की स्वतंत्रता का प्रतीक है। एक दिल जो बिना किसी रोक-टोक के देने को तैयार है।

वायु शारीरिक रूप से स्पर्श की भावना और भावनात्मक भावनाओं से जुड़ा हुआ है। जब दिल खुला होता है, तो व्यक्ति आशावादी, मैत्रीपूर्ण और खुद पर विश्वास करने के लिए प्रेरित महसूस करता है। 

जब हृदय चक्र संतुलित होता है, तो रिश्तों को पूरा करना आसान हो जाता है, क्योंकि हम दूसरों के प्रति अधिक दयालु और समझदार हो जाते हैं।

Green Colour | हरा रंग

चक्र का हरा रंग विकास और नए सिरे से स्वस्थ संबंधों का प्रतिनिधित्व करता है। हरा रंग प्रकृति, ताजगी और कोमलता से जुड़ा है। यह मानव आंख के लिए एक उपचार और आराम देने वाला रंग है।

हरा रंग हमको स्थिरता और धीरज का सुझाव देता है। शांति, संतुलन  और अपने लिए करुणा और दूसरों के लिए हृदय चक्र के विषय बताता हैं।

हरा एवं अन्य रंगो का मानव जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव के अध्यन और इससे सम्बंधित ग्रहो से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए सात रंग का रहस्य (Colour) पढ़े।

Anahata chakra Mantra and Meditation | अनाहत चक्र बीज मंत्र और ध्यान

ध्यान हृदय चक्र में उचित ऊर्जा प्रवाह को बहाल करने में मदद कर सकता है। ध्यान एक गहरा व्यक्तिगत अनुभव है।

जो भीतर शांति का अनुभव करने का मार्ग साफ करता है। यह विभिन्न चिंतित विचारों को हल करता है जो जीवन में असंतुलन लाते हैं।

इस चक्र से जुड़ा मंत्र यम है। इसे हृदय चक्र के प्रतीक के साथ चित्रित हृदय का बीज या बीज माना जाता है। 

Anahata chakra symbol | अनाहत चक्र का आकार एवं रूप 

mantra-color-element-heart-anahata-chakra
Source : Anahata

चक्र को बारह पंखुड़ियों वाले कमल के फूल के द्वारा दर्शाया गया है। अंदर दो त्रिकोणों के चौराहे पर एक धुएँ के रंग का क्षेत्र है, जो एक षट्कोण बनाता है। 

बारह पंखुड़ियाँ निम्नलिखित संस्कृत अक्षरों में अंकित हैं। कुछ अभ्यावेदन में शब्दांश या फिर पंखुड़ियाँ स्वयं रंगीन सिंदूर रंग की होती हैं।

कामी, खाम,गम,नगाम,चामो,छम,जाम,झाम,न्याम,ताम,थाम ये शब्द इन पंखुड़ियों पर लिखे होते हैं|

Problems due to of Anahata chakra | शरीर में अनाहत चक्र का असंतुलन और समस्याएं 

हृदय चक्र में ऊर्जा प्रवाह के मुद्दे हमें अकेला, अलग-थलग और कनेक्ट करने में असमर्थ महसूस करा सकते हैं। ऐसा इसलिए है।

क्योंकि जब हम घायल होते हैं, और अतीत में फंसे हुए महसूस करते हैं। तो यह हमारे चिंता का कारण बनता है। 

एक व्यक्ति किसी भी रिश्ते को साझा करने और उस पर भरोसा करने से डर सकता है। बचपन से कोई भी हल की गई निराशा एक वयस्क के रूप में हमारे व्यवहार को प्रभावित कर सकती है। 

नीचे दिए गए लक्षणों में से कोई भी संकेत देता है कि हृदय चक्र को पुनर्संतुलन और उपचार की आवश्यकता है।

1 अस्वीकृति का डर

2 एक प्रतिबद्ध रिश्ते में विश्वास का नुकसान 

3 स्नेह देने और प्राप्त करने के मुद्दे

4 रिश्ते में ज्यादा निर्भरता

5 देखभाल करने वाले लोगों के साथ दूर का व्यवहार

6 कमजोर महसूस करते हुए सख्त और भावहीन उपस्थिति

7 शारीरिक लक्षण जैसे दिल की धड़कन, खराब रक्त परिसंचरण, दिल में दर्द, एनजाइना या यहां तक ​​कि अस्थमा जैसी समस्याएं उत्पन्न होना।

Balancing of Anahata chakra | अनाहत चक्र को संतुलित करना

आपके शरीर में जब हृदय चक्र खुलता है, तो आप प्रचुर मात्रा में सहानुभूति, करुणा और प्रेम का अनुभव करेंगे। यह न केवल दूसरों के लिए बल्कि स्वयं के लिए भी अनुवाद करता है।

एक संतुलित चक्र लोगों को बाहरी अपेक्षाओं के अनुसार खारिज करने या बदलने की कोशिश करने के बजाय वह पूर्ण होने में सहयोग करता है, जो वे हैं।

खुले हृदय चक्र वाला व्यक्ति अपने आप में विश्वास विकसित करता है, और दूसरों का सम्मान करता है। हृदय चक्र को अनवरोधित करने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं।

Anahata chakra Activation | अनाहत चक्र को खोलना 

मंत्र का जाप करने से शारीरिक और आध्यात्मिक हृदय केंद्र दोनों ठीक हो जाते हैं। यह बिना शर्त प्यार और करुणा का अनुभव करने के लिए एक व्यक्ति को और अधिक खुला बनाता है।

पैर के ऊपर पैर करके बैठें और गहरी सांसें लें। हृदय चक्र पर ध्यान केंद्रित करें, और यम को बदलना शुरू करें।

पूरे शरीर में प्रवाहित होने वाली ऊर्जा के साथ चक्र के खुलने की कल्पना करें। यम जप के स्पंदन सकारात्मक भावनाओं का प्रवाह उत्पन्न करते हैं। दैनिक पुष्टि आत्मविश्वास का निर्माण करती है।

दैनिक रूप से खुद के सकारात्मकता होने की पुष्टि करना हृदय चक्र से जुड़ी सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने में मदद कर सकता है। कृतज्ञता पत्रिका रखने से वर्तमान क्षण के उपहारों को स्वीकार करने में मदद मिलती है। 

1 मैं खुद को गहराई से और पूरी तरह से प्यार करता हूं, और स्वीकार करता हूं।

2 मैं चाहता हूँ और प्यार करता हूँ।

3 मेरा दिल प्यार के लिए खुला है।

4 मैं खुद को माफ कर देता हूं।

5 मैं अनुग्रह और कृतज्ञता की स्थिति में रहता हूँ।

Pranayama | प्राणायाम

pranayama-heart-anahata-chakra-reveal
Credit : Zauheb Sardar

चौथा चक्र का तत्व वायु है। इसलिए श्वास-प्रश्वास आपके हृदय चक्र को खोलने का प्रवेश द्वार है। अनुलोम विलोम सबसे अच्छी श्वास-प्रश्वास तकनीकों में से एक है।

जो न केवल दाएं और बाएं मस्तिष्क गोलार्द्धों को संतुलित करती है, बल्कि हृदय को भी खोलती है। अनुलोम विलोम का अभ्यास करने से तन और मन दोनों को शांति मिलती है।

Green Food | ऊर्जा संतुलन के लिए हरा आहार

इसका प्रमुख रंग हरा है। जिस चक्र को आप ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं। उसी रंग के खाद्य पदार्थ खाने से उस क्षेत्र में ऊर्जा प्रवाह संतुलित हो सकता है। 

संतुलन बहाल करने में मदद करने वाले खाद्य पदार्थ पालक, केल, ब्रोकली, मटका, हरे सेब, हरी चाय, खीरा, आदि हैं।

स्वस्थ शरीर और दिमाग के लिए विशेषज्ञ पोषण विशेषज्ञों द्वारा हरी सब्जियों की भी सिफारिश की जाती है।

Forgiveness | क्षमा करने की आदत का अभ्यास करना

जब हमने नुकसान और अलगाव का अनुभव किया है, तो यह हमें न्यायपूर्ण और ईर्ष्यालु बना सकता है। क्षमा का अभ्यास करने का प्रयास करना बहुत कठिन कार्य प्रतीत हो सकता है। 

अतीत के आक्रोश और क्रोध को न भूल पाना ही हमें भविष्य के सुख में आगे बढ़ने से रोकता है। किसी करीबी दोस्त से बात करना या किसी पेशेवर काउंसलर से मिलना दिमाग को शांत करता है।

आंतरिक विकास और शांति के लिए यह आपका मार्गदर्शन करता है। अन्य चक्र सम्बंधित क्रमवार विवरण के साथ अध्यन हेतु chakras लिंक पर जाये और अपनी जिज्ञासा को शांत करे।

Conclusion | निष्कर्ष 

हृदय चक्र जो ऊर्जा प्रकट करता है। उसका हमारे व्यक्तित्व पर गहरा प्रभाव पड़ता है। एक सार्थक और संतुलित जीवन तब प्राप्त किया जा सकता है। जब हमारा हृदय चक्र संतुलन में हो।

एक संतुलित हृदय या अनाहत चक्र से स्वयं का ज्ञान होता है, जो दूसरों के साथ एक मजबूत संबंध विकसित करने में मदद करता है।

राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

नक्षत्रो एवं लग्न के विषय में अधिक जानने के लिए जन्म माह और जन्म दिनाँक के आधार पर सम्पूर्ण भविष्य जानने के लिए ” जन्म से शिखर तक ” पढ़े।