दूसरा चक्र, जिसे स्वाधिष्ठान चक्र ( Svadhisthana Chakra) कहा जाता है, नारंगी रंग से जुड़ा हुआ है, और निचले पेट और आंतरिक श्रोणि में स्थित होता है। “स्वाधिष्ठान” शब्द अपने स्वयं के निवास का अनुवाद करता है। 

प्राचीन समय से मानव जीवन में योग और अध्यात्म के क्षेत्र में शरीर के ऊर्जा केंद्रों के रूप में 7 चक्रों को  माना गया है। 

यह वो सात ऊर्जा केंद्र होते है जो शरीर की केंद्र रेखा से नीचे जाते है। इनके सही रूप से संतुलित होने पर, हमारी ची, या जीवन शक्ति ऊर्जा शरीर में ठीक से प्रवाहित होती है। 

जब यही ऊर्जा केंद्र अवरुद्ध हो जाते है, तो यह हमारे भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकते  है।

Location of Sacral or Svadhisthana chakra | स्कॉरल चक्र या स्वाधिष्ठान चक्र की स्थिति 

यह मानव शरीर में जुनून की भावना, आनंद और रचनात्मकता का केंद्र होता  है।

यह चक्र नाभि से लगभग 4 अंगुल नीचे श्रोणि क्षेत्र में स्थित होता है। जब स्वाधिष्ठान चक्र आपके शरीर में  संतुलन से बाहर हो जाता है, तो आप अविश्वास के मुद्दों का अनुभव कर सकते हैं।

दूसरों के प्रति ठंडा और दूरी का व्यवहार कर सकते हैं, या आप विपरीत अनुभव कर सकते हैं, और अत्यधिक जरूरतमंद और आश्रित हो सकते हैं।

यह चक्र कामुकता और रचनात्मकता से भी जुड़ा हुआ है। इस ऊर्जा केंद्र का प्राथमिक कार्य आनंद और जीवन का समग्र आनंद लेना है।

जब स्वाधिष्ठान चक्र संतुलित और ठीक से काम कर रहा है, तो हम अपने और दुनिया के साथ अपने संबंधों को सामंजस्यपूर्ण, आनंददायक और पोषण करने की उम्मीद कर सकते हैं।

Significance of Svadhisthana chakra | स्कॉरल चक्र या स्वाधिष्ठान चक्र की विशेषताएं 

svadhisthana-chakra-sacral-symbol

Water Element | जल तत्व का प्रवाह 

जल तत्व के भीतर प्रवाह की अपार शक्ति होती है। किसी भी विनाशकारी परिणामों से बचने के लिए इस ऊर्जा को विनियमित किया जाना ज़रूरी होता है। 

जब यह संतुलन में होता है, तो हमारी भावनाएं बिना किसी निर्णय के हमारे माध्यम से प्रवाहित होती हैं।

इन भावनाओं को पहचानने से हमारी गहराई से समझने और अपनी इच्छाओं को व्यक्त करने की क्षमता बढ़ती है।इसके साथ ही  यह संतुलन और सद्भाव बहाल करता है।

Orange Color | नारंगी रंग की संतुलित ऊर्जा

इस चक्र का नारंगी रंग से जुड़ाव सूर्योदय की तरह ही उदीयमान चेतना का प्रतीक होता है। नारंगी गतिविधि और शुद्धता का रंग है, यह इस चक्र में है कि हम अपने इच्छित जीवन को डिजाइन करते हैं। 

यह रंग जिन गुणों को प्रकट करता है वे हैं, आनंद, विश्वास, आत्मविश्वास और संतुलित ऊर्जा से संबंध रखते हैं। 

नारंगी एवं अन्य रंगो का मानव जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव के अध्यन और इससे सम्बंधित ग्रहो से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए सात रंग का रहस्य (Colour) पढ़े।

Energy | ऊर्जा

यह चक्र हमें अपनी इच्छाओं को आकार देने में सक्षम बनाता है। जुनून के केंद्र के रूप में, पवित्र चक्र सृजन की शक्ति को जागृत करता है। 

यह एक व्यक्ति को पसंद की शक्ति की खोज करने और अंतरंग संबंध बनाने की अनुमति देता है। 

आनंद से प्रेरित, त्रिक चक्र भावनात्मक कल्याण को बढ़ावा देता है। यह हमारी कामुकता और हमारी भावनात्मक जरूरतों और इच्छाओं की अभिव्यक्ति में सक्रिय भूमिका निभाता है।

Emotional and Mental Health | भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य

यह चक्र व्यक्तिगत पहचान पर केंद्रित है, और यह भौतिक दुनिया की मोहक शक्तियों के प्रति कैसे प्रतिक्रिया करता है। 

जब दूसरा चक्र असंतुलित होता है तो यह भावनात्मक रूप से परेशान, चिड़चिड़ा, रचनात्मकता की कमी और यौन विचारों से ग्रस्त होता है।

एक संतुलित त्रिक चक्र में जोखिम लेने और सकारात्मकता और करुणा का अनुभव करने की क्षमता होती है।

Svadhisthana chakra Mantra | स्वाधिष्ठान चक्र का बीज मंत्र

योग के अलावा अपने समस्त चक्रों को नियंत्रित और संतुलित करने के लिए हम उन चक्रों से सम्बंधित बीज मंत्रों का उच्चारण भी कर सकते है। 

इन मन्त्रों का जाप करने की सबसे अच्छी मुद्रा ध्यान मुद्रा होती है। स्वाधिष्ठान चक्र ( Svadhisthana Chakra ) का बीज मन्त्र ” वं ” होता है, जो की हमारे अंगूठे में स्थित होता है। 

इन सकारात्मक मन्त्रों का का जाप मौन अवस्था में किया जाये तो अधिक सफल परिणाम पाए जा सकते हैं |

Svadhisthana Chakra symbol | स्वाधिष्ठान चक्र का आकार एवं रूप 

इस चक्र को सफेद कमल के रूप में चित्रित किया गया है। इसमें छह सिंदूर रंग की पंखुड़ियाँ हैं, जो अक्षरों के साथ खुदी हुई हैं  ” बं ” ,” भं “, “मं”, “यं”, “रं” और “लं ”  होती है।  

mantra-color-element-svadhisthana-chakra-sacral

इस कमल के अंदर एक सफेद अर्धचंद्र है, जो वरुण देवता की अध्यक्षता वाले जल क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है। इसका बीज मंत्र, अंतरतम चक्र में स्थित है, जो एक चंद्रमा पर सफ़ेद  “वं ” लिखा है। 

मंत्र के ऊपर जो बिंदु के भीतर है वह  देवता विष्णु हैं। वह गहरे नीले रंग का है और पीले रंग की धोती पहनता है। उनके पास शंख, गदा, चक्र और कमल है।

वह श्रीवत्स चिह्न और कौस्तुभ रत्न धारण करता है। वह या तो गुलाबी कमल पर या दिव्य गरुड़ गरुड़ पर विराजमान है।

उनकी शक्ति देवी रकीनी है। वह काली है, लाल या सफेद कपड़े पहने और लाल कमल पर विराजमान है। उसे आमतौर पर एक चेहरे और दो भुजाओं के साथ चित्रित किया जाता है।

जिसमें एक हाथ में तलवार और दुसरे में एक ढाल होती है, या दो चेहरे और चार सशस्त्र होते हैं, और एक त्रिशूल, कमल, ड्रम और वज्र, या एक तीर, खोपड़ी, ड्रम और कुल्हाड़ी रखती है।

Problems due to of Svadhisthana chakra | शरीर में स्वाधिष्ठान चक्र का असंतुलन और समस्याएं 

जब त्रिक चक्र असंतुलित होता है, तो यह आपको भावनात्मक और शारीरिक रूप से कमजोर महसूस करा सकता है। अवसाद, अत्यधिक संवेदनशील होना, चिंता का अनुभव करना सभी अशांत ऊर्जा के लक्षण हो सकते हैं।

बाध्यकारी या जुनूनी व्यवहार के साथ रिश्ते में नियंत्रण खोने का डर एक असंतुलित स्वाधिष्ठान चक्र ( Svadhisthana Chakra ) का संकेत है।

यह काम और करियर जैसी शारीरिक चीजों से जुड़ाव को भी प्रभावित करता है। यहाँ हम जानेंगे कुछ प्रमुख समस्याएं जो स्वाधिष्ठान चक्र के असंतुलित होने पर मानव शरीर में उत्पन्न होती है। 

1. दीर्घकालिक पीठ दर्द की समस्या 

2. गठिया की शिकायत 

3. जननांग या यौन समस्याएं

4. कूल्हे से सम्बंधित समस्याएं 

5. रक्ताल्पता की समस्या 

6. जोड़ो की समस्या

7. शारीरिक ऊर्जा की कमी

8. प्लीहा और किडनी की समस्या

9.  प्रागार्तव

Overactive Svadhisthana chakra Symptoms | अतिसक्रिय स्वाधिष्ठान चक्र के लक्षण 

एक अति सक्रिय चक्र का अर्थ है, पूरे शरीर में बहुत अधिक ऊर्जा वितरित करना। चूंकि यह चक्र भावनाओं को नियंत्रित करता है, अतिसक्रिय ऊर्जा एक अत्यधिक भावना पैदा करती है। 

भावनाओं को अधिक गहराई से अनुभव करना और अत्यधिक तेज़ मिजाज एक अति संवेदनशील प्रकृति का संकेत देते हैं।

अपने आप को बाहरी चीजों से पूरा करने के लिए लगातार संघर्ष करने के कारण जीवन में असंतोष की भावना व्यसनी व्यवहार ला सकती है।

एक निष्क्रिय चक्र पूर्ण शारीरिक और मानसिक स्वास्थ को प्रभावित कर सकता है।

जब आपके शरीर में यह अवरुद्ध हो जाता है। तो अनिश्चितता से लेकर जीवन के परिवर्तनों का सामना करने में असमर्थता तक नियंत्रण की कमी की भावनाएं व्याप्त हो सकती हैं।

इच्छाओं को स्वतंत्र रूप से व्यक्त करने का मार्ग भी कलात्मक क्षमताओं में बाधा डालता है। साथ ही, अन्य लोगों पर निर्भर या सह-निर्भर होना एक मनोवैज्ञानिक असंतुलन पैदा करता है जिससे स्वयं से अलगाव होता है।

1. आनंद या सुख के खोने का डर

2. रचनात्मकता की कमी

3.अत्यधिक थकान

4. इच्छा की कमी

5. असुरक्षा की भावना

6. अलगाव का एहसास

7. कामेच्छा में कमी 

Balancing of Svadhisthana Chakra | स्वाधिष्ठान को संतुलित करना

आपके शरीर में चक्रों के संतुलन को बहाल करने या पुन: व्यवस्थित करने के सरल तरीके होते हैं। चक्र चिकित्सा पूरे शरीर में ऊर्जा का एक सामंजस्यपूर्ण प्रवाह लाती है।

आपके स्वाधिष्ठान चक्र को संतुलित करने के कुछ तरीके इस प्रकार से हैं।

Svadhisthana chakra Activation | स्वाधिष्ठान चक्र को खोलना 

इस प्रक्रिया के अंतर्गत आपके अवचेतन मन में कहीं न कही बसे नकारात्मक विचारों की पुष्टि करके उन्हें सकारात्मक विचारों में परिवर्तित करना और उन सकारात्मक संकेतों को अवचेतन मन तक पहुँचाना। 

इसके लिए हमें कुछ बातों को लगातार दोहराने या उच्चरित करना चाहिए, जैसे

1 मैं उत्साह से भरा हुआ हूँ।

2 मैं एक रचनात्मक प्राणी हूं।

3 मेरे आसपास कुछ सीमाएँ हैं जो मेरी रक्षा करती हैं।

Connect with water elements | खुद को जल तत्व से जोड़ना

त्रिक या स्वाधिष्ठान चक्र जल तत्व के साथ-साथ उसके प्रवाह से भी जुड़ा हुआ होता है।

इसको संतुलित करने के लिए हमारा पानी से जुड़ना, जैसे कि झील, नदी, स्वाधिष्ठान चक्र में संतुलन को बढ़ावा देने में मदद करता है। 

इसका एक उपाय  स्नान या गर्म पानी से स्नान करने से भावनाओं को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

Meditation | ध्यान का अभ्यास

meditation-svadhisthana-chakra-sacral
Credit : Joseph Mucira

ध्यान क्रिया का अभ्यास आपके चक्रों को संतुलित करने और खोलने में ध्यान महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चक्र ध्यान तकनीक सामान्य ध्यान तकनीकों के समान ही होती हैं। 

ध्यान प्रक्रिया का निरंतर अभ्यास सकारात्मक और नकारात्मक विचार श्रंखला  को त्यागने और सकारात्मक सोच को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है।

Yoga poses for Svadhisthana chakra | स्वाधिष्ठान चक्र संतुलन के लिए योग आसन

योग के निरंतर अभ्यास के द्वारा आप अपने समस्त चक्रों को जागृत और नियंत्रित कर सकते है।

चक्र में आने वाले अवरोधों और असंतुलन को भी आप कुछ विशेष योगासनों की सहायता से नियंत्रित और उपचारित कर सकते है।  

kakasana or Bakasana | काकासन

kakasana-bakasana-svadhisthana-chakra-sacral
Credit : hy9000

काकासन का निरंतर अभ्यास आपके शरीर में  मानसिक संतुलन लाता है, ध्यान केंद्रित करता है और कलाई और बाहों में ताकत में सुधार करता है।

इस योग आसन का नियमित अभ्यास चक्र को उत्तेजित करता है, मूल जागरूकता बढ़ाता है, और थकान को दूर करता है।

Trikonasana | त्रिकोणासन

trikonasana-svadhisthana-chakra-sacral
Credit : AndiP

यह योग मुद्रा आपकी रीढ़ को एक प्रभावी खिंचाव प्रदान करती है। त्रिकोणासन यकृत और प्लीहा को उत्तेजित करता है। 

रीढ़ की हड्डी को सही करने के साथ-साथ, त्रिभुज मुद्रा रक्त प्रवाह को भी बढ़ाती है और पेट और पीठ की मांसपेशियों को टोन करती है।

इसके अलावा ऊर्जा को नियंत्रित और संतुलित करने के लिए कुंडलिनी योग में वज्रोली मुद्रा (जननांगों का संकुचन), अश्विनी मुद्रा (गुदा का संकुचन), और विभिन्न आसन और प्राणायाम शामिल होते हैं।

Conclusion | निष्कर्ष 

हमारे शरीर में यह रचनात्मक क्षमता, रिश्तों को पूरा करने की क्षमता, साथ ही साथ हमारी यौन ऊर्जा का प्रतीक होता है।

अन्य चक्र सम्बंधित क्रमवार विवरण के साथ अध्यन हेतु chakras लिंक पर जाये और अपनी जिज्ञासा को शांत करे। 

इस तरह की महत्वपूर्ण ऊर्जा को दबाने या नकारात्मक विचारों  ध्यान देने से रुकावटें आती हैं। यह चक्र व्यक्ति कें व्यवहार को नियंत्रित करने और परित्याग के डर से मुक्त करता है।

कोई भी व्यक्ति स्वाधिष्ठान चक्र में संतुलन बहाल करने से एक सशक्त और आत्मविश्वासी व्यक्ति बनता है।

राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

नक्षत्रो एवं लग्न के विषय में अधिक जानने के लिए जन्म माह और जन्म दिनाँक के आधार पर सम्पूर्ण भविष्य जानने के लिए ” जन्म से शिखर तक ” पढ़े।