क्राउन चक्र या सहस्रार चक्र ( Sahasrara chakra or crown chakra ) सातवां चक्र है, जो दिव्य ऊर्जा को शरीर में सक्रिय करता है। संस्कृत शब्द सहस्रार का अर्थ है ‘हजार’ या ‘अनंत’।

शरीर में 7 चक्र ऊर्जा के प्रवाह को संरक्षित करने वाले कमल के फूल की पंखुड़ी के प्रतीक हैं। सभी पंखुड़ियों के पूर्ण रूप से खुलने पर शरीर, मन और आत्मा का एक सार्वभौमिक संतुलन प्राप्त होता है।

सहस्रार चक्र सिर के शीर्ष पर स्थित होता है, और इसे क्राउन चक्र के रूप में भी जाना जाता है। सहस्रार सात चक्रों में अंतिम चक्र होता  है।

यह आपके सर्वोच्च स्व के साथ एक मजबूत संबंध बनाता है। क्राउन चक्र के जागरण का अर्थ है। ऊर्जा और आध्यात्मिक ज्ञान का एक सार्वभौमिक प्रवाह। 

इसे शुद्ध सफेद प्रकाश या बैंगनी रंग द्वारा दर्शाया जाता है। सहस्रार चक्र का बीज मंत्र ॐ  है। यह मस्तिष्क के कार्यों जैसे स्मृति, बुद्धि और तेज फोकस को प्रभावित करने वाला माना जाता है।

Location of Sahasrara chakra | सहस्रार चक्र की स्थिति 

सहस्रार चक्र ब्रह्मारंध्र के नीचे सिर के मुकुट पर स्थित होता है, जो एक नवजात शिशु में आसानी से दिखाई देता है।

इसे हजार पंखुड़ियों वाले कमल, ब्रह्मरंध्र (ब्रह्मा का द्वार) और प्रकाश के स्रोत के रूप में भी जाना जाता है (क्योंकि एक अलौकिक प्रकाश जितना तेज सूर्य उससे निकलता है)।

कोई अन्य प्रकाश सूर्य के तेज तक नहीं पहुंचता है। इसी प्रकार सहस्रार चक्र की अतुलनीय चमक के आगे अन्य सभी चक्रों की चमक फीकी पड़ जाती है।

Significance of Sahasrara chakra | सहस्रार चक्र की विशेषताएं 

जब शरीर में सहस्रार चक्र सक्रिय होता है, तो यह जीवन पर अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण लाता है।

mantra-color-element-sahasrara-chakra-crown-chakra
Source : Sahasrara

हमारी आदतों और नजरिए में बदलाव दिखाई दे रहा होता  है। आत्म अब अहंकार द्वारा शासित नहीं होता है।  

इसकी जागृत अवस्था में कृतज्ञता, करुणा और स्वीकृति जैसी गतियाँ हमारा सच्चा स्व बन जाती हैं। यह उन सभी नकारात्मक विचारों की अस्वीकृति है, जो हमारे जीवन में दुख और तनाव लाते हैं।

एक व्यक्ति में एक संतुलित क्राउन चक्र स्पष्ट दृष्टिकोण के साथ आध्यात्मिक समझ और शांति लाता है। जब क्राउन चक्र असंतुलित या अवरुद्ध हो जाता है, तो वह मोहभंग, ऊब, उदासी और बेचैनी का अनुभव कर सकता है।

Voilet Colour | बैंगनी रंग का आध्यात्मिक जुड़ाव

वायलेट या सफेद क्राउन चक्र का रंग होता है। बैंगनी अध्यात्म का रंग है और यह एक एकीकृत रंग है। जिसमें पूरी तरह से सक्रिय होने पर अन्य चक्रों के सभी गुण समाये होते हैं।

यह जाने देने की एक मजबूत भावना और परिवर्तन की खुशी भी लाता है। जिससे  एक गहन परिवर्तन का आभास होता है।

वायलेट या बैंगनी रंग से उत्पन्न होने वाली भावना स्वयं के अस्तित्व को भौतिक और भौतिक मूल्यों से परे देखने की अनुमति देती है।

वायलेट या बैंगनी एवं अन्य रंगो का मानव जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव के अध्यन और इससे सम्बंधित ग्रहो से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए सात रंग का रहस्य (Colour ) पढ़े।

Sahasrara chakra symbol | सहस्रार चक्र का आकार एवं रूप 

इसे कमल के फूल के रूप में वर्णित किया गया है। जिसमें विभिन्न रंगों की 1,000 पंखुड़ियाँ हैं। ये 20 परतों में व्यवस्थित हैं, प्रत्येक में लगभग 50 पंखुड़ियाँ हैं। 

sahasrara-chakra-crown-chakra-symbol

बीज-कोष सुनहरा है। इसके भीतर एक गोलाकार चंद्रमा क्षेत्र एक चमकदार त्रिकोण के साथ खुदा हुआ है, जो ऊपर या नीचे की ओर इशारा कर सकता है। 

इसे अक्सर एक हजार पंखुड़ियों वाले कमल के रूप में जाना जाता है। इसे शुद्ध चेतना से संबंधित प्रणाली में सबसे सूक्ष्म चक्र कहा जाता है, और इसी चक्र से अन्य सभी चक्र निकलते हैं। 

जब कोई योगी अपनी कुंडलिनी (चेतना की ऊर्जा) को इस बिंदु तक बढ़ाने में सक्षम होता है, तो निर्विकल्प समाधि की स्थिति का अनुभव होता है।

यह सिर के मुकुट से संबंधित होता है। यह आमतौर पर ब्रह्मारंध्र और खोपड़ी के राज्याभिषेक और धनु टांके के प्रतिच्छेदन से जुड़ा होता है।

विभिन्न स्रोत इसे शीर्ष ग्रंथि, हाइपोथैलेमस या अध:श्चेतक, पिट्यूटरी ग्रंथि या पीयूष ग्रंथि से संबंधित मानते हैं। हालांकि इन्हें अक्सर आज्ञा चक्र के स्थान के रूप में भी माना जाता है। 

Problems due to Sahasrara chakra | शरीर में सहस्रार चक्र का असंतुलन और समस्याएं 

क्राउन चक्र की सबसे बड़ी चुनौती मानसिक स्तर पर है। जब कोई व्यक्ति बहुत पीछे हट जाता है। इस अस्तित्व की भौतिकवादी गतिविधियों से जुड़ा होता है, और साथ ही अपने सोचने के तरीके में फंस जाता है।

एक अवरुद्ध क्राउन चक्र वाला व्यक्ति अन्य विचारों, विचारों या ज्ञान के लिए खुले होने की अनिच्छा का अनुभव कर सकता है।

क्राउन चक्र असंतुलित होने पर मनोविकृति, शरीर से वियोग, डिस्कनेक्ट या वियोजित और बेबुनियाद होने जैसे लक्षण भी प्रकट होते हैं।

अत्यधिक या अपर्याप्त गतिविधि के आधार पर विभिन्न लक्षण उत्पन्न कर सकता है।

Over Active Sahasrara chakra Symptom | अति सक्रिय सहस्रार चक्र के लक्षण

1 कुटिलता

2 उदासीनता

3 आध्यात्मिक लत

4 आत्म-विनाशकारी प्रवृत्तियाँ

5 ज्ञान से अभिभूत

Inactive Sahasrara chakra Symptom | एक निष्क्रिय सहस्रार चक्र के लक्षण

1आप क्या करना चाहते हैं इस बात के बारे में भ्रम 

2 प्रेरणा की कमी

3 अधिक सोने की इच्छा

4 एक अवरुद्ध क्राउन चक्र निम्नलिखित शारीरिक लक्षण भी दिखाता है:

5 खराब समन्वय

6 पुराना सिर दर्द व अनावश्यक चिंता 

7 थकावट

Sahasrara chakra Activation | सहस्रार चक्र को खोलना 

सातवां चक्र हमारी मानसिक और आध्यात्मिक बुद्धि का मार्गदर्शन करता है। क्राउन चक्र की ऊर्जा अन्य छह चक्रों द्वारा आपूर्ति की जाती है।

यही कारण है, कि क्राउन चक्र को प्रभावी ढंग से सक्रिय करने के लिए निचले छह चक्रों पर काम करना सबसे महत्वपूर्ण होता है।

Meditation for Sahasrara chakra Activation | सहस्रार चक्र को खोलने के लिए योग क्रिया या आसान

शरीर में सात चक्रों को खुला और संरेखित रखने के लिए सभी ध्यान अभ्यास अच्छे होते हैं। ध्यान आत्म-जागरूकता, भावनात्मक विनियमन और विश्राम को बढ़ावा देता है।

पीठ सीधी और पैरों को फर्श पर टिकाकर आरामदायक स्थिति में बैठें।

अपने हाथों को अपने घुटनों पर रखकर और अपनी हथेलियों को आकाश की ओर मोड़कर अपने हाथों को ‘मुद्रा’ की स्थिति में लाएँ।

अपनी आँखें बंद करें और अपनी नाक से साँस लें और अपने मुँह से साँस छोड़ें।

धीरे-धीरे और समान रूप से सांस लेना जारी रखें। कल्पना कीजिए कि कमल की पंखुड़ियां सफेद रंग से जगमगा  रही हैं।

अपने सिर के मुकुट के चारों ओर चमकीले रंग की कल्पना करें और धीरे-धीरे अपने पूरे शरीर में फैलें।

5 से 10 मिनट बाद आंखें खोलकर कुछ देर शांत बैठ जाएं।

बीज मंत्र ओम् का जाप करने से मुकुट चक्र के गहन ध्यान और उपचार में भी मदद मिलती है।

Yoga poses for Sahasrara chakra | सहस्रार चक्र संतुलन के लिए योग आसन

योग मुद्राएं जहां आपका माथा जमीन को छूता है, और साथ ही बैठने की मुद्राएं क्राउन चक्र को जगाने में फायदेमंद होती हैं। यहां तीन योग आसन हैं जिन्हें क्राउन चक्र को संतुलित करने के लिए आसानी से किया जा सकता है:

Shirshasana | शीर्षासन

मुकुट चक्र या सहस्रार  चक्र में ऊर्जा को उत्तेजित करने के लिए यह योग आसन एक आदर्श आसन माना जाता है।

shirshasana-sahasrara-chakra-crown-chakra
Credit : hy9000

अन्तर्भाग की मांसपेशियों को शामिल करते हुए, यह आसन शक्ति, स्थिरता और ऊर्जा भी विकसित करता है। कम से कम पांच आसान सांसों के लिए इस मुद्रा को बनाए रखने की कोशिश करें।

शीर्षासन के नियमित अभ्यास से मन और संतुलन की स्पष्टता आती है।

Sasakasana | शशकासन

क्राउन चक्र या मुकुट चक्र के साथ गहरा संबंध खोजने के लिए ससंगासन एक शानदार तरीका है। यह योग मुद्रा आपके सिर, रीढ़ और कंधों को आराम देती है। 

sasakasana-sahasrara-chakra-crown-chakra
Credit : StockSnap

घुटने टेककर आगे झुकें, अपने सिर के मुकुट को फर्श की ओर ले आएं और अपनी बाहों के साथ पीठ तक पहुंचकर अपनी एड़ी को अपने हाथों से दबाएं।

जमीन में नीचे की ओर जोर से दबाव डालने के बजाय अपने सिर से फर्श को हल्के से छुएं। कई गहरी  सांसों के बाद, अपने कूल्हों को अपनी एड़ी की ओर नीचे करें।

एड़ी पर अपनी पकड़ छोड़ें, और अपनी रीढ़ की हड्डी के माध्यम से बैठने की स्थिति में मोड़ें ।

Shavasana | शवासन

वैराग्य का अभ्यास करने के लिए उनका सबसे सरल और सबसे प्रभावी योग आसन है। यह आपको अपनी इच्छाओं, अपेक्षाओं, प्रयासों और निर्णयों को पूरी तरह से छोड़ना सिखाता है। 

shavasana-sahasrara-chakra-crown-chakra
Credit : StockSnap

इस मुद्रा में रहते हुए क्राउन चक्र के लाभों को बढ़ाएं, अपने सिर के मुकुट से सफेद प्रकाश में प्रवेश करते हुए और अपनी रीढ़ की लंबाई को कम करते हुए देखें। 

जैसा कि आप साँस छोड़ते हैं, कल्पना करें कि प्रकाश आपकी रीढ़ की लंबाई से आपके सिर के मुकुट तक वापस आ रहा है।

Balancing of Sahasrara chakra | सहस्रार चक्र को संतुलित करना

अभिकथन चक्रों को संतुलित करने की सर्वोत्तम तकनीक है। उन सभी का उद्देश्य बिना किसी निर्णय या अहंकार के अपने आप में आत्मविश्वास और विश्वास को बढ़ाना है। ये प्रतिज्ञान एक खुले मुकुट चक्र को बढ़ावा देते हैं।

1 मेरे भीतर देवत्व वास करता है।

2 मैं नए विचारों के लिए खुला हूं।

3 मुझे जो जानकारी चाहिए वह मेरे पास आती है।

4 संसार मेरा गुरु है।

5 मुझे एक उच्च शक्ति द्वारा निर्देशित किया जाता है।

6 मुझे आंतरिक ज्ञान द्वारा निर्देशित किया जाता है।

Diet for Sahasrara chakra | सहस्रार चक्र के संतुलित ऊर्जा प्रवाह के लिए आहार

क्राउन चक्र को संतुलित रखने के लिए  प्राकृतिक खाद्य पदार्थ  स्वस्थ खाद्य पदार्थ होते हैं। जो सामान्य कल्याण को बढ़ावा देते हैं।

ताजा और जैविक सब्जियां, फल, ब्राउन राइस, ब्राउन ब्रेड अन्य पौष्टिक खाद्य पदार्थ ऊर्जा केंद्रों को संरेखण में लाने में मदद करते हैं।

बैंगन और लाल अंगूर जैसे बैंगनी खाद्य पदार्थ बहुत अच्छे हैं, क्योंकि वे इस चक्र के रंग के होते हैं।

अदरक अदि मसाले चक्र की सफाई  में लाभकारी  होते हैं, और आध्यात्मिक स्पष्टता को बढ़ावा देता है। हर्बल चाय आपके पाचन तंत्र में स्वास्थ्य को बढ़ावा देकर रुकावटों को कम करती है।

Conclusion | निष्कर्ष 

हमारे शरीर में प्रत्येक चक्र एक आध्यात्मिक ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है। जो हमें खुद को बेहतर ढंग से समझने में मदद करता है।

सिर के मुकुट पर स्थित सहस्रार चक्र ऊर्जा पूर्णता की अनुभूति है। अन्य चक्र सम्बंधित क्रमवार विवरण के साथ अध्यन हेतु chakras लिंक पर जाये और अपनी जिज्ञासा को शांत करे। 

शरीर और मन में संतुलन और शांति लाकर, हम बाधाओं को दूर कर सकते हैं, भावनात्मक रुकावटों को दूर कर सकते हैं, और आध्यात्मिक चेतना की ओर चल सकते हैं।

राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

नक्षत्रो एवं लग्न के विषय में अधिक जानने के लिए जन्म माह और जन्म दिनाँक के आधार पर सम्पूर्ण भविष्य जानने के लिए ” जन्म से शिखर तक ” पढ़े।