महालक्ष्मी यंत्र ( Mahalakshmi Yantra ) देवी लक्ष्मी का दिव्य प्रतीक होता है, जो समृद्धि और धन की देवी है,और जो तीनो लोक में समृद्धि और ऐश्वर्य की सर्वोच्च दाता है।

माना जाता है, कि देवी लक्ष्मी विभिन्न तरीकों और रास्तों के माध्यम से मनुष्यों की सभी भौतिकवादी जरूरतों को पूरा करती हैं, और जीवन में सभी सुख और संतुष्टि लाती हैं।

देवी लक्ष्मी विविध रूपों में संपन्नता की दिव्य दाता हैं और यदि देवी किसी व्यक्ति के प्रति  पर्याप्त रूप से प्रसन्न होती हैं, तो उन्हें अपनी इच्छा के अनुसार जीवन जीने के लिए जो कुछ भी चाहिए होता है।

वह उन्हें प्रदान  करने के अलावा प्रसिद्धि और पद की ऊंचाइयों पर ले जाती हैं। बहुत सम्मान के साथ एक प्रमुख उपस्थिति के साथ जीवन व्यतीत करने को देती हैं।

जिस पर देवी प्रसन्न होती है उस पर कोई आर्थिक संकट नहीं होगा और न ही उसे जीवन में कोई आर्थिक नुकसान होगा। उसके घर में सुख-सुविधा का सारा सामान उपलब्ध होगा।

महालक्ष्मी यंत्र को अपनाने से व्यक्ति के आर्थिक मार्ग में आने वाली बाधाएं दूर हो जाती हैं, और विकास के सारे बंद दरवाजे खुल जाते हैं।

यह व्यापार में होने वाले नुकसान को कम करेगा, और ठोस रास्ते से आपको सफलता की ऊंचाइयों की ओर ले जाएगा। 

यह जीवन को काफी हद तक बेहतरी की ओर ले जाएगा। 24 कैरेट सोने से निर्मित किया हुआ अधिक पसंद किया जाता है, जबकि यह तांबे की धातु में भी उपलब्ध होता  है।

तीनो लोक में यन्त्र और तंत्र के तारतम्य के आरंभ को समझने के लिये चक्रो को जानना और समझना आवश्यक है। अतः Chakras पर क्लिक कर चक्रो से सम्बंधित अपनी जिज्ञासा शांत करे।

Sampurna Mahalakshmi Yantra Structure | महालक्ष्मी यंत्र की ज्यामिति संरचना

यंत्र को मुख्य रूप से एक कैश बॉक्स, अलमारी, पूजा स्थल, लॉकर या खजाने के कमरे में रखा जाता है। यह ज्यादातर तांबे की प्लेटों पर एक विशिष्ट ज्यामितीय पैटर्न के साथ उभरा हुआ होता है।

sampurna-mahalakshmi-yantra-structure

इसे चौकोर, त्रिकोणों और फूलों के पैटर्न के एक अन्तः पाशी प्रतिरूप द्वारा परिभाषित ऊर्जा के साथ परिभाषित किया जाता है। यह 4 सबसे शक्तिशाली धन और समृद्धि यंत्रों का एक संयोजन होता है। जो इस प्रकार हैं।

1 कनकधारा यंत्र

2. श्री दुर्गा यंत्र

3. श्री कैलाश यंत्र

4. श्री महालक्ष्मी यंत्र

यंत्रो के प्रयोग के आरंभ के पीछे जुड़े कारणों और लाभ के विषय में जानने के लिये yantra अवश्य पढ़े।

Benifits of Mahalakshmi Yantra | महालक्ष्मी यंत्र के लाभ

यह आपको आपके शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने और उनसे मुक्ति दिलाने में सहायता प्रदान करता है। 

benifits-mahalakshmi-yantra
Credit : 8180766

यह यंत्र आपके जीवन में सुख शांति की स्थापना में सहायता प्रदान करता है। 

यह नए आय स्रोत उत्पन्न करने में मदद करता है।

यह घर में समृद्धि और बहुतायत से लाभ के योग लाता है।

यह एक गरीब आदमी को सबसे अमीर आदमी में बदलने की क्षमता रखता है ।

यह आपको कर्ज, गरीबी, दुख, तनाव और बीमारियों से मुक्त होने में सहायता प्रदान करता  है।

यह दुर्भाग्य को दूर करता है और भाग्य को बढ़ाता है।

यह सभी वित्तीय समस्याओं का समाधान प्रदान करता  है।

यह संतान के जन्म में बाधाओं को दूर करता है और समय पर संतान होने का आशीर्वाद देता है।

यह आपको अपने सपनों और इच्छाओं को पूरा  करने में मदद करता है।

इस यंत्र की स्थापन एके पश्चात् आपके घर परिवार पर किसी की बुरी नज़र नहीं लगती। 

जिस घर में यह स्थापित होता है उस घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश नहीं हो पता। 

धन प्राप्ति सम्बंधित जानकारी के लिये कुबेर यंत्र भी पढ़े जिसके लिये Kuber Yantra पर क्लिक करे।

Kailash Yantra | श्री कैलाश यंत्र

श्री कैलाश धन रक्षा यंत्र सबसे शक्तिशाली यंत्रों में से एक है जिसका उपयोग धन के निर्माण और सुरक्षा के लिए किया जाता है।

इस यंत्र पर वैदिक और तिब्बती पवित्र मंत्र  उकेरे होते हैं।

श्री कैलाश धन रक्षा यंत्र के केंद्र में जादुई संख्या 15 के प्रतीक चिन्ह होते हैं जो चीनी राशि चक्र के 12 जानवरों से घिरे हुए होते  हैं।

इसके बाद चारों कोनों पर ओम, श्री, मां लक्ष्मी और भगवान शिव के पवित्र प्रतीक चिन्ह होते हैं।

Benifits of Kailash Yantra | श्री कैलाश धन रक्षा यंत्र के लाभ

 श्री कैलाश धन रक्षा यंत्र दुर्भाग्य और कठिनाइयों से बचाता है।

यह यंत्र सभी ग्रहों के अशुभ प्रभावों और नकारात्मक प्रभावों से रक्षा करता है।

यह आपकी इच्छाओं  को पूरा करने में भी मदद करता है और भाग्य लाता है।

यह संचित पाप कर्मों को मिटाता  है और चोरी, दुर्घटना और अचानक मृत्यु से बचाता है।

इसकी स्थापना से साधक को अपार धन की प्राप्ति होती है।

Pooja Vidhi for Mahalakshmi Yantra | महालक्ष्मी यंत्र स्थापना या पूजन विधि

इसकी साधना मुख्य रूप से बुधवार को शुद्ध मन और आत्मा के साथ की जाती है।

pooja-vidhi-mahalakshmi-yantra
Credit : Bhikku Amitha

इस यंत्र की पूजा से पहले आपको सबसे पहले अपने आप को शुद्ध करना होगा और शाम के समय पूजा करनी होगी।

इस यंत्र की स्थापना और साधना दिवाली जैसे विशेष अवसरों पर की जाती है जब देवी महालक्ष्मी की पूजा हर घर और कार्यालय में की जाती है। ताकि देवी को अपने द्वार पर आमंत्रित किया जा सके।

इस यंत्र की पूजन विधि और स्थापना संस्कार के लिए निम्नलिखित वस्तुओं की आवश्यकता होती है।

1 श्री महालक्ष्मी यंत्र

2 पीला आसन

3 जल  के लिए ताम्रपत्र

4 गंगाजल

5 फूल

6 फल

7 नारियल

8 गोल सुपारी

9 पान

10 धूप

11 रुद्राक्ष माला (108 मनकों वाली )

एक बार जब आप सभी उपरोक्त सामग्री एकत्र कर लें तो नीचे दिए गए चरणों का पालन करते हुए यंत्र का पूजन संस्कार प्रारम्भ करे।

1. यंत्र को पूर्व दिशा की ओर मुख करके रखें।

2. यंत्र को गंगाजल से धोएं।

3. फिर इसे सादे पानी से धो लें।

4. यंत्र को सावधानी से पोंछकर पीले आसन के साफ टुकड़े पर रख दें।

5. आसन पर पान के पत्ते और गोल सुपारी रखें।

6. यंत्र को धीरे से उसी आसन पर रखें।

7. हल्की धूप या अगरबत्ती यंत्र को दिखाएँ। 

8. सिंदूर चढ़ाएं।

9. फूल, फल और नारियल चढ़ाएं।

तत्पश्चात यंत्र के सामने बैठ जाएँ और देवी लक्ष्मी का ध्यान करते हुए उनका आह्वान करते हुए  ” ॐ महालक्ष्म्यै नमः ” मंत्र का जाप 108 बार करें। 

साथ ही देवी से विनती और प्रार्थना करें की वह अपनी समस्त शक्ति को इस यंत्र में सुशोभित करें ताकि आपके घर या दुकान या व्यापार स्थान पर समस्त सुख समृद्धि का वास हो सके। 

सही विधि विधान से यंत्र की पूजन विधि संपन्न करने के पश्चात् उस यंत्र को सही दिशा के अनुसार अपने पूजन स्थल पर उसकी स्थापना करें और नियमित विधि विधान से रोज़ाना यंत्र की पूजा करें। 

इस यंत्र की महिमा से आपके घर और व्यापार में धीरे धीरे आपको शुभ प्रतिफल मिलने प्रारम्भ हो जायेंगे। 

लग्न, वर्षफल, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

अब आप हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने।