जो समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखता है, और पुनर्स्थापित करता है। ऊर्जा की पहली और महत्वपूर्ण शक्ति मूलाधार चक्र ( Muladhara Chakra or Root Chakra ) होती है।

हमारे शरीर में 7 चक्र मिलकर शरीर के ऊर्जा केंद्रों का निर्माण करते हैं। ये चक्र एक सामंजस्यपूर्ण संतुलन बनाए रखते हैं।

मूलाधार चक्र शरीर की भौतिक संरचना का आधार होता है। यह गुदा और जननांगों के बीच रीढ़ की हड्डी के आधार पर स्थित होता है।

मूलाधार शब्द संस्कृत के दो शब्दों से बना है। मुला का अर्थ है “जड़” और अधरा जिसका अर्थ है “आधार” या “समर्थन”।

इस चक्र को रूट चक्र ( Root Chakra) भी कहा जाता है, मूलाधार पृथ्वी तत्व पर आधारित चक्र है। चक्र लाल रंग को विकीर्ण करता है।

मूल चक्र को संतुलित करने से अन्य सभी छह चक्रों को खोलने के लिए एक ठोस आधार तैयार होता है। जब चक्र संतुलित होता है, तो व्यक्ति स्थिरता, आत्मविश्वास, ऊर्जा और शक्ति का अनुभव करता है।

Location of Muladhara Chakra or Root Chakra | मूलाधार चक्र की स्थिति 

यह चक्र शरीर में त्रिकास्थि के नीचे अनुमस्तिष्क जाल के पास स्थित होता है।

जबकि इसका क्षेत्र या सतही सक्रियण बिंदु, पेरिनेम और कोक्सीक्स या श्रोणि की हड्डी के बीच स्थित होता  है।

इसके स्थान और उत्सर्जन की क्रिया से संबंध होने के कारण यह मानव शरीर में गुदा से जुड़ा हुआ होता है।

मूलाधार को वह आधार कहा जाता है, जिससे तीन मुख्य मानसिक नाड़ियाँ इड़ा, पिंगला और सुषुम्ना निकलती हैं। यह भी माना जाता है, कि मूलाधार हिंदू भगवान गणपति का एक सूक्ष्म निवास है।

गणपति अथर्वशीर्ष के लिए सर्वोच्च श्रद्धेय प्रार्थना में यह उल्लेख किया गया है, कि “जो भगवान गणपति की पूजा करता है। वह आसानी से अवधारणा को समझ सकता है, और ब्रह्म को महसूस कर सकता है।”

Significance of Muladhara Chakra or Root Chakra | मूलाधार चक्र या रुट चक्र की विशेषताएं 

mantra-color-element-muladhara-chakra-root-chakra

Earth Element | पृथ्वी तत्व

चक्र की ऊर्जा पृथ्वी से हमारे मजबूत संबंध को पहचानने में मदद करती है। हमें अपने भीतर के मूल  को नियंत्रण में रखने से जीवन में सकारात्मकता और खुशी फैलती है।

यह चक्र हमारे अस्तित्व, स्थिरता और समर्थन की हमारी बुनियादी, मौलिक जरूरतों से संबंधित चक्र होता  है। यह हमारे शरीर, हड्डियों, मांस और त्वचा की संरचना का भी प्रतिनिधित्व करता है।

Red Colour | लाल रंग की ताकत

सात चक्रों में से प्रत्येक का अपना एक  संबद्ध रंग होता है। जड़ चक्र का मुख्य रंग लाल है, जो शक्ति और जीवन शक्ति की मौलिक प्रवृत्ति का प्रतीक है।

लाल रंग जीवित रहने और आत्म-संरक्षण की हमारी शारीरिक और भावनात्मक जरूरतों से शक्तिशाली रूप से जुड़ा हुआ है।

लाल एवं अन्य रंगो का मानव जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव के अध्यन और इससे सम्बंधित ग्रहो से सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए सात रंग का रहस्य (Colour) पढ़े।

Physical Meaning of Muladhara Chakra or Root Chakra | मूलाधार चक्र का भौतिक आधार

भोजन, पानी, आवास और अस्तित्व हमारी प्राथमिक जरूरतें हैं, मूलाधार चक्र का मुख्य फोकस इन बुनियादी जरूरतों को पूरा करना होता  है। 

अधिक भोजन करना, भौतिक वस्तुओं की जमाखोरी और धन का लालच जीवित रहने के लिए कुछ नकारात्मक अभिव्यक्तियाँ होती हैं।

ये असंतुलित चक्र के लक्षण हैं। जब हमारे अस्तित्व की बुनियादी जरूरतें पूरी नहीं होती हैं।

तो हमारा मूल चक्र बेकार हो जाता है, जिससे हमारे अंदर सांसारिक मूल्यों से वियोग उत्पन्न  हो जाता है।

Emotional and Mental Health | भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य

एक संतुलित रूट चक्र या मूलाधार चक्र आपको भय और चिंता को दूर करने जैसी भावनात्मक शक्ति प्रदान कर सकता है।

इसके परिणामस्वरूप आपको मज़बूत और सुरक्षित महसूस होता है। चक्र में असंतुलन कई तरह की मानसिक बीमारियों और तनाव का कारण बन सकता है, जो समग्र शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकता है।

Muladhara Chakra Mantra | मूलाधार चक्र का बीज मंत्र 

बीज मंत्र अक्षर “लं” है। बिंदु के भीतर, वह बिंदु जो अक्षर का एक भाग बनाता है, वह ब्रह्म है। वह गहरा लाल है।

चार मुख और चार भुजाओं वाला, एक लाठी, अमृत का एक पवित्र फूलदान और एक जप माला धारण किए हुए और भय को दूर करने का इशारा कर रहा है।

देवी डाकिनी को उनकी शक्ति के  साथ चित्रित किया गया है। वह तीन आंखों और चार भुजाओं वाली सुंदर है। डाकिनी को आमतौर पर लाल या सफेद त्वचा के साथ चित्रित किया जाता है।

जिसमें एक त्रिशूल, एक खोपड़ी वाला कर्मचारी, एक हंस और एक पीने का बर्तन होता है, और एक हंस पर बैठा होता है। वह कभी-कभी हंस और पीने के बर्तन के बजाय तलवार और ढाल रखती है।

Muladhara Chakra symbol | मूलाधार चक्र या रुट चक्र का आकार एवं रूप 

यह चक्र एक लाल, चार पंखुड़ियों वाले कमल का प्रतीक है। जिसके केंद्र में एक पीला वर्ग है। प्रत्येक पंखुड़ी में एक संस्कृत शब्दांश होता है “वं” शं , षं  सं, और संम जो कि सोने के अक्षरों में लिखा होता  है।

root-muladhara-chakra-symbol

जो चार वृत्ति का प्रतिनिधित्व करता है। सबसे बड़ा आनंद, प्राकृतिक आनंद, जुनून को नियंत्रित करने में प्रसन्नता, और एकाग्रता में आनंद।

ये पंखुड़ियां वैकल्पिक रूप से, वे धर्म (मानसिक-आध्यात्मिक लालसा), अर्थ (मानसिक लालसा), काम (शारीरिक लालसा) और मोक्ष (आध्यात्मिक मुक्ति की लालसा) का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं। 

वहीँ आठ भाले वर्ग के किनारों और कोनों से बाहर की ओर इशारा करते हैं। धार्मिक रूप से देवता इंद्र मूलाधार से जुड़े हुए हैं।

इन चित्रणों में, वह पीले, चार भुजाओं वाला है, और उसके हाथों में एक वज्र और एक नीला कमल है।

वह सफेद हाथी ऐरावत पर बैठे हुए  है, जिसकी सात सूंड हैं जो जीवन को सहारा देने के लिए आवश्यक सात तत्वों को दर्शाती हैं। कभी-कभी, गणेश को मूलाधार से भी जोड़ा जाता है।

इन चित्रणों में, उनकी नारंगी त्वचा है, एक पीले रंग की धोती पहनी है, और एक हरे रंग का रेशमी दुपट्टा है, जो उनके कंधों पर लिपटा हुआ है।

तीन हाथों में वह एक लड्डू, एक कमल का फूल और एक कुल्हाड़ी धारण करता है, और चौथा भय दूर करने की मुद्रा में उठाया जाता है।

Balancing of Chakra | चक्र को संतुलित करना

माना जाता है, कि यह चक्र ऊर्जा का एक जीवित केंद्र होता  है।

जो इसे सभी चक्रों में सबसे सहज बनाता है। संपूर्णता को महसूस करने के लिए शरीर की नींव को स्थिर करना महत्वपूर्ण होता है।

Problems due to of Muladhara Chakra | मूलाधार चक्र का असंतुलन और समस्याएं 

जब किसी के शरीर में चक्र अवरुद्ध और असंतुलित हो जाता है।

तो यह मानसिक तनाव पैदा कर सकता है। जो किसी की शारीरिक क्षमता के माध्यम से दिखाई देता है।

रूट चक्र या मूलाधार चक्र असंतुलन के लक्षण हैं।

1 सुस्ती या अवसाद की भावना

2 कार्रवाई करने में असमर्थ /या अस्पष्ट इरादा 

3 असंगत और अलग-थलग होने की भावना 

4 पैनिक अटैक या चिंता

5 पाचन विकार

6 स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, जैसे कि बृहदान्त्र, मूत्राशय और पीठ के निचले हिस्से में समस्याएं

7 शरीर में अस्पष्टीकृत दर्द और पीड़ा

8 प्रजनन संबंधी समस्याएं 

9 अनिद्रा रोग

Muladhara Chakra or Root Chakra Activation | मूलाधार चक्र को खोलना 

जब हम अपने चक्रों की पहचान करना और उनको साधना या नियंत्रित करना सीख जाते है, तब हमारा शरीर उनके त्वरित उपचार की अनुमति हमको देता है।

आपके चक्र को जाग्रत करने के कई तरीके हैं। तरीकों में से एक ध्यान है।

नियमित रूप से योग का अभ्यास करने से शरीर को शारीरिक और मानसिक शक्ति भी मिलती है। हमारे शरीर में सकारात्मक पुष्टि को दोहराने से पुरानी आदतों को तोड़ने और नए बनाने के इरादे निर्धारित करने में मदद मिलती है।

कुछ सकारात्मक अभिपुष्टियों की सहायता से हम अपने  रूट चक्र या मूलाधार चक्र को मजबूत कर सकते है।  

1 मैं सुरक्षित महसूस करता हूं।

2 मेरी जड़ें गहरी हैं।

3 मैं ज़मीन से जुड़ा हुआ हूँ। 

4 मैंने अपनी शांति पा ली है।

5 मुझे ज्यादा भरोसा है, मैं निडर हूं।

6 मेरे पास आत्म-प्रेम है, और मैं अपनी भलाई का ख्याल रखता हूं।

7 मैं सभी संभावनाओं के लिए खुला हूं।

Yoga poses for Muladhara Chakra or Root Chakra | मूलाधार चक्र संतुलन के लिए योग आसन

हमारे लिए योग आसन ( asana ) का अभ्यास शरीर, मन और आत्मा को जोड़ने में मदद करता है। यह शरीर के परिसंचारी ऊर्जा केंद्रों को एकजुट करने में मदद करता है।

विशिष्ट योग आसन अतिरिक्त चक्र ऊर्जा को मुक्त करने में मदद करता है जो ऊर्जा प्राप्त करने के लिए चक्रों को उत्तेजित करने के समान ही महत्वपूर्ण है।

Shavasana | शवासन

shavasana-muladhara-chakra-root-chakra

अपने आप को अपने नीचे की धरती से पूरी तरह से सहारा दें और अपने शरीर के सभी तनावों को धरती में जाने दें। प्रत्येक श्वास  के साथ अपने आप को याद दिलाएं “मैं सुरक्षित हूं, मैं समर्थित हूं”।

Surya Namaskar | सूर्य नमस्कार

सूर्य नमस्कार आपको आंतरिक शक्ति और पृथ्वी के साथ आपके संबंध की भावना में बांधने में  मदद करता है। आप अपने शरीर के भीतर से एक धीमी, स्थिर गर्मी निर्माण महसूस करेंगे। 

surya-namaskar-muladhara-chakra-root-chakra
Credit : StockSnap

जब आप प्रत्येक श्वास के साथ जुड़ते हैं तो शक्ति और ध्यान की भावना जागृत  होती है। आप अंततः देखेंगे कि कैसे मन वर्तमान क्षण के प्रति समर्पण करता है।

जब आप अपने गतिशील ध्यान में अपने तरीके से गहराई से काम करते हैं। अगर आप ऐसा करने में सहज महसूस करते हैं तो अपनी आंखें बंद कर लें।

Shashankasana | शशांकासन

इस आसन के अंतर्गत अपने पूरे शरीर को आराम करने दें। ध्यान दें कि आपके नीचे की जमीन से पूरी तरह से समर्थित होना कैसा लगता है। 

shashankasana-muladhara-chakra-root-chakra
Credit : AndiP

अपने अभ्यास के माध्यम से आपको आगे बढ़ाने के लिए समर्पण और समर्थन के इस संतुलन का स्वागत करें।

Ardha Setu Bandhasana | अर्ध सेतु बंधासन

ardha-setu-bandhasana-muladhara-chakra-root-chakra
Credit : PublicDomainPictures

यह मुद्रा आपके पैरों को धरती में मजबूती से जोड़े रखने की अनुमति देती है। साथ ही इसमें आपकी रीढ़ अतिरिक्त मूल चक्र ऊर्जा को छोड़ती है, और साथ ही गले और हृदय चक्र को उत्तेजित करती है।

Hanumanasana | हनुमानासन

यह मुद्रा कूल्‍हे की दोनों पेशियाँ के लिए एक तीव्र खिंचाव पैदा करती है। ये मांसपेशियां हमारे उड़ान-या-लड़ाई तंत्र से जुड़ी हैं और पहले चक्र ऊर्जा केंद्र से गहराई से जुड़ी हुई हैं।

hanumanasana-muladhara-chakra-root-chakra
Credit : StockSnap

यहां 5 सांसें मांसपेशियों को किसी भी अवशिष्ट लड़ाई या उड़ान ऊर्जा को एक साहसी लेकिन शांत आंतरिक शक्ति में बदलने का समय देती हैं।

Tadasana | ताड़ासन

ताड़ासन रीढ़ की मांसपेशियों को शक्ति प्रदान करता है, और मुद्रा में सुधार करता है। यह योग आसन शरीर के प्राकृतिक संरेखण को पुनर्स्थापित करता है।

tadasana-muladhara-chakra-root-chakra

इस आसन का नियमित रूप से अभ्यास करने से शांति और मन की शांति का अनुभव करके मानसिक जागरूकता का विस्तार होता है।

माउंटेन पोज़ में संतुलन और आराम हमें केंद्रित और केंद्रित महसूस करने की अनुमति देता है । 

Conclusion | निष्कर्ष 

जब हमारे शरीर में  मूलाधार चक्र जागृत होता है, और ऊर्जा मुक्त रूप से प्रवाहित होती है, तो यह हमारे जीवन के सभी पहलुओं में सकारात्मकता लाती है।

एक स्वस्थ और संतुलित जड़ चक्र हमारी सांसारिक प्रवृत्ति से एक मजबूत संबंध बनाता है। यह समग्र आत्मविश्वास में सुधार करता है और आत्म-मूल्य की भावना को बढ़ाता है।

इसकी समग्र ऊर्जा चुनौतीपूर्ण समय के दौरान सभी को साहस और दृढ़ता का उपयोग करने की अनुमति देती है।

राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

नक्षत्रो एवं लग्न के विषय में अधिक जानने के लिए जन्म माह और जन्म दिनाँक के आधार पर सम्पूर्ण भविष्य जानने के लिए ” जन्म से शिखर तक ” पढ़े।