फेंगशुई (feng shui) एक प्राचीन चीनी कला है। जिसके द्वारा आसपास मौजूद वस्तुओं की ऊर्जा के साथ आपकी ऊर्जा के मध्य संतुलन एवं सामंजस्य स्थापित करने का प्रयास किया जाता है। 

इस कला का उपयोग कर अपने आसपास की सकारात्मक ऊर्जा को जागृत कर सकते है। जो हमारे बेहतर जीवन के मार्ग को प्रशस्त करने में सहायक हो सकती है। 

फेंग शुई का शाब्दिक अर्थ है, “हवा और पानी” अथार्त फेंगशुई दो शब्दों “फेंग” और “शुई” से मिलकर बना है, जिसमे फेंग का अर्थ है “हवा” तथा शुई का अर्थ है “पानी”। 

चीन में प्राचीन काल से हवा एवं पानी को ब्रह्मांडीय ऊर्जाओं के प्रवाह को निर्देशित एवं निर्धारित करने के लिए आवश्यक माना गया है। 

History of feng shui | फेंगशुई का इतिहास

यह एक प्राचीन कला एवं विज्ञान पद्धति है, जिसकी उत्पत्ति 3,000 साल पहले चीन में हुई थी। फेंगशुई के उपयोग के कुछ प्रमाण कम से कम 6,000 साल पहले के भी मिले हैं।

इसमें भौतिकी, दर्शन, खगोल विज्ञान तथा ज्योतिष सहित विद्वानों के अध्ययन की विभिन्न शाखाओं के तत्व शामिल हैं। 

चीनी संस्कृति में हवा और पानी को अच्छे स्वास्थ्य से जोड़कर देखा जाता है। इसी कारण इस कला को अच्छे सौभाग्य से जोड़कर देखा जाता है।

इस विद्या में ताओवाद की विचारधारा को सम्मिलित किया गया है, जो कि प्रकृति की समझ तथा उससे मानव जीवन की निकटता से सम्बन्ध रखती है, और मानव जीवन के कल्याण का मार्ग आसान बनाती है। 

चीनी इतिहास में फेंगशुई कला के बहुत सारे अभ्यासी मिलते हैं ,जो इस कला के सिद्धांतों को प्लेसमेंट की कला के रूप में लागू करते हैं।

इस विश्वास के आधार पर कि मनुष्य के रूप में हम उस स्थान से जुड़े हुए होते हैं, जिस पर हम निवास करते हैं।

इस विधा में यह बताया जाता है, कि आपके घर एवं कार्यालय के भीतर कला वस्तुओं का स्थान आपके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में सकारात्मक प्रभाव कैसे डाल सकता है। 

फेंगशुई इस बात को प्रमाण के साथ सिद्ध करता है, कि आपके इस्तेमाल की जाने वाली एवं  सजावटी वस्तुएं यदि सही जगह पर न रखी गयी हों, तो नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ा सकती हैं। 

यांगशुओ तथा  होंगशान संस्कृति द्वारा फेंगशुई के उपयोग की सबसे पहली  ज्ञात एवं प्रमाणित जानकारी प्रदान करती हैं। फेंग शुई कला से सम्बंधित सामान या उपकरण चुंबकीय कंपास के आविष्कार से पहले के इतिहास में भी देखने को मिले हैं। 

जो इस बात को सिद्ध करता है, कि इस कला का उद्भव एवं विकास चुंबकीय कंपास की उत्पत्ति से पहले हो चुका था। 

चीनी दार्शनिक झोउली के अनुसार, फेंगशुई में मूल उपकरण एक सूक्ति भी हो सकता है, हालांकि याओ, हुआंगड़ी तथा अन्य के बारे में कहा गया है, कि उनके पास दक्षिण की ओर इशारा करने वाले रथ जैसे उपकरण भी थे।

Feng shui home | घर में फेंगशुई का उपयोग 

फेंगशुई हमारे जीवन को आकांक्षा के नौ अलग-अलग क्षेत्रों में विभाजित करता है। सामूहिक रूप से वे फेंगशुई में ऊर्जा का मानचित्र बनाए जाते हैं, जिसे बगुआ (bagua) के नाम से जाना जाता है।

feng-shui-home

धन, आशीर्वाद, प्रसिद्धि, प्रतिष्ठा, प्यार एवं  रिश्ते, पूर्वज, परिवार, स्वास्थ्य, भलाई, बच्चे, रचनात्मकता, ज्ञान करियर ,जीवन पथ, मददगार दोस्त और यात्रा के आधार पर बगुआ मानचित्र निर्मित किये जाते है। 

इसका उपयोग यह दिखाने के लिए किया जाता है, कि भवन के क्षेत्र का बगुआ के साथ संरेखण में अपने घर के भीतर सही स्थान पर रंगों, छवियों एवं वस्तुओं का उपयोग करने से आपकी इच्छाओ की पूर्ति में वृद्धि होगी।

भवन योजना के शीर्ष पर इसे जिस स्थिति में रखा गया है, वह भवन के स्थान और कंपास दिशा पर निर्भर करता है। 

Feng shui meaning | अर्थ 

बगुआ का प्रत्येक क्षेत्र विशेष तत्वों, रंगों और छवियों से जुड़ा होता है। बहुत सारे फेंगशुई बगुआ दर्शन वास्तु शास्त्र के दृष्टिकोण से मेल खाते हैं, कि हमारे लिए कौन से रंग और चित्र मायने रखते हैं।

feng-shui-meaning

फेंगशुई की सहायता से हम यह जान पाते हैं, कि रंग हमारी भावनाओं को कैसे प्रभावित करते है। हर दिन हम जो चित्र देखते हैं, वह कैसे हमारा जीवन बदल सकता है, यह सभी बातें इसके माध्यम से जान सकते है।

पीला रंग हमें धूप के बारे में सोचना सिखाता है, जिससे हम हर्षित तथा  ऊर्जावान महसूस कराता है। लाल रंग आप में जोश भरता है। वहीँ गुलाबी रंग रोमांटिक मूड तथा भावनात्मक पहले को जागृत करता है।

आनंदपूर्ण एवं हर्षित छवियां हमको भी आनंदित और उल्लास से भर देती हैं।  हरे-भरे परिदृश्य वाले चित्र हमको जीवन में आगे बढ़ने तथा जोश को बनाये रखने में सहायक होते हैं। 

देखने वालों के लिए सकारात्मक ऊर्जा पैदा करने के लिए फेंगशुई कला आकांक्षा के एक विशिष्ट क्षेत्र से जुड़े रंगों और छवियों का उपयोग करती है।

Yin Yeng | यिन एवं यांग 

यिन और यांग द्वैतवाद की एक अवधारणा है, जो यह वर्णन करती है,  कि प्राकृतिक दुनिया में कितनी विपरीत ऊर्जाएं  होती हैं, जो वास्तव में एक दुसरे की पूरक, परस्पर जुड़ी तथा अन्योन्याश्रित हो सकती हैं। 

फेंग शुई विशेषज्ञ यिन और यांग ऊर्जा का उल्लेख करते हैं।

चीनी दर्शन में यिन शांति का प्रतिनिधित्व करता है तथा यांग का अर्थ है, गति। एक कलाकार जो सिद्धांतों का उपयोग करना चाहता है, वह रेखा, रंग और संरचना के माध्यम से यिन व् यांग के संतुलन को शामिल करता है।

Desirae and Feng Shui | आकांक्षा

बगुआ मानचित्र के एक क्षेत्र में अधिक विस्तार से देखें तो आपको जीवन पथ की छवि दिखेगी जो आपकी इच्छाओ की पूर्ति के लिए बहुत मददगार होती है।

फेंगशुई चित्रों में रास्ता  एक शक्तिशाली प्रतीक होता हैं,जो प्रकृति के साथ आपके संबंध को दर्शाता हैं। आपके करियर या जीवन पथ के साथ वर्तमान से भविष्य तक ऊर्जा के एक सहज प्रवाह का प्रतिनिधित्व भी प्रदर्शित करता हैं।

विभिन्न प्रकार के पौधों तथा रंगों के मिश्रण के साथ जीवंत परिदृश्य में पथ के साथ कला का एक काम यिन और यांग का संतुलन भी बनाना होता है।

फेंगशुई में पेड़ तथा  स्वस्थ पौधे भी आपके सौभाग्य का प्रतीक होते हैं। एक घुमावदार मार्ग अच्छी सकारात्मक फेंगशुई ऊर्जा बनाता है। सकारात्मक ची ऊर्जा धीमी हो जाती है, क्योंकि यह घुमावदार पथ पर यात्रा करती है।

यदि आप जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं, लेकिन आप नहीं जानते कि आप कौन सा रास्ता अपनाना चाहिये, तो एक से अधिक संभावित मार्ग की छवि का उपयोग करें।

यदि आप जानते हैं, कि आप किस दिशा में आगे बढ़ना चाहते हैं, तो कम घुमावदार रास्ते वाली छवियों का प्रयोग करें। 

एक चित्र जिसमे रास्ते के बगल में मजबूत सहायक (यांग) पेड़ तथा बारीक (यिन) नीली घंटियां जो आपको छाया से बाहर निकलने के लिए सूर्य-प्रकाश पथ पर चलने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

हर बार जब आप उस छवि को देखते हैं, तो आपको उन भावनाओं की याद दिला जाती है, जो आपने उससे जोड़ रखी हैं। यदि वह एक ऐसी छवि है। जिसने आपको खुश और संतुष्ट महसूस कराया है। 

दोबारा  फिर से उन चित्रों को देखकर उन भावनाओं को मजबूत करेगा और आपको फिर से खुश एवं  संतुष्ट महसूस कराएगा।

अच्छी फेंगशुई का अर्थ है, प्रकृति, या आपके पर्यावरण, आपके दिमाग और आपकी आत्मा के साथ तालमेल बिठाना।  

यदि आप तनावग्रस्त हैं, तो फेंगशुई के शब्दों में, आपके जीवन में अग्नि तत्व की अधिकता है। चूंकि अग्नि तत्व की अधिकता जल अग्निशामक होता है, अतः आप शांति के लिये प्रकृति में जल तत्व को खोजना चाहेंगे।

 यदि आप अपने जीवन से तनाव को खत्म करना चाहते हैं, तो यह  सलाह दी जाएगी कि ऐसी कला का चयन करें जिसमें जल तत्व शामिल हों, जैसे पेंटिंग।

फेंगशुई कला में यिन एवं यांग को संतुलित करके सही “ची “ ऊर्जा के उत्सर्जन को नियंत्रित किया जा सकता है। इसकी सहायता से आप अपने जीवन में सकारात्मक प्रतिफल की प्राप्ति कर सकते हैं।  

यंत्र कैसे समस्या समाधान कर हमारे जीवन को अधिक सुन्दर बना सकते है, जानने के लिये यंत्रो का जादू (Yantra) भी पढ़े।

वास्तु शास्त्र के सारांश वर्णन के लिए वास्तु शास्त्र परिचय ( Vastu ), और मुख्य द्वार वास्तु ( main door vastu ) भी अवश्य देखे।

राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने।