यह देखा गया है, कि एक संतुलित तथा वास्तु आधारित घर व्यक्ति के जॉब एवं कैरियर के विकास के लिए फायदेमंद साबित होता है। 

तो चलिए जानते हैं, कि जॉब के लिये वास्तु उपाय ( vastu job tips ) किस प्रकार आपको अपने करियर को चमकाने में सहायक सिद्ध हो सकता है। 

हम सबको अपना जीवन निर्वाह करने के लिए धन की आवश्यकता होती है। क्योंकि दैनिक जीवन उपयोगी वस्तुओं की पूर्ति बिना पैसों के मुमकिन नहीं हो पाती है। 

अपने परिवार और अपना जीवन यापन करने के लिए हम सभी किसी न किसी प्रकार से धनार्जन करते हैं। कुछ लोग नौकरी करते हैं, व्यापार करते हैं, खेती करते है। 

किन्तु कई बार हमें हमारी मेहनत अनुसार आमदनी नहीं हो पाती, जिसकी वजह से हमको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। 

जिसकी वजह से हम मानसिक तनाव से पीड़ित हो जाते हैं। कई लोग तो इससे परेशान होकर आत्महत्या जैसे गंभीर कदम भी उठा लेते हैं। 

लेकिन क्या आपने कभी इस विषय पर विचार किया है, कि इसकी सहायता से आप अपने जीवन में आमदनी या धनार्जन को बढ़ाकर अपना जीवन सुखी बना सकते है। 

Vastu Job tips / upay

वास्तु लोगों के करियर के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वास्तु के अनुसार प्रत्येक दिशा हमारे जीवन में कुछ विशेष प्रतिफल प्रदान करने के लिए जिम्मेदार होती है।

vastu-job-tips

घर के लिए इसके नियम कहीं न कहीं कार्यालय में हमारी व्यक्तिगत प्रगति, वरिष्ठों या मालिकों से समर्थन, पदोन्नति, विकास, काम की पहचान और अवसर प्राप्त करना आदि से पर भी प्रभाव डालते है।

उत्तर दिशा और धन / नौकरी लाभ 

जब घर के केंद्र से उत्तर दिशा की गणना की जाती है, तो यह दिशा मुख्य रूप से हमारे जीवन में नौकरी के अवसरों, पदोन्नति और वेतन वृद्धि को नियंत्रित करती है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार यदि आपके घर में उत्तर दिशा असंतुलित होती है, तो हमारा कार्य जीवन चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

उत्तर दिशा को धन के देवता कुबेर का स्थान माना जाता है, इसलिए वास्तु शास्त्र में घर की  इस दिशा को अत्यंत महत्वपूर्ण माना गया है। 

इसी कारण वास्तु शास्त्र किसी को भी अपने घर में उत्तर दिशा में किसी भी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करने वाली वस्तुओं के संग्रह के लिए मना करता है। 

विशेष रूप से आपको इलेक्ट्रॉनिक वस्तुओं को इस दिशा में नहीं लगाना चाहिए। क्योंकि इनसे उत्पन्न होने वाली ऊर्जा नकारात्मकता को बढ़ाकर धनार्जन में बाधक बनती है। 

हर दिशा की अपनी विशेषताएं और तत्व होते हैं, जैसे उत्तर दिशा जल तत्व की दिशा होती है। इस दिशा का जल तत्व धन के निरंतर प्रवाह को सुनिश्चित करता है। 

इसी कारण किसी भी प्रकार की स्थिर ऊर्जा उत्पन्न करने वाली भरी वस्तुओं को भी इस दिशा में लगाने से बचना बेहतर होता है। 

घर में संतुलित उत्तर दिशा ही जीवन में अवसरों का अच्छा प्रवाह ला सकती है, खासकर आय और धन के स्रोत के मामले में।

पूर्व दिशा और धन / नौकरी लाभ 

जो लोग नौकरी में वेतन वृद्धि या पदोन्नति की तलाश कर रहे हैं, उनके लिए पूर्व दिशा का महत्व बहुत अधिक होता है । नौकरी में वेतन वृद्धि एवं पदोन्नति काफी  हद तक पूर्व दिशा से संबंधित होते है।

पूर्व दिशा में वायु तत्व की विशेषताएं होती हैं। वायु तत्व का विस्तार होने पर इसमें पौधे, पेड़ और वनस्पति शामिल होते हैं ,जो विकास कारक ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करते हैं।

इस दिशा में लगे स्वस्थ हरे पौधे या गमले अथवा पूर्व दिशा में बना एक बगीचा आपको नौकरी में विकास मिलने के लिए फायदेमंद माना गया है।

उत्तर पश्चिम दिशा का महत्व

कई बार हमारी पूरी योग्यता का प्रतिफल हमको अपने कार्यक्षेत्र में नहीं मिल पाता, क्योंकि हमारे ऑफिस या कार्यस्थल पर कुछ लोग मिलकर हमारे खिलाफ राजनीति करते हैं। 

ऑफिस में लोगों द्वारा आपके खिलाफ की जाने वाली राजनीति से बचने के लिए वास्तु शास्त्र  के अनुसार मुख्य रूप से उत्तर-पश्चिम दिशा को ध्यान में रखा जाता है।

आपको ऑफिस में वरिष्ठों, बॉस या सहकर्मियों का समर्थन प्राप्त हो, इसके लिए संतुलित ऊर्जा को उत्तर-पश्चिम दिशा सुनिश्चित करती है। ताकि आपको आवश्यकता पड़ने पर अपने सहयोगियों का सही एवं पूरा समर्थन मिले।

इस दिशा में किसी भी प्रकार का वास्तु असंतुलन आपके लिए वरिष्ठों या मालिकों से चुनौतियों का कारण बनता है। जिससे आपके लिए अपने कार्यक्षेत्र पर तरक्की करना मुश्किल हो जाता है। 

इस प्रकार के  चुनौतीपूर्ण कार्यक्षेत्र से बचने के लिए  इस दिशा में अपनी ऊर्जा का आकलन करने के बाद अपनी टीम की तस्वीर या कंपनी का लोगो लगाएं।

अगर आपके कार्यक्षेत्र में चीजें सही से काम नहीं कर रही हैं, तो कभी-कभी इस दिशा में नीले या सफेद रंग के रंगों का उपयोग करने की  सलाह दी जाती है। 

नीले और चमकीले सफेद रंग कुछ गतिज ऊर्जा जोड़ते हैं, जो  वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तर दिशा को संतुलित रखने में मदद करते हैं। 

दक्षिण दिशा का महत्व

वास्तु के अनुसार दक्षिण दिशा आपके कार्यक्षेत्र में तरक्की के लिए किये जाने वाले प्रयासों से आपकी की पहचान दिलाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिशाओं में से एक है।

vastu-job-tips-direction

ऊर्जा के सही संतुलन के बाद इस दिशा में अपने प्रमाण पत्र, उपलब्धियों, ट्राफियों और पुरस्कारों को रखने से कार्यालय में उच्च स्तर की प्रसिद्धि और लोकप्रियता मिलने की संभावना बढ़ जाती है।

 वास्तु अनुसार घर में ऑफिस बैग, लैपटॉप, दस्तावेज या कोई अन्य संबंधित सामान रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है। यदि वास्तु के अनुसार ये सामान सही दिशा में नहीं रखा गया , तो यह आपको अपने करियर के सर्वोत्तम सफलता को नहीं पा सकते है। 

इसलिए वास्तु में यह सलाह दी जाती है कि आपके  नियत कार्यालय सम्बन्धी लाभों का सर्वोत्तम फल प्राप्त करने के लिए, वास्तु के अनुसार उत्तर या पश्चिम दिशा में कार्यालय से संबंधित सामान रखा जाना चाहिए। 

वास्तु अनुसार आपकी नौकरी में सफलता के लिए उपरोक्त सभी दिशाओं को ऊर्जा के किसी भी प्रकार के नकारात्मक उत्सर्जन जैसे शौचालय, कूड़ेदान या अव्यवस्था से मुक्त होने की आवश्यकता होती  है।

यदि आप उपरोक्त दिशाओं में नकारात्मक ऊर्जा उत्सर्जित करने वाले संसाधन स्थापित करते हैं तो आपको नौकरी में नुकसान या मन वांछित लाभ नहीं मिल पाएगा। 

यदि उत्तर दिशा में रसोई या शौचालय का निर्माण किया जाता है, तो जातक को अपने करियर में बार-बार नौकरी या विकास संबंधी चुनौतियों का अनुभव होता रहेगा।

एक विद्वान वास्तु विशेषज्ञ आपको बिना किसी पुनर्निर्माण के शौचालय या रसोई के उपचार के लिए उपचारात्मक उपायों का मार्गदर्शन कर सकता है।

 इसके अलावा, यदि रंग वास्तु के अनुसार नहीं हैं, तो वास्तु विशेषज्ञ बिना किसी पुनर्निर्माण के, विरोधी रंगों के प्रभाव को कम करने के लिए संतुलित रंगों को जोड़ने की सलाह देते हैं।

वास्तु शास्त्र के समाधान, उपचार और शुद्धता के उपयोग के लिए विभिन्न कारकों के बहुत सटीक और गहन विश्लेषण की आवश्यकता होती है, इसलिए एक अनुभवी और विद्वान वास्तु सलाहकार का मार्गदर्शन लेना उचित है।

वास्तु सम्बंधित समस्याओ के हल हेतु वास्तु शांति उपाय ( vastu shanti upay ) एवं विवाह के वास्तु समाधान (Shadi ke vastu upay), गृह प्रवेश वास्तु नियम (Housewarming) भी देखे।

यंत्र कैसे समस्या समाधान कर हमारे जीवन को अधिक सुन्दर बना सकते है, जानने के लिये यंत्रो का जादू (Yantra) भी पढ़े।

वास्तु सम्बंधित अन्य जानकारियों के वीडियो देखने हेतु हमारे यूट्यूब चैनल पर वास्तु परिचय भी अवश्य देखे।

अब आप हिन्दी राशिफ़ल को Google Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने।