काल शब्द का दूसरा अर्थ मृत्यु होता है। इसी कारण कालसर्प योग के तहत जन्म लेने वाला व्यक्ति लगभग जीवन भर मृत्यु तुल्य दुःख और कष्ट का अनुभव करता है।

काल सर्प यंत्र ( Kaal Sarp Yantra ) कालसर्प योग के बुरे परिणामों से उपयोगकर्ता की रक्षा करता है। यह यंत्र व्यक्ति को हर उस काम में सफलता प्राप्त करने में मदद करेगा जो काल सर्प योग के कारण संभव नहीं होगा।

भारतीय ज्योतिष में कालसर्प दोष 144 प्रकार का होता है, इनमे से 12 दोषों को मुख्य माना गया है। कालसर्प योग के साथ जन्म लेने वाले लोगों को  जीवन भर प्रत्येक क्षेत्र में संघर्ष का सामना करना होता है। 

वैसे कालसर्प दोष बुरा दोष नहीं होता है, लेकिन यदि इस दोष की शांति न की जाये तो यह दोष बहुत ही दोषपूर्ण  प्रभाव देता है। 

किसी भी व्यक्ति की कुंडली में यह काल सर्प योग तब बनता है, जब राहु और केतु के बीच सभी ग्रह आ जाते हैं। राहु को सर्प का मुख और केतु को पूंछ माना गया है।

इसी कारण कालसर्प योग के साथ जन्म लेने वाले को तरह-तरह की परेशानियां और समस्यांए घेर लेती हैं।

जो लोग काल सर्प योग से पीड़ित होते हैं, उन्हें नाग पंचमी के दिन पूजा करने और अपने घरों में एक सक्रिय कालसर्प यंत्र लगाने की सलाह दी जाती है।

जाग्रत यंत्र व्यक्ति के जीवन की बाधाओं को दूर करने और सफलता प्राप्त करने में मदद करेगा।

इस दोष और दोष प्रकार और सम्बंधित व्याधियों के बारे में विस्तृत रूप में जानने के लिये Kaal Sarp Dosh पढ़े।

Geometrical Structure of kaal Sarp Yantra | कालसर्प यंत्र की ज्यामिति संरचना

geometrical-structure-kaal-sarp-yantra

इसको आमतौर पर तांबे में उभरा एक ताबीज या एक रहस्यवादी आरेख के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

यंत्र को मनोकामना पूर्ण करने का सबसे सरल उपाय माना जाता है। काल सर्प यंत्र विभिन्न रूपों और आकारों में उपलब्ध होता है। 

दूसरे प्रकार में भोजपत्र पर भी कालसर्प यंत्र को बनाया जाता है। इस यंत्र को भोजपत्र पर उकेरना इस यंत्र निर्माण का एक पारंपरिक तरीका है । 

इस यंत्र का प्रयोग  प्राचीन काल से किया जा रहा है। ऐसा माना जाता है, कि भोजपत्र पर उकेरा गया यंत्र अधिक शुद्ध और ऊर्जावान होता है।

इस प्रकार का यंत्र सम्पूर्ण जीवन काल के लिए उपयोगी होता है। इस यंत्र को गले में पेंडेंट के रूप में भी पहन सकते हैं। यह पेंडेंट आमतौर पर चांदी का बना होता है।

Benifits of kaal Sarp Yantra | काल सर्प यंत्र के लाभ

benifits-of-kaal- sarp-yantra
Credit : lisa runnels

यह यंत्र किसी व्यक्ति की कुंडली में कालसर्प दोष होने पर होने वाले दुष्प्रभावों को कम करने या समाप्त करने में मदद करता है।

कुंडली में कालसर्प दोष के कारण आने वाली बाधाओं और समस्याओं को दूर करने के लिए आवश्यक शक्ति और साहस प्रदान करने के लिए भी फायदेमंद होता है।

इसको स्थापित करने के लिए विशेष रूप से नाग पंचमी के दिन को विशेष माना जाता है। क्योंकि इस दिन इस यंत्र के सभी लाभकारी प्रभावों को प्राप्त करने के लिए अत्यधिक शुभ कहा गया  है।

यह पूजा करने वाले और इस यंत्र के स्वामी को बुरी नजर और आसपास की नकारात्मकता से भी बचाता है।

आपकी कुंडली में राहु और केतु के बुरे प्रभावों को शांत करता है, जिससे आपके जीवन में आने वाली समस्याएं कम होती हैं।

यंत्रो से सम्बंधित विस्तृत जानकारी के लिए यन्त्र का जादू ( Yantra ) अवश्य ही पढ़े।

Kaal Sarp Yantra Pooja | कालसर्प यंत्र पूजा और उपाय प्रक्रिया

kaal-sarp-yantra-pooja

इसका लाभ हर जगह आसानी से मिल जाता है, लेकिन वह जिवंत ऊर्जावान नहीं होता है।

कुछ लोग सोचते हैं, कि कच्चे दूध से माला धोने से यंत्र जीवन भर के लिए सिद्ध बन जाता है, लेकिन ऐसा नहीं है। 

सभी यंत्रों को ऊर्जावान बनाने के लिए अलग-अलग नियम हैं। वैसे ही काल सर्प यंत्र को नाग पंचमी के दिन नाग प्राण प्रतिष्ठा, 11 रुद्राभिषेक और नाग मंत्र, यज्ञ का जप करने से कालसर्प यंत्र सिद्ध होता है। 

कोई भी  यंत्र मनुष्य द्वारा बनाया जाता  है, और इसे वेदों के मंत्रों के माध्यम से सक्रिय किया जाता  है।

ताकि यह व्यक्ति को उच्च शक्ति से जुड़ने में मदद करे। यंत्र को सक्रिय करने की यह प्रक्रिया योगियों द्वारा की जाती है।

इस सक्रिय यंत्र को घरों में रखने की प्रक्रिया भी महत्वपूर्ण है और इसका सही तरीके से पालन किया जाना चाहिए। कालसर्प यंत्र को सिद्ध रखने की प्रक्रिया निम्नलिखित प्रकार से है:

यंत्र को स्थापित करने से पहले पहला कदम शरीर को शुद्ध करना और मन को किसी भी बुरे और नकारात्मक विचारों से मुक्त करना होता  है। 

इसके बाद, जमीन पर एक ऐसी जगह आसन  लगाना होता है जो बाधित न हो और पूर्व दिशा की ओर उन्मुख हो।

फिर दीपक और धूप जलाएं। अपनी आंखें बंद करें और ध्यान करें। आशीर्वाद लेने के लिए अपने देवता की पूजा करें और भगवान से अपनी मनोवांछित इच्छा पूरी करने के लिए कहें।

पूजन चौकी पर ताजे फल और फूल रखें।

यंत्र को शिवजी के चित्र के साथ रखें जो इस यंत्र की शक्ति का प्रतीक है।

इसके बाद किसी भी वृक्ष के किसी पत्ते से शुद्ध जल लेकर अपने ऊपर और फिर वेदी पर छिड़कें।

अब अपनी आँखें बंद करो और उच्च शक्ति पर पूरी ईमानदारी के साथ ध्यान केंद्रित करो और प्रार्थना करो कि भगवान आपकी सभी इच्छाओं को पूरा करें।

Mantras for Kaal Sarp Yantra | कालसर्प यंत्र सिद्धि के लिए बीज मंत्र

“ओम हूम जूम साहा, ओम भुवाह स्वाहा, ओम त्रयंभकम यजामहे, सुंगंधिम पुष्टि वर्धनम, उरुवरु कामिव बंधनन, मृत्युर मुक्ति ममृतत, स्वाहा भु ओम साहा जूम हुम ओम”

इस मंत्र का 21 बार जाप करना होता है तभी यंत्र सिद्ध और अभिमंत्रित हो  पाता है। 

लगातार यंत्र को सिद्ध और अभिमंत्रित बनाये रखने के लिए प्रत्येक  सोमवार के दिन स्नान आदि करके अपनी थाली में कालसर्प यंत्र को सफेद कपड़े पर रख दें।

फिर फूल, फल चढ़ाएं और भगवान शिव का ध्यान करें। ध्यान करने के बाद निम्न मंत्र का जाप करके गाय के कच्चे दूध को १०८ बार चम्मच से यंत्र पर चढ़ाएं।

।।ॐ ह्रीं नमः शिवाय ह्रीं।।

लग्न, वर्षफल, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

अब आप हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने।