9 ways to self-care | स्वयं की देखभाल

भारतीय संस्कृति में स्वयं के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ की स्वयं देखभाल (self-care) करने को विशेष महत्ता दी गई है। शास्त्रों में भी कहा गया है, 'शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम्' अर्थात हमारा स्वस्थ शरीर ही धर्म साधने का एकमात्र…

Continue Reading9 ways to self-care | स्वयं की देखभाल

Swara yoga healing | स्वर योग से रोग निवारण

शरीर में टूटन के साथ दर्द प्रारम्भ होता है, जिससे हमे बुखार आने का अनुमान हो जाता है। जिस प्रकार छीको का आना जुकाम होने का परिचायक होता है। ऐसे लक्षणों के प्रगट होने पर रोग विशेष के…

Continue ReadingSwara yoga healing | स्वर योग से रोग निवारण

Asana Bandhas and Mudra | आसन बन्ध मुद्रा

योग के आठों अंगों का अपना विशिष्ट महत्त्व है, और वे साधक को अपने से अगले अंग के सुयोग्य बनाते हैं। यम और नियम तो भूमिकात्मक अंग हैं, किन्तु शेष छ: अंग तो योग से प्रत्यक्ष और अविभिन्‍न…

Continue ReadingAsana Bandhas and Mudra | आसन बन्ध मुद्रा

Pranayama complete steps | प्राणायाम

योग में सभी के लिए प्राणायाम ( Pranayama ) ही सबसे अधिक कौतुहल का विषय होता है, और हो भी क्यों न सभी योगिक क्रियाओ में इसका एक विशेष स्थान है। प्राणायाम के नित्य अभ्यास को पाप रूपी…

Continue ReadingPranayama complete steps | प्राणायाम

Yoga complete 101 | योग संपूर्ण विवरण

योग ( yoga ) क्‍या है ? मन की वृत्तियों पर काबू पाना ही योग है। योग केवल आसन ही नहीं, आहार, व्यव्हार, अचार विचार के तालमेल से जीवन को सुन्दर बनाने का नाम ही योग है। वर्तमान…

Continue ReadingYoga complete 101 | योग संपूर्ण विवरण

Anahata chakra Reveal | अनाहत चक्र का भेद

हमारे शरीर में अनाहत चक्र (Anahata chakra ) 7 चक्रों में से सबसे प्रभावशाली ऊर्जा केंद्र होता होता है। शुद्ध प्रेम के माध्यम से देवत्व की खोज इस चौथे चक्र को प्रेरित करती है। स्वतंत्र रूप से प्राप्त करने…

Continue ReadingAnahata chakra Reveal | अनाहत चक्र का भेद

Svadhisthana Chakra | स्वाधिष्ठान चक्र

दूसरा चक्र, जिसे स्वाधिष्ठान चक्र ( Svadhisthana Chakra) कहा जाता है, नारंगी रंग से जुड़ा हुआ है, और निचले पेट और आंतरिक श्रोणि में स्थित होता है। "स्वाधिष्ठान" शब्द अपने स्वयं के निवास का अनुवाद करता है।  प्राचीन…

Continue ReadingSvadhisthana Chakra | स्वाधिष्ठान चक्र

Manipur chakra Reveal | मणिपुर चक्र का भेद

हमारे शरीर का तीसरा ऊर्जा केंद्र मणिपुर चक्र या सोलर प्लेक्सिस चक्र ( Solar plexus or Manipur chakra ) होता है। चक्र की स्थिति को नाभि के चार उंगलियां बराबर ऊपर होता है। यह चक्र वह जगह है जहां से आपकी…

Continue ReadingManipur chakra Reveal | मणिपुर चक्र का भेद

Chakras Secret Reveal | चक्रो के रहस्य जाने

कहते है, यदि आपको ब्रम्हांड ( दुनिया ) को जानना है, तो सबसे पहले स्वयं को जानो। चक्रो ( Chakras ) के बारे में जानना और उन्हें सक्रीय करना इसी प्रक्रिया का एक भाग है। चक्रो की स्थिति…

Continue ReadingChakras Secret Reveal | चक्रो के रहस्य जाने

Muladhara Chakra Reveal | मूलाधार चक्र भेद

जो समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखता है, और पुनर्स्थापित करता है। ऊर्जा की पहली और महत्वपूर्ण शक्ति मूलाधार चक्र ( Muladhara Chakra or Root Chakra ) होती है। हमारे शरीर में 7 चक्र मिलकर शरीर के ऊर्जा केंद्रों…

Continue ReadingMuladhara Chakra Reveal | मूलाधार चक्र भेद