भारतीय संस्कृति में स्वयं के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ की स्वयं देखभाल (self-care) करने को विशेष महत्ता दी गई है। शास्त्रों में भी कहा गया है, ‘शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम्’ अर्थात हमारा स्वस्थ शरीर ही धर्म साधने का एकमात्र साधन है।

यहाँ धर्म से तात्पर्य सारे कर्तव्यों और कार्यो के निर्वहन से है। सभी व्यस्तताओं के बीच समय निकालना और खुद पर ध्यान केंद्रित करना कठिन हो सकता है।

जब हम अपने आप पर ध्यान केंद्रित करने की बात करते हैं, तो हमारा मतलब यह नहीं है कि आप सुबह देर तक सोये या महीने में एक रविवार को फिल्म देखने जाएं।

हमारा मतलब वास्तव में अपना ध्यान अंदर की ओर मोड़ने और अपनी भावनाओं के साथ जुड़ने, अपने लक्ष्यों को समझने से हैं।

यह सुनिश्चित करने के लिए कुछ समय चिंतन में बिताने से है, कि आप जीवन में और अधिक परिश्रम कर रहे हैं जो आप करना चाहते हैं और अपनी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं।

Why is self-care so important | खुद पर ध्यान देना क्यों जरुरी है ?

अपने आप पर ध्यान केंद्रित करना एक अहंकार की तरह प्रतीत होता है, लेकिन यह इससे बिलकुल विपरीत है। यह हमें न केवल अपने लिए बल्कि अपने आस-पास के सभी लोगों के लिए बेहतर इंसान बनने में मदद करता है।

why-is-self-care-so-important
Why is self-care so important | खुद पर ध्यान देना क्यों जरुरी है ?

यह हमें आगे बढ़ने, स्वास्थ्य पर ध्यान देने, भलाई की भावना में सुधार करने और एक स्वस्थ जीवन शैली का को अपनाने में मदद करता है जो हमारी आत्मा के साथ तालमेल बिठाता है।

बर्कले विश्वविद्यालय में एक अध्ययन किया गया जिसमे उन प्रतिभागियों को खुश पाया गया जब उनके पास दूसरों की मदद करने और खुद पर भी ध्यान केंद्रित करने में संतुलन था।

आत्म-सुधार बड़ा और भारी लग सकता है और सभी बड़े बदलाव करने या जीवन में आप जो चाहते हैं उसे जानने के बारे में सब कुछ असहज महसूस कर सकते हैं।

यह हमेशा आसान नहीं होता है, विशेष रूप से विशाल सांस्कृतिक और जीवन परिवर्तन के बाद हम सभी अभी-अभी महामारी से जूझ रहे हैं।

अपने आप पर ध्यान केंद्रित करना सीखा जा सकता है। छोटे छोटे कदम उठाकर स्थायी परिवर्तन और बदलाव लाकर जो आपको आत्मविश्वास तथा जीवन ऊर्जा से भर देगा।

यह हमें आलसी होने से बचाता है, ताकि हम अपने लक्ष्यों और अपने मानसिक स्वास्थ्य में आगे की और बढ़ सके।

9 ways of self-care | स्वयं की देखभाल के 9 तरीके

यहां कुछ छोटी और सरल युक्तियां दी गई हैं, जिनकी मदद से आप स्वयं पर ध्यान केंद्रित करना सीख सकते हैं। साथ ही अपने दैनिक जीवन में देखभाल और विचार के लिए समय निकाल सकते हैं।

शादी के बाद पति पत्नी के बीच के अंतरंग सम्बन्धो ( Married life vs sex) और संभावित समस्याओ को जानने के लिए लिंक पर क्लिक करे।

सेक्स और उससे जुड़े सम्बन्धो के विषय में जानने के लिये सेक्स और संबंध (sex bonding in relationship ) भी पढ़े।

आइये जानते है, कि किस तरह मंगल की विभिन्न राशियों में स्थिति हमारे यौन जीवन को प्रभावित (How Mars affects sex life) करती है।

सभी 12 राशियों के यौन व्यव्हार को जानने और समझने के लिये यौनसुख राशि प्रभाव (12 Zodiac sex behavior) लिंक पर जाये।

आपके लग्न को जानने के पश्चात उपयुक्त साथी जानने के लिए सर्वोत्तम सहचर (Best 5 zodiac sex partner) पर क्लिक करे और जाने।

1 Basic of self-care | आधारभूत बिंदु

यह बड़े लक्ष्य निर्धारण के बारे में नहीं है, कभी-कभी उठाये गये छोटे-छोटे कदम भी बड़ा अंतर पैदा कर देते है। आत्म-प्रेम को अपनाना यह सुनिश्चित करने के साथ शुरू हो सकता है कि आपकी आधारभूत ज़रूरतें पूरी हो रही हैं।

basic-of-self-care
Basic of self-care | आधारभूत बिंदु

इसका मतलब है, पर्याप्त नींद लेना, पर्याप्त पानी पीना, एक आसान व्यायाम, दिनचर्या का लक्ष्य रखना, कुछ ताजी हवा और अपने भौतिक शरीरकी रोज जांच करना।

इन छोटी-छोटी महत्वपूर्ण बातों को करने से सोच में बड़ा बदलाव आ सकता है।

यह देखभाल और आत्म-प्रेम की नींव है, जो प्रेरणा को उत्तेजित कर सकती है और आपके लिए बड़ी चीजों को प्राप्त करने के लिए तैयार महसूस करने के लिए द्वार खोल सकती है।

2 Self talk | खुद से संवाद करना

शब्द मायने रखते हैं। हम सभी अपने जीवन में प्यार करने वाले लोगों के साथ संवाद स्थापित करने की महत्ता को समझते है। लेकिन जब हम अपने बारे में बात करते हैं तो हम हमेशा एक एक जैसा नहीं सोचते है।

self-talk
Self talk | खुद से संवाद करना

आत्म-करुणा तब भी मायने रखती है जब हमारे मन में व्याप्त विचारों की बात आती है। हम जानते हैं कि कभी-कभी नकारात्मक विचारो का सामना करना आसान नहीं होता है।

लेकिन इस बात को लेकर सचेत रहना कि वर्तमान क्षण में हमारा आंतरिक एकालाप कैसे सुधर रहा है और यह पहचानना कि हमारे विचार हमें कैसा महसूस कराते हैं, यह आपके सबसे बड़े सकारात्मक परिवर्तनों में से एक हो सकता है।

स्वयं के प्रति दयालु होना सीखना हमेशा आसान काम नहीं होता है लेकिन यह अधिक सुखी जीवन का मार्ग है। अपने जीवन में देखें कि कैसे आत्म-चर्चा हमें चिंता को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है।

3 Micro habits matter | छोटी छोटी आदतों का महत्त्व

जब हम व्यक्तिगत विकास के बारे में बात करते हैं तो यह सब बहुत भारी लग सकता है क्योंकि हम आमतौर पर हम रोज की समस्याओ में उलझे रहते है।

micro-habits-matter
Micro habits matter | छोटी छोटी आदतों का महत्त्व

पर क्या आपने सोचा है कि क्या हम अपनी नौकरी, अपने रिश्ते, जीवन में अपने वर्तमान स्थान से खुश हैं?

ये प्रश्न मायने रखते हैं लेकिन जब हमारे मानसिक स्वास्थ्य की बात आती है तोयह और अधिक महत्त्व के हो जाते है और हमें आगे बढ़ने का स्पष्ट संकेत देखने या न देखने का कारण बन सकते हैं।

यही हम हमारी छोटी छोटी आदते बदलकर अंतर ला सकते है। हर यात्रा एक छोटे कदम से शुरू होती है और हर बदलाव एक क्षण से शुरू होता है।

छोटे कार्य बड़े लक्ष्यों को अधिक प्राप्त करने योग्य बना सकते हैं, जैसे सुबह 5 मिनट योग, हर शाम डायरी में नोट लिखना, छोटी छोटी बचत करना। ये वह छोटी छोटी आदते है, जो आपको उस बड़े लक्ष्य के करीब ले जाते हैं।

4 Write every day | रोज डायरी लिखे

डायरी लिखने के लिए आपको लेखक बनने की आवश्यकता नहीं है। हर दिन कुछ पैन लिखना आपके विचारो को क्रम से लगाकर पड़ने जैसा है।

write-every-day
Write every day | रोज डायरी लिखे

यह आपके मन में गुप्त रूप से चल रही उन सोच या चिंताओं को जानने में मदद करता है जिससे आप जूझ रहे है। यह उन बातो को समझने और आपको बेहतर महसूस करने में मदद करता है।

कुछ का मानना है कि हमे सुबह के समय लिखना चाहिये , क्योकि इस समय हमारा मस्तिष्क तार्किक रूप से सक्रीय नहीं रहता है जिससे हम हमारे मन में चल रही बातो को सही सही लिख पाते है।

इसे आपके अलावा कोई नहीं पड़ेगा पर आप इसे पढ़कर अपने बारे में बातो को जानकर हैरान हो जायेंगे।

इस प्रकार लिखने का लाभ खुद के लिये व्यस्त दिनचर्या से थोड़ा समय निकलना है। लिखने के लिए समय देना स्वयं के लिए समर्पित समय है, जो अपने आप पर और जीवन के बारे में आपकी भावनाओं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए दे रहे है।

5 Hobby | शौक जो मदद करे

अपने आत्मसम्मान को बढ़ावा देने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है नई रुचियों को जगाना। शौक रखना, अपनी पसंद की किसी चीज़ के लिए समय देना एक शानदार तरीका है।

hobby
Hobby | शौक जो मदद करे

चाहे वह पानी में तैरना हो, संगीत वाद्ययंत्र सीखना हो, डांस क्लास लेना हो या क्राफ्ट की क्लास लेना हो।

अध्ययनों से पता चला है कि शौक, अनुभव, विविध रुचियां और नई चीजें चिंता को कम करने और मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों को सुधारने में मदद करने के लिए वास्तव में फायदेमंद हो सकती हैं।

एक शौक चुनने से हमें खुद को बेहतर तरीके से जानने और समझने में भी मदद मिलती है। बस यह सुनिश्चित कर लें कि आप किसी की देखा देखि करने के बजाय कुछ ऐसा चुनते हैं जो आप वास्तव में करना चाहते हैं।

या किसी ऐसे काम को सीखना, जो आपको लगता है कि आपको करना चाहिए।

6 Taking a regular social media break | सोशल मीडिया ब्रेक लें

यहां तक ​​​​कि जब हम सभी जानते हैं कि सोशल मीडिया एक स्मोक एंड मिरर एक्ट हो सकता है। हम में से ज्यादातर केवल अच्छी चीजें साझा करते हैं।

taking-a-regular-social-media-break
Taking a regular social media break | सोशल मीडिया ब्रेक लें

इंस्टा, टिकटॉक और फेसबुक अभी भी हमें अस्वस्थता और तुलनात्मक व्यव्हार की ओर धकेल सकते हैं।

सोशल मीडिया से नियमित ब्रेक लेने से आप उस चक्र से बाहर निकल सकते हैं और तुलना कर सकते हैं और स्वयं को वास्तविक दुनिया से जोड़ सकते हैं।

सोशल मीडिया पर लगातार बने रहने से हम बाहरी व्यक्ति के दृष्टिकोण से स्वयं के जीवन को अलग करने या अनुभव करने का कारण बन सकते हैं।

हम अपने आप को उन लोगों की काल्पनिक दृष्टि से देखते हैं, जो हमारे सोशल मीडिया फीड को देखते हैं, और यह हमें सफलता, स्वस्थ संबंधों और वास्तव में एक खुशहाल जीवन के अपने विचारों से अलग होने का एहसास करा सकता है।

बहुत अधिक सोशल मीडिया अकेलेपन को बढ़ा सकता है, यह फ़ोमो (FOMO) नामक बीमारी का कारण बन सकता है। उस समय को बर्बाद करते है, जिसे आप समाज सेवा अथवा लोगो के साथ वास्तविक क्रिया कलापो में उपयोग कर सकते है।

इसका अर्थ यह नहीं है कि हम सोशल मीडिया एप्स हटा दे, लेकिन समय-समय पर एक निर्धारित ब्रेक लेना वास्तव में अच्छा हो सकता है।

7 Apply solid strategy | ठोस रणनीति अपनाये

जीवन में हम अक्सर उन स्थितियों में फस जाते है जिनसे बचने की कोशिश करते है। चाहे वह ऑफिस का एक बुरा दिन हो, रिश्तेदारों से बहस हो, बहुत अधिक काम का बोझ हो।

apply-solid-strategy
Apply solid strategy | ठोस रणनीति अपनाये

हम इन सब बातो से होने वाले तनावों से कैसे बच सकते है, ताकि इनके निराकरण की रणनीति बना सके।

ध्यान या व्यायाम आपके विचारो को अन्य स्थान पर केंद्रित करने में सहयोग करता है, जब आप भावनात्मक रूप से कमजोर पड़ जाते हो।

आपको उन छोटी छोटी बातो के लिये ना कहना सीखना होगा जिसे करने में आप असहज महसूस करते है।

यह उस समय को टालने के विषय में है, जब आप घबराहट महसूस करते हैं या जल्दी गुस्सा हो जाते हैं। यह कार्यों में मदद मांगना या संचार कौशल का अभ्यास करना हो सकता है।

परिस्थितियों से सामना करने की विधिवत योजना बनाने की समझ महत्वपूर्ण उपहारों मे से एक है, क्योंकि यह इस विचार को पुष्ट करता है कि आप एक सक्षम व्यक्ति हैं जो खुद को सबसे अच्छी तरह से जानते हैं।

ऐसे विकल्प चुन सकते हैं जो आपकी खुद की भलाई को बढ़ा सकें। यह सह-निर्भरता को कम करने में मदद करता है, आत्म-सम्मान को मजबूत करता है, और यह दैनिक जीवन को सामान्य रूप से अधिक संगठित रूप से रहना सीखाता है।

8 Change yourself accordingly | परिप्रेक्ष्य के अनुसार बदले

अपने आप को नियमित रूप से जाँचना उन लोगों के लिए एक अच्छी बात है, जिन्हें लोगो से जुड़े रहने और अपने मूल स्वाभाव के अनुसार कार्य करना पसंद है।

change-yourself-accordingly
Change yourself accordingly | परिप्रेक्ष्य के अनुसार बदले

दूसरों को अपने साथ काम में शामिल करना और खुशी के लिए किसी और की बातो का पालन करना आसान तरीका हो सकता है।

अपने आप पर ध्यान केंद्रित करने का तरीका सीखने का अर्थ है परिप्रेक्ष्य को वापस अपने आप में बदलना और यह खोजना कि आप अपना जीवन कैसा दिखना चाहते हैं।

अपनी गहरी इच्छाओं के संपर्क में रहने का अर्थ है उन क्षणों के संपर्क में रहना जो हमें संतुष्ट, जीवंत और उत्साहित महसूस कराते हैं।

इसका मतलब है कि आंतरिक विकर्षणों को पीछे छोड़ना सीखना और अपने जीवन के सभी अलग-अलग क्षेत्रों को देखना और यह देखना कि यह क्या फिट बैठता है और क्या बहुत तंग लगता है।

जितना अधिक हम खुद को जानते हैं और खुद को बेहतर महसूस करते हैं, हम ऐसे विकल्प चुनते हैं जो हमारी स्वयं की भावना के साथ काम करते हैं।

किसी के कुछ कहने अथवा करने पर आप उसे अच्छे से सुनने और चिंतन के बाद ही प्रतिक्रिया दे।

9 Make a wish list | लक्ष्यों की लिस्ट बनाये

उन सभी चीजों की एक सूची बनाये जो आप जीवन में हासिल करना चाहते हैं और वे सभी चीजें जो आपके लिए मायने रखती हैं। यह वो बाते होना चाहिए जिन्हे आप एक बार लिखकर ना भूल जाये बल्कि तब तक दोहराये जब तक इसे पूरा न कर ले।

make-a-wish-list
Make a wish list | लक्ष्यों की लिस्ट बनाये

शुरू में यह लिस्ट लम्बी हो सकती है, जिसे आप ध्यान से पढ़ने और दोहराने पर पायेंगे कि बहोत सारे बिंदु एक सामान है। यह आपको समझने में मदद करता है, कि आपके लिये क्या महत्वपूर्ण है।

आप किस बात को लेकर व्याकुल है, अवचेतन में लगातार क्या चल रहा है और आप अपने मूल्यवान जीवन के साथ क्या करना चाहते हैं।

सूचि बनाना न केवल आपके सपनों और इच्छाओं को पूरा करने के लिए समय निकालने हेतु बाध्य करेगा। बल्कि आपको भविष्य के अपने स्वयं के विचारों के साथ समय बिताने के लिए आवश्यक अवसर प्रदान करेगा।

बल्कि यह आपको उन्मुख करने, आपको एक विशिष्ट लक्ष्य स्पष्ट करने और आपकी मदद करने में भी मदद करता है। एक ऐसे जीवन को पाने के लिये जिसे आप वास्तव में जीना चाहते है।

आप अपने आप पर ध्यान केंद्रित करने के लिए दुनिया से एक छोटा ब्रेक कैसे लेते हैं? क्या आपको लगता है कि लंबे समय में लक्ष्य और सपने देखना महत्वपूर्ण है?

हमें यह सुनना अच्छा लगेगा कि आपकी अपनी आत्मा की खोज कैसी चल रही है। टिप्पणियों में हमारे साथ साझा करें।

विवाह योग, कब, कहा और कैसे आदि प्रश्नो से सम्बंधित समाधान के लिये Marriage लेख पढ़े और अपनी जिज्ञासा को विराम दे।

प्रेम विवाह के योग एवं प्रेम विवाह की सफलता के विषय में जानने के लिये Love Marriage पर जाये। अपने और प्रेमी से विवाह सम्बंधित शंकाओ के बारे में जाने।  

फैशन, संस्कृति, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने। टेलीग्राम पर जुड़ने हेतु हिन्दीराशिफ़ल पर क्लिक करे।

Leave a Reply