हमारी सुंदरता बढ़ाने में हमारे बालों का बहुत बड़ा योगदान होता है। चाहे महिला हो या पुरुष बिना बालों के दोनों ही की सुंदरता अधूरी होती है। 

महिलाओं के लिए तो काले, घने एवं लम्बे बाल रखना या होना उनकी सुंदरता के लिए अनिवार्य रूप से महत्वपूर्ण हो जाता है। विशेष रूप से भारतीय महिलाओं की सुंदरता बिना बालों के अधूरी होती है। 

पुरुषों में भी अपने बालों को सजाने एवं सँवारने को लेकर उत्सुकता देखी जा सकती है, क्योंकि अक्सर पुरुष गंजेपन का शिकार अधिक होते है। 

बालों की सुंदरता को बनाए रखने के लिए उनकी देखभाल जरुरी है। जिसकी शुरुआत बालों की प्रकृति एवं उनके प्रकार (Types of hair and texture) जानने से कर सकते है। 

Types of hair and their texture | बालों की बनावट एवं उनके प्रकार 

आपके बालों का प्रकार एवं उनकी बनावट आपके आनुवंशिक गुणों सहित कई कारकों द्वारा निर्धारित की जाती है। सीधे या स्ट्रैट बाल दुनिया भर में सबसे आसानी से देखने को मिलते है। 

types-of-hair
Types of hair and their texture | बालों की बनावट एवं उनके प्रकार 

वैसे प्रत्येक व्यक्ति के बालों की एक अनूठी बनावट होती है। जो कई सारे कारणों द्वारा निर्धारित होती है, जैसे आपका आनुवंशिक इतिहास, स्वास्थ्य एवं वातावरण। 

आमतौर पर बालों की बनावट चार प्रकार की होती है –

1 टाइप 1 – स्ट्रेट (strait hair),

2 टाइप 2 – वेवी ( wavy hair),

3 टाइप 3 – कर्ली ( Curly hair),

4 टाइप 4 – टाइट कर्ल्ड ( Tight curly hair ).

बालों के प्रकार एवं  बनावट को बालों के कर्ल पैटर्न, घनत्व, सरंध्रता, चौड़ाई तथा  लंबाई के आधार पर ए, बी एवं सी में विभाजित किया जाता है।

उदाहरण के लिए ढीले कर्ल (Loose curly types hair) वाले व्यक्ति टाइप 3 ए होंगे और तंग कर्ल (Tight curly types hair) वाले व्यक्ति टाइप 3 बी होंगे।

Type one hair | टाइप 1 बाल

 इस श्रेणी में सीधे या स्ट्रैट बाल आते हैं ,जो कर्ल या छल्लेदार नहीं होते हैं। इस प्रकार के बालों में सबसे अधिक चमक होती है। यह सबसे लचीला होता है तथा  इसे नुकसान पहुंचाना मुश्किल होता है। 

इस प्रकार के बालों को कर्ल करना भी बेहद मुश्किल होता है, क्योंकि स्कैल्प सीबम स्कैल्प से सिरे तक आसानी से फैल जाता है।

जिसकी वजह से  यह बाल सबसे ऑयली टाइप के बाल बन जाते हैं जिससे उनका स्टाइल करना मुश्किल हो जाता है।

Type Two hair | टाइप 2 बाल

दूसरी प्रकार के बाल लहराते बाल होते हैं ,जो सीधे एवं  घुंघराले के बीच का होता  हैं। लहराते बालों  में सीधे बालों की तुलना में घुंघराला होने की अधिक संभावना रहती है। 

कुछ प्रकार के लहराते बालों को स्टाइल करना आसान होता है, जबकि अन्य स्टाइल के लिए थोड़ा मुश्किल होता हैं।इस प्रकार के बाल उलझते अधिक हैं। 

Type Three hair | टाइप 3 बाल

इस श्रेणी में घुंघराले बाल आते हैं जो “S” या “Z” अक्षर की तरह दिखते हैं। यह बालों का प्रकार आमतौर पर घना होता है। इस प्रकार के बाल अक्सर आपके निवास एवं जन्म स्थान की  जलवायु पर निर्भर करते है। 

घुंघराले बाल आसानी से क्षतिग्रस्त हो सकते है। स्वस्थ, अच्छी तरह से परिभाषित कर्ल बनाए रखने के लिए उचित देखभाल की आवश्यकता होती है।

Type Four hair | टाइप 4 बाल

इस प्रकार के  बाल वे होते हैं, जो बहुत अधिक कुंडलित या घुंघराले होते हैं। यह अक्सर बहुत अधिक घनत्व के साथ नाजुक होते है। 

इस प्रकार के बाल गीले होने पर सिकुड़ते हैं, क्योंकि इसमें अन्य प्रकार के बालों की तुलना में कम क्यूटिकल परतें होती हैं। यह अन्य प्रकार के बालों की तुलना में क्षति के लिए अधिक संवेदनशील रहते है।

Factors determining hair type | बालों के प्रकार निर्धारण के कारक  

किसी भी स्त्री या पुरुष के बाल किस प्रकार के होंगे ये बहुत सारी बातों पर निर्भर करता है। जिनके आधार पर ही उनकी लम्बाई, घनत्व एवं क्वालिटी निर्भर करती है। 

factors-determining-hair-type
Factors determining hair type | बालों के प्रकार निर्धारण के कारक  

Genetic factor | अनुवांशिक कारक 

वैज्ञानिक शोध से पता चलता है, कि बालों का प्रकार एवं उनकी बनावट आपको अपने परिवार से अनुवांशिक आधार पर प्राप्त होती है ।

बालों के प्रकार और बनावट में योगदान देने वाला एक “योजक” गुण भी है। इसका मतलब होता है, कि बालों में कर्ल की मात्रा इस बात पर निर्भर करती है, कि कितने घुंघराले बाल वाली जीन विविधताएं आपको विरासत में मिली हैं।

ये ज़रूरी नहीं की जिन बच्चों के माता-पिता के बाल घुंघराले हो उनके बच्चे के बाल भी घुंघराले ही हों। क्योंकि उन दोनों के स्वयं के अनुवांशिक गुण अलग होते हैं। 

घुंघराले बालों वाले माता-पिता के बच्चे भी अपने किसी पूर्वज के सीधे बाल वाले जीन ले सकते हैं, जिसकी वजह से उनके बाल सीधे हो सकते हैं। 

बालों की बनावट को निर्धारित करने के लिए जीन एक दूसरे के साथ बातचीत भी कर सकते हैं। यही कारण है, कि एक परिवार में अलग-अलग लोगों के बाल अलग-अलग हो सकते हैं।

Environment or surroundings | पर्यावरण या परिवेश 

बालों के प्रकार को प्रभावित करने वाले कारकों में जीन ही एकमात्र कारक नहीं होता है। आपके बालों पर पर्यावरण का भी बड़ा प्रभाव पड़ सकता है, खासकर उनकी बनावट पर।

वहीँ मौसम की नमी बालों को घुंघराला या उलझा हुआ बना सकती है, जबकि ठंडी हवा बालों को रूखा एवं भी  बेजान बना सकती है।

आपकी बढ़ती उम्र के साथ बालों का टेक्सचर भी बदलता रहता है। समय के साथ -साथ आपके बाल भूरे, पतले, रूखे, एवं सूखे होते जाते हैं।

आपके सिर की तेल ग्रंथियां उम्र के साथ सिकुड़ती जाती हैं। आप अपने बालों की देखभाल या उनको  स्टाइल कैसे करते हैं, इससे भी उनकी बनावट बदल सकती है। 

आपके बार- बार ब्लीचिंग, हेयर कलरिंग, स्टाइलिंग टूल्स का इस्तेमाल, स्ट्रेटनिंग या  पर्मिंग करने से आपके बालों का टेक्सचर बदल सकता है।

How to change your hair | क्या आप अपने बालों का प्रकार बदल सकते हैं

आपके बालों के आनुवंशिकी को बदलना संभव नहीं है। लेकिन कई घरेलू या सैलून उपचार ऐसे हैं ,जो बालों को सीधा या कर्ल करने में मदद कर सकते हैं। 

उनमें से कुछ लंबे समय तक चलने वाले होते हैं, जबकि अन्य अस्थायी होते हैं। ये सब भी इन उपायों की क्वालिटी पर निर्भर करता है। 

Ways to change hair type | बालों के प्रकार को बदलने के उपाय 

आप अपने बालों के प्रकार को कुछ विशेष देखभाल एवं उपायों के द्वारा बदल सकते है, किन्तु कई बार ये प्रयोग या उपाय आपके बालों को खराब भी कर सकते हैं। 

Permanent Perming or Straightening | स्थायी पर्मिंग या स्ट्रेटनिंग 

यह एक रासायनिक प्रक्रिया होती है, जो आपके बालों को स्थायी रूप से बदल देती है। यह आपके बालों में प्रोटीन बॉन्ड को बदल देता है।

इस्तेमाल किए गए रसायनों के आधार पर परिणाम कई सालों तक चल सकते हैं। किन्तु जो नए बाल उगेंगे, वे व्यक्ति के मूल बालों के प्रकार के ही होंगे। 

इस उपचार को करने पर आपको अपने बालों की अत्यधिक देखभाल करना पड़ती है। अन्यथा आपके बाल ख़राब भी हो सकते हैं। 

Home remedies | घरेलू उपचार या उपाय 

अपने बालों के रंग एवं उनके प्रकार को बदलने के लिए आप घर में भी कुछ वस्तुओं का प्रयोग करके बदल सकते हो। 

इनमे घरेलू सामान के द्वारा या बाजार में मिलने वाले रसायनो या सामान का सहारा आप ले सकते हो। इनसे कुछ समय के लिए आपके बाल बदल सकते हैं। 

घर में हिना या मेहँदी का प्रयोग करके आप अपने बालों का रंग बदल सकते हैं। इसके लिए बाजार में कई प्रकार के हेयर कलर एवं डाई भी मिलती हैं। 

बालों को कर्ल करने के लिए भी आप घरेलू संसाधनों या बाजार में मिलने वाले हेयर कर्लर्स का प्रयोग कर सकते हो, जिससे कुछ समय के लिए आपके बाल घुंघराले हो सकते है। 

बालों को स्ट्रैट या सीधा करने के लिए आप घरेलु तरीके भी अपना सकते है, या बाजार में मिलने वाले करेटीन ट्रीटमेंट के सामान लेकर भी अपने बाल सीधे या स्ट्रेट कर सकते हो। 

Temporary ways to change hair type | बालों को बदलने के अस्थायी तरीके

आपके बालों के प्रकार को बदलने वाले उपायों के परिणाम आम तौर पर अगली बार  बाल धोने तक चलते हैं। कुछ अस्थायी तरीके या उपाय इस प्रकार हैं।

Blow Drying | हवा से बाल सुखाना

इस तरीके में आप बालों को कर्ल या सीधा करने के लिए गोल या सपाट ब्रश का उपयोग करके बालों पर गर्म या ठंडी हवा से ब्लो ड्राईिंग करते है, जिससे आप जैसा चाहे आपके बाल हो सकते है। 

Hair care products | बालों की देखभाल करने वाले उत्पादों का उपयोग करना

शैंपू, कंडीशनर, लीव-इन कंडीशनिंग उत्पाद, हेयर सीरम और हेयरस्प्रे का उपयोग बालों के स्ट्रैंड को कोट करने, फ्रिज़ एवं  कर्ल को कम करने और हाइड्रेशन में सुधार करने के लिए किया जाता है।

Using hair oil | बालों में तेल लगाना

नारियल तेल, बादाम का तेल, हर्बल तेल या तेलों के संयोजन जैसे प्राकृतिक तेलों का उपयोग करने से बालों की बनावट में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

उन्हें पूरे स्कैल्प तथा  बालों पर लगाया जा सकता है, एवं 30 से 60 मिनट के बाद शैम्पू और कंडीशनर से धोया जा सकता है। यह सप्ताह में कई बार किया जा सकता है।

Hair styling tools | हेयर स्टाइलिंग टूल

इसमें आप  हेयर स्ट्रेटनर या कर्लर जैसे हेयर स्टाइलिंग उपकरण बिजली से चलने वाली गर्म प्लेटों का उपयोग करते हैं जो बालों को जल्दी से सीधा या कर्ल कर सकते हैं। 

ये उपयोग में आसान और त्वरित होते हैं, किन्तु कई बार ये आपके बालों को नुकसान दे सकते है। इसलिए इनका लगातार प्रयोग करने से आपको बचना चाहिए। 

उपरोक्त वस्तुओं एवं उपायों से आप अपने बालों की प्रकृति एवं प्रकार को बदल सकते है। किन्तु सबसे पहले आपको अपने बालों को संभालना होगा एवं उसी के आधार पर उनकी देखभाल करना होगी। 

कम उम्र में बालो के सफ़ेद होने की समस्या आरम्भ होना आजकल आम बात हो चली है।

बालो को सुरक्षित तरीके से कलर करना एक समस्या। बालो की इस समस्या के समाधान के लिए नेचुरल हेयर कलर के तरीके ( Natural Hair Color ) पर क्लिक करे।

बालो का झड़ना, बालो का काम होना या पतला होने जैसी समस्या के समाधान के लिए हेयर फॉल के नुस्खे ( hair fall ) पढ़े।

फैशन, संस्कृति, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने।

Leave a Reply