लहराते काले घने बाल हर आयु वर्ग के महिला पुरुष में समान रूप से पायी जाती है। यदि आपके बाल स्वस्थ होते है तो उससे आपके व्यक्तित्व में निखार आ जाता है। 

चिपचिपे या बेजान रूखे केश किसी के भी रूप सौन्दर्य को ख़राब कर देते हैं। चाहे पुरुष हो या महिला दोनों ही चाहते हैं,कि वो अपने व्यक्तित्व एवं रूप से दूसरों को अपनी और आकर्षित करें। 

बालों का इसमें बहुत बड़ा योगदान होता है। आपके सलीके से कटे केश एवं केश सज्जा आपको सदैव दूसरों के मध्य एक अलग पहचान दिलाने में मदद करती है। 

सुन्दर केश सज्जा के लिए आपके बालों का साफ़ एवं चिपचिपाहट रहित होना अत्यंत आवश्यक होता है। यदि आपके बाल चिपचिपे एवं बेजान होंगे तो उससे आपका व्यक्तित्व भी प्रभावित होगा।

हम सभी चिपचिपे (Oily Hair Problem), बेजान एवं रूखे बालों की समस्या का सामना कभी न कभी करते ही है। सवाल यह है कि इस समस्या का समाधान क्या है? 

तो चलिए जाने का प्रयास करते हैं, कि आसानी से आप और हम इस सामान्य सी दिखने वाली बहुत बड़ी समस्या को कैसे दूर कर सकते हैं। 

सामान्यतः चिपचिपे बालों की समस्या को दूर करने का सबसे आसान रास्ता चुना जाता है बालों को धोना। किन्तु बार-बार बाल धोना इस समस्या का स्थायी समाधान नहीं है। 

जब बात बालों को धोने की आती है, तो हम सबके मन में जो सबसे पहला प्रश्न आता है, कि हमको अपने बाल कब और कितनी बार धोने चाहिए। 

दूसरा सवाल है, कि बालों को किस प्रकार के साबुन, शैम्पू या अन्य संसाधन से धोया जाना बालों को मज़बूत, घना एवं सुन्दर बना सकता है। 

सबसे अधिक सवाल महिलाओं के हृदय में अपने बालों की दैनिक समस्याओं को लेकर उठते हैं। उसके लिए वह अक्सर अपने से बड़ी महिलाओं, अपनी सहेलियों एवं लुभावने विज्ञापनों का सहारा लेती हैं। 

कई बार यह सारे उपचार एवं अलग-अलग उत्पादों का प्रयोग आपके बालों की समस्याओं को दूर करने के बजाय समस्या को बढ़ा देते हैं। 

Oily Hair Problem | चिपचिपे बालों की समस्या

हम सभी आजकल भिन्न-भिन्न प्रकार की केश समस्याओं का सामना कर रहे हैं इनमे सबसे ज़्यादा देखी जाने वाली आम समस्या तैलीय बाल है। 

इस समस्या का समाधान सिर्फ बालों को धोना नहीं होता। क्योंकि कई दफा बार-बार बाल धोने से हमारी तेल ग्रंथिया अधिक सक्रिय हो जाती हैं। 

तैलीय बालों की लगातार बनी रहने वाली समस्या से आपके स्कैल्प में खुजली, रूसी और यहां तक ​​कि सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस भी हो सकता है। 

इस समस्या से काफी हद तक छुटकारा पाने के लिए आप कुछ साधारण से उपाय अपनाकर परेशानी को बढ़ने से रोक सकते है। 

जब भी आप अपना केश सज्जा या हेयर कट (hair cut ) के विषय में सोचते हैं, तो जिस बात का ध्यान आपके मन में सबसे पहले आता है, वो होता है, आपके चेहरे का आकार। 

बालो के विषय में कुछ भी करने से पहले हमे हमारे बालो के बारे में सही सही जानकारी होना जरुरी है। अपने बालो के बारे में जानने के लिये बालो के प्रकार ( types of hair ) को भी पढ़े।

बालो को सुरक्षित तरीके से कलर करना एक समस्या। बालो की इस समस्या के समाधान के लिए नेचुरल हेयर कलर के तरीके ( Natural Hair Color ) पर क्लिक करे।

बालो का झड़ना, बालो का काम होना या पतला होने जैसी समस्या के समाधान के लिए हेयर फॉल के नुस्खे ( hair fall ) पढ़े।

प्राचीन समय की केश सज्जा विशेषकर भारत की केश सज्जा के इतिहास के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिये प्राचीन केश सज्जा (Hair style history) अवश्य पढ़े।

Wash oily hair properly | बालों को उचित प्रकार से धोना

यदि आप अपने बालों के हिसाब से प्राकृतिक तत्वों से बने शैम्पू या साबुन का प्रयोग करते हैं अपने बाल धोने के लिए, जिससे तैलीय बालों की समस्या काफी हद तक दूर हो सकती है। 

wash-oily-hair-properly
Wash oily hair properly | बालों को उचित प्रकार से धोना

प्राकृतिक संसाधनों में क्षारीय तत्व कम पाए जाते हैं, जिससे आपकी तेल ग्रंथियां सही रूप में सक्रिय रहती हैं तथा आपके बाल भी स्वस्थ एवं लहराते हैं। 

Hair washing frequency | बाल धोने की आवृत्ति

इस बात को लेकर हम सभी बहुत ज़्यादा भ्रमित रहते हैं, कि सप्ताह में कितनी बार अपने बालों को धोना उचित रहता है। 

आप अपने बालों को सप्ताह में कितनी बार धोये यह आपके बालों की प्रकृति पर निर्भर करता है। कई बार कुछ लोगों का स्कैल्प इस प्रकार होता है कि बार-बार साबुन या शैम्पू के प्रयोग से तैलीय हो सकता है। 

वहीँ कुछ लोगों के बाल अधिक बार धोने से वो रूखे एवं बेजान हो जाते हैं। इसलिए सप्ताह में कितनी बार बाल धोना उचित होगा यह आपके बालों पर निर्भर होगा। 

आपके बालों को सूट करने वाले प्राकृतिक तत्वों वाले शैम्पू से यदि आप रोज़ भी अपने बालों को धोते हैं तो आपके तैलीय बालों की समस्या कम हो सकती है। 

यदि आप चाहें तो बिना साबुन या शैम्पू  लगाए रोज़ाना तथा साबुन या  शैम्पू के साथ हफ्ते में दो से तीन बार बाल धो सकते हैं। 

Apply conditioner  | बालों के सिरों को कंडीशनर करना

अक्सर अपने बालों को स्ट्रेट एवं चमकदार बनाने के लिए हम कंडीशनर का प्रयोग करते है। किन्तु इसका सही प्रकार से कैसे प्रयोग किया जाए इससे अनजान होते हैं। 

apply-conditioner
Apply conditioner  | बालों के सिरों को कंडीशनर करना

आप जब भी बालों को कंडीशनर करें तो ध्यान रखें, कि केवल बालों की लम्बाई एवं सिरों पर ही इसको लगाएं। स्कैल्प पर कंडीशनर लगाने से आपके बाल तैलीय हो जायेंगे। 

कंडीशनर का प्रयोग करने के पश्चात् बालों को अच्छी तरह सादे पानी से धोना बिलकुल भी न भूलें, क्योंकि यदि आपने बाल धोये नहीं तो वह सूखने पर कड़क हो जायेंगे। 

Use the proper product | केश संबंधित उत्पादों को पहचानना 

हम अपने बालों को काला लंबा,घना एवं लहराता हुआ बनाने के लिए अक्सर हम कई सारे तेल, शैम्पू, हेयर कलर तथा कंडीशनर्स इत्यादि का प्रयोग करते हैं। 

use-the-proper-product
Use the proper product | केश संबंधित उत्पादों को पहचानना 

किन्तु अक्सर अपने बालों की प्रकृति के अनुसार इन उत्पादों का चयन न करने से या अधिक केमिकल वाले उत्पादों के प्रयोग से आप अपने बालों को नुकसान पहुंचाते हो। 

इसलिए हमेशा बहुत ही बुद्धिमानी से इन उत्पादों का चुनाव करें। जहाँ तक हो सके प्राकृतिक प्रसाधनों का प्रयोग ही बेहतर रहता है। 

एंटी-फ़्रिज़ लेबल वाले या आपके बालों को चमकदार बनाने के लिए तैयार उत्पादों का प्रयोग या चुनाव अत्यंत सावधानी से करें। 

मुल्तानी मिट्टी, नींबू, ग्रीन टी एक्सट्रैक्ट,समुद्री नमक तथा जौ के पानी से बने शैंपू आपके बालों पर अद्भुत रूप से काम कर सकते हैं।

Use dry shampoo | ड्राई शैम्पू का प्रयोग 

कई बार अचानक से हमको किसी पार्टी या घूमने जाना पड़ जाता है, लेकिन हमारे पास समय या संसाधन नहीं होता बाल धोने का। 

ऐसे में आप ड्राई शैम्पू के प्रयोग से बड़ी आसानी से अपने बालों को तरोताज़ा बना सकते है तथा मनचाहा हेयर स्टाइल अपना सकते है। 

ये आपको पाउडर एवं शीट्स के रूप में आसानी से बाजार में मिल जाता है। इसकी सहायता से आप अपने चिपचिपे बालों को ठीक कर पाते हो। 

Avoid too many experiments | बालों के साथ अधिक प्रयोग करने से बचें 

अक्सर हम सभी अलग-अलग हेयर स्टाइल बनाने के लिए ब्लो ड्राई, हेयर स्ट्रेटनर, रोलर इत्यादि का प्रयोग करते हैं। विज्ञापनों के आधार पर हेयर सीरम, हेयर स्पा उत्पादों का प्रयोग करते हैं। 

बार-बार बालों को कंघी करते हैं ये सभी बाते आपके बालों की सेहत को प्रभावित कर सकती हैं। इसलिए इन सब चीज़ों का लगातार प्रयोग करने से बचें। 

Hair styles for oily hair | चिपचिपे बालों के साथ हेयर स्टाइल 

ऐसा नहीं, कि यदि आपके बालों में तेल लगा है या बाल धुले नहीं हैं तो आप उनको स्टाइल नहीं कर सकते। आप ऐसे हेयर स्टाइल का चुनाव भी कर सकते हो,जो तैलीय बालों पर अच्छे से बन सकें। 

आप हाई बन,चोटी बनाकर खुद को सुन्दर एवं आकर्षक बना सकते हो। बस आप जो भी केश सज्जा का चुनाव करें वो देखने में आप पर अच्छी लगे। 

Using coconut oil | नारियल के तेल का प्रयोग 

 ज़रूरी नहीं कि आप अपने बालों को सुन्दर एवं स्वस्थ रखने के लिए हमेशा महंगे उत्पादों का प्रयोग करे। आप बहुत सारी हेयर प्रोब्लेम्स से छुटकारा केवल नारियल तेल के प्रयोग से भी पा सकते हैं। 

नारियल का तेल आपके बालों की प्राकृतिक नमी को बनाये रखता है,रूसी एवं बाल झड़ने की समस्या को भी दूर करता है। 

Using an Apple Sider | एप्पल साइडर का प्रयोग 

बालों की प्राकृतिक नमी को बनाए रखने एवं तेल ग्रंथियों को नियंत्रित करने के लिए आप एप्पल साइडर का प्रयोग कर सकते हैं। 

इसके लिए बालों को शैम्पू करने के पश्चात् अपने सर धोने के पानी में कुछ ढक्कन इसके मिलकर बालों को धोने से आपकी समस्या समाप्त हो सकती है। 

Avoid too much touching | बालों को बार-बार छूने से बचें

बालों को बार-बार छूने से भी उनमे संक्रमण होने की सम्भावना बढ़ जाती है अथवा स्कैल्प को सहलाने से तेल ग्रंथियां सक्रिय हो कर आपके बालों को तैलीय बना सकता है। 

Stress free lifestyle | तनाव मुक्त जीवनशैली 

आपके बालों की अधिकतर समस्याओं के पीछे का मुख्य कारण आपकी तनावपूर्ण जीवन शैली भी हो सकती है, क्या कभी आपने इस विषय पर गौर किया है?

उच्च कोर्टिसोल का स्तर आपके सीबम स्राव को उच्चतम स्टार तक पहुँचाने का कारण बन सकता है, इसलिए इससे पहले कि आप अपने बालों को कोसना शुरू करें। 

अपने आप से जाँच करें और देखें कि क्या आपके तनाव का स्तर नीचे-निम्न या आसमान छू रहा है। तनाव न केवल तैलीय बालों का कारण बन सकता है। 

बल्कि जब हम तनावग्रस्त होने पर अधिक विचलित होते हैं, तो हम अपने चेहरे और बालों को छूने की अधिक संभावना रखते हैं, जिससे आपकी दिमाग एक सन्देश प्रसारित करके आपकी तेल ग्रंथियों को सक्रिय कर देता है। 

आप उपरोक्त बातों का ध्यान रखते हुए अपने बालों की काफी साडी समस्याओं की जड़ तक पहुँच सकते हैं। एवं मूल कारण के पता चलते ही समस्या का निराकरण कर सकते हैं। 

शुक्र सौंदर्य और कला का ग्रह है, जितना अपनी कुंडली में शुक्र की स्थिति को समझते हैं। उतना ही ज्योतिष (Hair Style astrology) का उपयोग बालो के लिए कर सकते हैं।

फैशन, संस्कृति, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने। टेलीग्राम पर जुड़ने हेतु हिन्दीराशिफ़ल पर क्लिक करे।

Leave a Reply