गैसलाइटिंग (Gaslighting) मनोवैज्ञानिक तरीके से हेरफेर का एक रूप है, जिसमें कोई एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के मन में आत्म-संदेह एवं  भ्रम उत्पन्न करने का प्रयास करता है।

जिसके कारण उस व्यक्ति को यह महसूस होने लगता है कि उसके साथ जो कुछ भी हो रहा है वह सच नहीं है। बल्कि उसकी वास्तविकता कुछ और है। 

समय के साथ-साथ उस व्यक्ति को अपने अस्तित्व एवं विवेक पर ही संदेह होने लगता है तथा समय के साथ यह समस्या बढ़ती जाती है। 

आखिरकार अंत में पीड़ित व्यक्ति पूरी तरह से वास्तविकता से दूर हो जाता जाता है। उसके लिए वही सच होता है, जो सामने वाला व्यक्ति उसको दिखा रहा होता है। 

गैसलाइटिंग की समस्या मुख्य रूप से रोमांटिक रिश्तों में अधिक होती है, लेकिन यह दोस्ती या परिवार के सदस्यों के बीच भी उत्पन्न होना कोई असामान्य बात नहीं है। 

जो लोग दूसरों को गैसलाइट करते हैं, उनमें भी कई  मानसिक स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। जिसकी वजह से वह दूसरों पर इस प्रकार का प्रयोग करने में नहीं चूकते हैं। 

वे इस प्रकार के भावनात्मक शोषण का उपयोग मित्रों, परिवार के सदस्यों, या यहां तक ​​कि सहकर्मियों के साथ छेड़छाड़ करने के लिए दूसरों पर शक्ति का प्रयोग करने के लिए करते हैं। 

The Origin of the Term “Gaslighting” | गैसलाइटिंग शब्द की उत्पत्ति 

कुछ तथ्य बताते हैं कि गैसलाइटिंग शब्द की उत्पत्ति 1938 के नाटक “एंजेल स्ट्रीट” से हुई है। अल्फ्रेड हिचकॉक ने इस नाटक को 1944 की फिल्म “गैसलाइट” में बदल दिया।

कहानी में एक आदमी की है, जो अपनी पत्नी को समझाता है कि वह पागल हो रही है। ताकि वह उसे झूठ बोलकर उसके यहां चोरी  कर सके। वह पूरी तरह से अपनी पत्नी के मस्तिष्क को अपने वश में करना चाहता था। 

जब वह अपनी पत्नी के गहनों को देखने के लिए अटारी में रोशनी चालू करता है, तो नीचे गैस की रोशनी कम होने लगती है। 

वह अपनी पत्नी से कहता है कि यह सब उसकी कल्पना में है, उसे विश्वास दिलाता है कि रोशनी कम नहीं हो रही है। यही से मनोचिकित्सक इस शब्द का उपयोग करने लगे। 

यदि आप अपने जीवन में कुछ भी करना या पाना चाहते है उसके लिए आपका मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ होना जरूरी है। अतः स्वयं की सही देख्भाल के लिए “स्वयं की देखभाल” (self-care) जरूर पढ़े।

What is Gaslighting | गैसलाइटिंग क्या है ?

यह एक ऐसी मनोवैज्ञानिक तकनीक है, जिसके द्वारा कोई भी व्यक्ति दूसरे व्यक्ति की वास्तविकता की धारणा को कमजोर कर सकता है। 

gaslighting

जब कोई आपको गैसलाइट कर रहा होता है, तो आप खुद अपनी यादों, हाल की घटनाओं एवं धारणाओं का अनुमान उसकी कही बातों के आधार पर करने लगते हैं। 

आप पर यह प्रक्रिया दोहराने वाले व्यक्ति के साथ संवाद के बाद आप अचंभित होकर सोच सकते हैं कि क्या वास्तव में आपके साथ कुछ गड़बड़ चल रहा है।

दुसरे व्यक्ति द्वारा आपको यह सोचने के लिए विवश किया जा सकता है, कि आप वास्तव में किसी चीज़ के लिए दोषी हैं या आप बहुत संवेदनशील हैं।

गैसलाइटिंग आपको भ्रमित कर सकती है तथा आपको अपने निर्णय, स्मृति, आत्म-मूल्य एवं  समग्र मानसिक स्वास्थ्य पर सवाल उठा सकती है।

अधिक व्यापक रूप से समझने समझने के लिए आप देव आनंद अभिनीत “ज्वेल थीफ ” नामक चलचित्र को देख सकते है।

इस फिल्म में देव आनंद अभिनीत चरित्र को अस्पष्ट मनोवैज्ञानिक प्रक्रियाओं के प्रयोग द्वारा विश्वास दिलाया जाता है कि वह एक प्रसिद्द चोर है।

शादी के बाद पति पत्नी के बीच के अंतरंग सम्बन्धो ( Married life vs sex) और संभावित समस्याओ को जानने के लिए लिंक पर क्लिक करे।

सेक्स और उससे जुड़े सम्बन्धो के विषय में जानने के लिये सेक्स और संबंध (sex bonding in relationship ) भी पढ़े।

आइये जानते है, कि किस तरह मंगल की विभिन्न राशियों में स्थिति हमारे यौन जीवन को प्रभावित (How Mars affects sex life) करती है।

सभी 12 राशियों के यौन व्यव्हार को जानने और समझने के लिये यौनसुख राशि प्रभाव (12 Zodiac sex behavior) लिंक पर जाये।

आपके लग्न को जानने के पश्चात उपयुक्त साथी जानने के लिए सर्वोत्तम सहचर (Best 5 zodiac sex partner) पर क्लिक करे और जाने।

Types of Gaslighting | गैसलाइटिंग के प्रकार 

गैसलाइटिंग कई प्रकार से आपके साथ की जा सकती है। इसको आप पर करने वाला व्यक्ति अलग-अलग तरीकों से आपको अपने प्रभाव में लेने के लिए इसकी तकनीकों का सहारा लेता है। 

types-of-gaslighting

Is your partner lying to you?  | साथी द्वारा आपसे झूठ बोलना 

जब आपका कोई नज़दीकी आपको अपने प्रभाव में लेने के लिए गैसलाइटिंग की मनोवैज्ञानिक तकनीक का सहारा लेता है, तो वह आपसे अलग-अलग प्रकार से झूठ बोलता है। 

आपका साथी आपसे खुलेआम झूठ बोलता है तथा आपको अपनी बात का यकीन करवाने के लिए हर संभव प्रयास करता है। 

गैसलाइटिंग का शुरुआत ही झूट बोलने के साथ होती है। आपको ऐसी बातों द्वारा यकीन दिलाया जाता है, जो आपका साथी आपको मनवाना चाहता है। 

Defamation | आपको बदनाम करना

जो लोग आपको गैसलाइट करते हैं, वे आपको लेकर दूसरों के बीच अफवाहें फैलाते हैं जिसकी सहायता से वह दूसरों के मध्य आपकी वह छवि निर्मित कर सके जो वह आपकी बनाना चाहते है। 

वे दूसरों को यह बताते हुए कि आप भावनात्मक रूप से अस्थिर या “पागल” लगते हैं, वे आपके बारे में चिंतित होने का दिखावा कर सकते हैं। 

दुर्भाग्य से यह रणनीति बेहद प्रभावी हो सकती है तथा  कई लोग पूरी कहानी जाने बिना आपसे दुर्व्यवहार करने लगते हैं।

इसके अतिरिक्त, कोई व्यक्ति जो गैसलाइटिंग में संलग्न है, आपसे झूठ बोल सकता है तथा आपको बता सकता है कि अन्य लोग भी आपके बारे में ऐसा सोचते हैं। 

भले ही  लोगों ने आपके बारे में कभी भी बुरा न कहा हो, लेकिन जो व्यक्ति आपको गैसलाइट कर रहा है, वह आपको यह विश्वास दिलाने के लिए हर संभव प्रयास करेगा कि वे ऐसा करते हैं।

Is your partner deceiving you? | आपको भ्रमित  करना

गैसलाइटिंग करने वाला अक्सर आपको भ्रमित करने का प्रयास करता है ,वह आपके सामने बातों अथवा चीज़ों को इस प्रकार पेश करता है जिससे आप वास्तविकता को लेकर भ्रमित रहें। 

जब आप उनसे किसी बात के विषय में प्रश्न करते है,तो वह आपके प्रश्न का उत्तर न देकर उल्टा आपसे ही प्रश्न पूछने लगते है जिससे वह बात को आसानी से बदल सकें। 

Control your thoughts and feelings | विचारों एवं भावनाओं को नियंत्रित करना 

गैसलाइटिंग करने वाला व्यक्ति आपकी भावनाओं को अक्सर अपने अनुसार नियंत्रित करने का प्रयास करता है। इसके लिए वह आपको एहसास करता है, कि आपकी भावनाएं उतनी मज़बूत नहीं हैं। 

आप यदि किसी विषय पर अपने विचार रखते हो,तो वह आपको एहसास करता है की उस विषय पर आपका ज्ञान अत्यंत अल्प है,जिसकी वजह से आपके विचार उतने सही नहीं। 

जब आप किसी ऐसे व्यक्ति के साथ व्यवहार करते हैं जो आपके विचारों, भावनाओं या विश्वासों को कभी स्वीकार नहीं करता है, तो आप स्वयं उनसे सवाल करना शुरू कर सकते हैं। 

इसके अलावा, आप कभी भी मान्य या समझा हुआ महसूस नहीं कर सकते हैं, जो बेहद अलग, शर्मनाक एवं  किसी भी परिस्थिति का सामना करने में मुश्किल हो सकती  है।

Blaming | दोष लगाना 

दोष-स्थानांतरण एक अन्य सामान्य गैसलाइटिंग रणनीति है। आपके द्वारा की जाने वाली प्रत्येक चर्चा को किसी न किसी तरह से मोड़ दिया जाता है, जहाँ आप किसी ऐसी चीज़ के लिए दोषी होते हैं जो आपके द्वारा हुई ही नहीं  थी। 

यहां तक ​​​​कि जब आप इस बात पर चर्चा करने की कोशिश करते हैं, कि दुर्व्यवहार करने वाले का व्यवहार आपको कैसा महसूस कराता है। 

तो वे बातचीत को मोड़ने में सक्षम होते हैं, ताकि आप खुद से ही सवाल कर सकें कि क्या आप उनके बुरे व्यवहार का कारण हैं। 

Deny wrongdoing | दोष स्वीकार नहीं करना

जो लोग बदमाशी एवं भावनात्मक शोषण में लिप्त होते हैं, वे इस बात से इनकार करने के लिए अत्यंत शातिर  होते हैं, कि उन्होंने कुछ भी गलत किया है। वे अपने दोषपूर्ण कार्यो की जिम्मेदारी लेने से बचने के लिए ऐसा करते हैं। 

यह इनकार गैसलाइटिंग के शिकार को अनदेखा, अनसुना महसूस करा सकता है, उन्हें लग सकता है कि जैसे कि उन पर प्रभाव का कोई महत्व नहीं है। 

यह बात  पीड़ितों के लिए समस्याओं से आगे बढ़ना या धमकाने या गाली-गलौज से उबरना भी बहुत कठिन बना देती है।

Using emotions as a weapon | भावनाओ का हथियार के रूप में प्रयोग

कभी-कभी, जब पूछताछ के लिए इनको बुलाया जाता है या पूछताछ की जाती है, तो गैसलाइट्स वाला व्यक्ति स्थिति को सुचारू करने के लिए दयालु एवं  प्रेमपूर्ण शब्दों का उपयोग करता है। 

वे आपसे कुछ ऐसा कह सकते हैं, “आप जानते हैं, कि मैं आपसे कितना प्यार करता हूं। मैं आपको जानबूझकर चोट नहीं पहुंचाऊंगा, क्या तुम यकीन कर सकते हो कि मैं तुम्हारा बुरा चाहूंगा। 

इसका सबसे अच्छा उदाहरण भारतीय सास-बहु वाले सीरियल है, जिसमे सास अथवा बहु द्वारा अपने बेटे या पति पर इसका प्रयोग किया जाता है।

Old memories that have been manupulated  | पुरानी बातें दोहराना 

एक व्यक्ति जो गैसलाइट किसी को करता है, वह पुरानी बातों एवं  कहानियों को उसके पक्ष में नए तरीके से फिर से बताता है। 

उदाहरण के लिए, यदि आपके साथी ने आपको दीवार की तरफ कभी धक्का दिया था तथा आप बाद में इस पर चर्चा कर रहे हैं, तो वे कहानी को मोड़ सकते हैं। 

अपने आप को सही साबित करने के लिए, वह कहेगा कि आप ठोकर खा गए थे। उसने तो आपको संभाला लेकिन आप अपने आप दीवार से टकरा गए। 

इससे आपको लगेगा कि शायद आपको ही सही से घटना के विषय में याद नहीं है, और आप दूसरे पर व्यर्थ ही शक कर रहे हो। 

Epilogue | निष्कर्ष 

उपरोक्त तथ्य आपको बताते है, किस प्रकार कोई व्यक्ति आपको मनोवैज्ञानिक तरीके से अपने अनुसार कार्य करने के लिए बाधित कर सकता है। 

वह आपको उस बात का विश्वास दिला देगा जो वास्तव में संभव नहीं है। वह पूरी तरह आपको अपने नियंत्रण में कर सकता है, भले ही उसके पीछे उसकी कोई दुर्भावना न हो। 

विवाह योग, कब, कहा और कैसे आदि प्रश्नो से सम्बंधित समाधान के लिये Marriage लेख पढ़े और अपनी जिज्ञासा को विराम दे।

प्रेम विवाह के योग एवं प्रेम विवाह की सफलता के विषय में जानने के लिये Love Marriage पर जाये। अपने और प्रेमी से विवाह सम्बंधित शंकाओ के बारे में जाने।  

फैशन, संस्कृति, राशियों अथवा भविष्यफल से सम्बंधित वीडियो हिंदी में देखने के लिए आप Hindirashifal यूट्यूब चैनल पर जाये और सब्सक्राइब करे।

हिन्दी राशिफ़ल को Spotify Podcast पर भी सुन सकते है। सुनने के लिये hindirashifal पर क्लिक करे और अपना मनचाही राशि चुने। टेलीग्राम पर जुड़ने हेतु हिन्दीराशिफ़ल पर क्लिक करे।


Leave a Reply